BEST PLACES TO VISIT IN MONSOON IN INDIA

TOURIST-MAP in India

BEST PLACES TO VISIT IN MONSOON

There is no doubt that India is a country of diversity; Diversity in landscapes, cultural diversity, linguistic diversity, etc. It is the vastness of their heritage and the beauty of the places that transform into a fairytale country. Speaking of the breaks, there are several; By purpose, time, budget and mood. You only need one reason or better to say a break to explore its versatility, from Ladakh’s rough temperament to wavy touch of Pondicherry and the golden sands of Rajasthan to the history of the Nalanda University’s ruins, in every scan There is a new face of “Incredible India” visitors displacing this beautiful country of South Asia usually being confused that are the best places to be included in your vacation route or where to go in India during the moesson. But you must be a lover of rain and a hard soul to enter here if India is not short of fascinating places. Watch this wonderful holiday moesson definitely a magic spell and fill your holiday with adventurous memories she will cherish forever.

If you find Holiday packages in India with airfare  at Swantour.com They are offering all domestic and international packages, cheap domestic air tickets, International flights tickets, and discount on airfare, online hotels and many mores and Get our great prices on India tour packages today!

Monsoon Destinations in South India

MONSOON DESTINATIONS IN SOUTHERN INDIA

Munnar Ultimate Place to fall in Love

MUNNAR: LAST PLACE TO FALL IN LOVE

A destination for honeymooners, family tourists, wildlife seekers, adventure lovers and nature lovers Munnar is undoubtedly an ideal place to just fall in love! Given the topography full of plantations extensive tea, green valleys, valleys, brooks, cliffs, and of course rough rocks give the break as needed at the speed of sight, this oasis of Kerala is at its best revitalizing form during the monsoon. South India Tour Packages

Monsoon Period: June-September

Best Activity: Trekking, bird watching, hiking and tourism, especially beautiful waterfalls.

Kodaikanal Land of Magical Vistas

KODAIKANAL: COUNTRY OF MAGICAL VIEW

Another fascinating destination monsoon in India, Kodaikanal symbolizes the name “The Gift of the Forest” in the true sense. With the sun and clouds clogging with each other, and sometimes hammering it, it’s really spectacular to see the fresh look of this hill station of Tamil Nadu and smell the scent of mud washed by rain. But planning your visit during the rainy season only if you dare to treat monsoon madness. Hampi Tour

Monsoon Period: July And August

Best Activity: Hiking, cycling and tourism, but high risk of landslides due to slippery mountains

Coorg: Fusion of Beauty and Tranquility

COORG: FUSION BEAUTY AND REST

If you’re in Coorg during the rainy season, then it’s natural to have a smile of a million dollars! Just head out and enjoy the barn just to break a spectacular view of Coorg. The fresh wind, pleasant climate, fog covered, and fresh green views are some of the results they admire the period of dew in the area. Do not miss the rich smell of hot coffee! Coorg Bekal Tour

Monsoon Period: June-September

Best Activity: Excursions but take into account the lixivia’s and snakes and do not try any extreme adventure activity.

Athirapally Kerala—Perfect Combo of Calmness and Wilderness

ATHIRAPALLY: KERALA-COMBO PERFECTLY CALM AND DESERT

As we begin the trip to Athirapally and when you leave here, you will realize why it is said that the desired place is Moesson in Kerala. Commonly known as the “Niagra of India”, Athirapally Falls is the most popular attraction in the area and it seems surprising during the monsoon. Follow the steep path to the falls and enjoy the music whispering of birds that perfectly synchronize with the loud voice of the waterfall. Kerala Tour Packages

Monsoon Period: June-September

Best Activity: Excursions but take into account the lixivias and snakes and do not try any extreme adventure activity.

WAYANAD: THE POINT OF REJUVENATION

Wayanad No doubt Wayanad is one of the best hill stations in South India. And this means there is no lack of beautiful natural views. But what makes it so special is the Wayanad adventurous side. The strategic location between the mountains of West Ghats gives travelers enormous chances to go hiking, climbing, walking, etc. And to the delight of the holidaymakers, the place also has a special monsoon festival 3 days ‘Splash’ to paint Wayanad As the most popular place moesson in india.

Monsoon Period: June-September

Best Activity: Trekking, Walking and Tourism

KUMARAKOM: ADVENT ADVENTURE

If you want to enjoy Moesson Kumarakom is the place to enjoy. The arrival of Renova sparkling appearance of this peninsula makes emerald green a series of images. Feel the tension and the kilter of weeks in Ashtamudi and Vembanad with heavy wind so you fall on your knees. But it is good to keep an umbrella along with you wherever you go in Kumarakom. Kerala Luxury Package

Monsoon Period: June To September

Best Activity: Ayurvedic therapies and bird-watching

Alleppey Sensuous Touch of Mother Nature

ALLEPPEY: SENSUAL TOUCH OF MOTHER NATURE

Like other tourist spots in Kerala, Alleppey also has a green appearance during the monsoon, but it still counts as one of the best places to visit in Moesson. So what separates him from others? Step into this scenic city and you will soon realize that this as soon as the fuse monson water with ripples on the lake. See the transformants shadows around the enjoyment of a Kerala fish curry and spicy baked Karimeen. A Shikara ride is another interesting attraction and never losing monsoon in Alleppey. Alleppey Tour Packages

Monsoon Period: June-September

Best Activity: Shikara ride, fishing, tourism and enjoy delicious local delicacies.

MONSOON DESTINATIONS IN WESTERN INDIA

Mahabaleshwar Blend of Spirituality and Beauty

MAHABALESHWAR: MIXTURE OF SPIRITUALITY AND BEAUTY

In general, it is advised to avoid traveling during the Mahabaleshwar moesson, but if you have an adventure freak and love wet in the rain go to this Maharashtra hill station. The place has actually been transformed into a paradise with the beginning of the rain. Cool weather, cool breezes, refreshing forest views and the tranquil atmosphere make it one of the best places to visit in India during the moesson. Pune Mahabaleshwar Shirdi Package

Monsoon Period: June-September

Best Activity: Tourism

Khandala Legend of Sahyadris

KHANDALA: LEGEND OF SAHYADRIS

Driving just 3 km from Lonavala Khandala to reach a mountainous country is located in the foothills of Sahyadris range or, better said, the West Ghats. Despite the height of only 625 meters (compared to other hill stations of India) above sea level, Khandala has its own fans and visitors. The place serves as a great time and weekend walk place for people who live nearby, especially for Mumbai, but with the beginning of drizzle, the scenic beauty of flowers rather than like a garden of ancient memories.

Monsoon Period: June-August

Best Activities: Walking

Goa The Much Needed Break

GOA: THE MUCH NEEDED BREAK

There are many reasons to visit Goa during the monsoon. Some of his popular festivals such as Sao Joao-the Santos Pedro and Paul and Bonderam Flag Carnival celebrations fall in the rainy season, bringing a fresh wind of vitality around this little happiness. Along with this enthusiasm, the rains started with a charm of magic in nature, also with attraction such as the Mollem National Park, Dudh Sagar Falls and the Mandovi River, with stunning views of the Goa sand cover. Taj Exotica Goa

Monsoon Period: June-September

Best Activity: Trekking in Amboli Ghats and Cotigao and rafting on the Mandovi River

 

LONAVLA: ENGAGING GREEN CARPETLonavla Captivating Green Carpet

Lonavla or Lonavala is a perfect choice for a stay in the rainy season. As soon as you visit, you will find literal charm in this small mountainous package of Pune. Green fantastic views, beautiful waterfalls, ponds and some beautiful tourist attractions make Lonavla an eye-catcher during the monsoon. With heavy clouds bouncing over his head and Karla Caves and Fort Visapur to take you back in the bygone era, Lonavla emerges as a wonderfully relaxing place. Lonavala Mahabaleshwar Package

Monsoon Period: June-September

Best Activity: Tourism

Panchgani A Date with Rain

PANCHGANI: AN APPOINTMENT WITH RAIN

Drive around 5 hours to Mumbai Panchgani, a small hill station located in the lush Western Ghats. The place is not so popular among honeymooners, but its attraction wetty is enough to stay here for hours or days. Venna Lake, Lingmala Falls, Table Country, horse riding and more things to do and see adding a bang on his Panchgani trip. Celebrate Monsoon with some hot local dishes served in restaurants near the lake.

Monsoon Period: June-September

Best Activity: Tourism

Leh Ladakh Journey down the Memory lane

MONSOON DESTINATIONS IN NORTHERN INDIA

Mussoorie An Eye catching Beauty

LEH LADAKH: TRAVEL THE MEMORY LANE

A great place to consider; To conquer a huge amount; A home to revive and escape a path to the moon, visit Leh Ladakh and get lost in endless beauty. A favorite for adventure lovers, this remote destination of India is truly a place of contrasting beauties: hilly hills desert-crystalline lakes, serene Buddhist monasteries-colorful festivals. Unlike other destinations in India, the monsoon period is considered the best time to capture Leh Ladakh in its memory. Leh Ladakh Tours

Monsoon Period: Ladakh Not Affected By The Monsoon

Best Activity: Trekking, Jeep Safaris and Bikes

Mussoorie An Eye catching Beauty

MUSSOORIE: A STRIKING BEAUTY

You can not ignore the addition of this emerald beauty of Uttarakhand in India moesson travel. Blessed with the beauty of the hills, exotic flora and fauna, and stunning views of the Doon Valley and Shivalik range, Mussoorie is really great during the rainy season. It’s really great to get a glimpse of the clear blue sky with green view. Rishikesh Mussoorie Tours

Moesson Period: July-September

Best Activity: Tourism

Kausani A Nature Trail to Trek

KAUSANI: A NATURE TRAIL FOR TREKKING

When it comes to the best places to visit in India during the moesson, Kausani is proud to be one of the favorites. Individuals who have perfect and unobstructed views of the Himalayan would explore this Uttarakhand gem. It is year-round destination, but if you want a glimpse of the breathtaking beauty of Mother Nature, then visit this place from July to September.

Moesson Period: July-September

Best Activity: Look at the tops of Nanda Ghunti, Trishul, Panchachuli and Chaukhamba of the Himalayas, along with trekking.

Manali Spectacular Show above the Sea

MANALI: SPECTACULAR SHOW OVER THE SEA

It’s really a good idea to start exploring the Indian moesson in the northern region. And the main stop will surely be Manali. Nobody can escape the perfect harmony of green landscapes and snowy mountain peaks. Although it is a bit difficult to travel to Manali during the rainy season, but for adventure lovers it is best time to get the destination. Shimla Manali Tour Packages

Moesson Period: July-September

Best Activity: Trekking

Shimla Gateway to Himalayasshimla

SHIMLA: GATEWAY TO HIMALAYASHIMLA

Dew feeling in the sky that minimizes the buzz of the hot sun, it’s time to go to Shimla, one of the stations most popular and beautiful Indian mountains. Showers show their game in Shimla on a routine basis, but cannot expel the charm of this enchanting city. Happiness walk lanes in the fog or enjoy your favorite coffee at a road restaurant or just enjoy the rest of the raindrops looking magical on their own. Dalhousie Dharamshala Amritsar Tour

Moesson Period: July-September

Best Activity: Exploration

Jaipur Fresh Breeze of Rain Romance

MONSOON DESTINATIONS IN NORTHWEST INDIA

JAIPUR: FRESH BREEZE RAIN ROMANCE

After the sizzling summer it’s time to celebrate the beginning of the monsoon, especially if you’re looking for a trip to Jaipur. Because it is an architectural gem, the city comes alive with a fresh new image of its forts and palaces during the rainy season. Cloudy sky above your head brings a big break to the warm sunny days of sunshine, leaving Jaipur one of the most desirable country outing monsoon. Delhi Agra Jaipur Luxury Tours

Monsoon Period: June-September

Best Activity: Sightseeing

Udaipur Place of Ripples

UDAIPUR: LOCATION RIBBELS

If you really want to visit Udaipur and again and again, then this plan is timetable in the monsoon period. Life in Udaipur, like the beautiful lakes, is in its full bloom during these magic spells clouds. Delicious taste ‘dil Jani’ or give a pepper of taste buds Dal Batti Churma treatment is another great treat Udaipur Moesson. Do not forget to capture their memories of Moesson in the lens. Jodhpur Udaipur Tour Package

Moesson Period: July-September

Best Activity: tourism and boating

Mount Abu A Scenic Vista amidst Desert

MOUNT ABU: A PANORAMA IN THE DESERT

Because it’s a hill station, Mount Abu is a place all year long, but it is striking to see this charming destination when clouds cover air and water drops on the ground. Mount Abu is the right choice for those who provide the perfect dosage of nature, spirituality and adventure. There are numerous temples spread throughout the place. In addition to the beauty of these green view waterfalls are filled with water and the beautiful mountains romancing with fog. Udaipur Mount Abu Tour Package

Monsoon Period: August-September

Best Activities: Walking and trekking

Sightseeing and trekking in India

PUSHKAR TRIP TO ENJOY

When it rains heavy Pushkar in other parts of India, stand up for a beautiful trip to Pushkar not only for the dust balls that you scream or leave the hot sun that gives the tan. But to explore the beautiful and relaxing side of Rajasthan. It’s only during the monsoon the famous Pushkar Lake throws its dry look. Imagination is more romantic than a wake up call peacock, a camel riding in the early morning, a walk through the market as a scout, enjoying spicy Rajasthani dishes, watching the sunset and sunrise listening to folk songs! Rajasthan Desert Tour

Pushkar Journey to Relish

Moesson Period: July-September

Best Activity: Tourism

“For the best deals on holiday packages Monsoon, call us @ + 8287 000 333 Mr. Gaurav Chawla

About NainTara

Nain is the name behind Swan tours, one of the largest travel agencies in India. In addition to being a successful businessman, is also a typical addictive trip that likes to explore the treasures hidden in different angles of India. If it’s not on the road, it’s active with sharing pen travel experiences with much like him. With great interest in India’s rich cultural heritage, he loves to capture memories in your lens.

 

Place To Visit At Port Blair for Honeymoon Vacation

About Port Blair

About Port Blair

Port Blair, the capital of Andaman and Nicobar with beautiful little museums, is a cluster of tin-roofed buildings that wander to the north, east and west and peter in fields and forests in the south. The beaches have a white sand and coral reef and unspilled sparkling water.

The rare flora and fauna, underwater sea life and corals, with crystal clear waters and mangrove basins with unfulfilled fresh air draw every nature lover who tries absolute peace and rest in the mother’s lap. Forest Trekking Short Trip to Andaman

History of Port Blair

History of Port Blair

The history of Port Blair is linked to the history of Andaman and Nicobar Islands. But the first settlement by the British took place in 1789. The second settlement was, in fact, a criminal settlement, adopted in 1858, after the first independence war.

The cellular prison was built to punish Indian Freedom fighters. The punishment was the beginning of the painful story of the massive and terrible prison on Viper Island, followed by the Cellular Failure. Ferry ride to Havelock Island- Port Blair 3 Nights Package

Culture of Port Blair

Culture of Port Blair

People Of All Believers – Hindus, Muslims, Christians, Sikhs etc., And of all languages ​​like Hindi, Bengali, Malayalam, Tamil, Telugu, Punjabi, Nicobari, etc., Living together in complete peace and harmony. Intergovernmental and interregional marriages are common. This amazing racial and cultural mix is ​​correctly described as Mini India.

General information of Port Blair

General information of Port Blair

Place to visit in Port Blair

Port Blair, the capital of this Union area is approximately 1200 km from the east coast of the mainland.

How To Reach in Port Blair

How To Reach in Port Blair

By Plane

Port Blair is well connected to Chennai, Calcutta and Car Nicobar. And there are ships flying from Calcutta, Chennai and Visakhapatnam. But the trip of Visakhapatnam is very volatile. Places to visit in Andaman Island – Port Blair Havelock Honeymoon Packages

Per Track

A railroad does not connect the islands with the mainland, but there is a railway station at the secretariat.

On The Road

Port Blair is the main center. To access the island from the mainland one must first come to the capital, Port Blair and then to other islands that have local transport available. Air and sea connect it. Places to visit in Andaman Island – Port Blair Havelock Packages

Climate of Port Blair

The climate is warm and sunflowers in the summer and cool and sunny in winter.

Tourist Attractions In Port Blair

Cellular Jail (National Memorial)

Cellular Jail, Port Blair

Tours And Travel Andaman And Nicobar

Now transformed into a national memorial, Cellular Failure was built to punish Indian Freedom fighters. Located in Port Blair, it’s a bad witness of the tortures that were dropped out of the freedom fighters who were locked in this prison. The prison acquired the name, cellular because it consists entirely of individual cells for the lonely delivery of the prisoners. A small museum at the entrance gate shows lists of convicts, pictures and ugly torture devices. This prison consists of seven wings emanating from a central tower. The criminal settlement settled here by the British after the First Independence War in 1857 was the beginning of the painful story of the massive and terrible prison on the Viper Island, followed by cellular prison. Prison is now a pilgrimage for all freedom that loves people, preserved as a sanctuary to testify to those who were killed and killed here and there.

Wandoor Beach Andaman

WANDOOR

Just 29 km from Port Blair is this beautifully beautiful group of islands. The 15 islands form part of the Mahatma Gandhi Marine National Park. If on a trip from Port Blair, Jolly Buoy and Red Skin Islands are also visited. Mangrove beek, tropical rainforest and reef enhance the scenic beauty of the islands, which support nearly 50 types of corals. There are some good beaches at Wandoor, but watch out for the strong currents. Do not watch the coral reefs as they get damaged. In fact, many are already damaged. The Wandoor Marine Park includes the uninhabited North and South Cinque. Cinque islands are among the most beautiful islands in the Andaman’s. It is surrounded by pristine coral reefs. Only day trips are allowed and permission from the forest department is required.

Ross island beach

ROSS ISLAND

Ross Island Port Blair Travels Andaman and Niobrara’s the administrative headquarters of the British, this place has been abandoned today. Once surrounded by lawned lawns and umbrellas, the daily services are held in the church, but now the forest and under the growth have been taken over. Peacocks and trees walk here. The place is ruined and very sad, but it is worth taking a look. A look at the small museum gives an idea of ​​how this place should be looked after at that time. Places to visit in Andaman Island – Port Blair Havelock Neil Island Packages

CORBYNS COVE

Seven miles from the city of Port Blair, it is one of Andaman’s most beautiful beaches. Close by is the Snake Island surrounded by coral reefs. Although the water is very seductive, it is advisable not to swim in this water as the flow is very strong. Where to stay at Andaman & Nicobar Islands – Andaman Honeymoon Packages

Havelock Island

HAVELOCK ISLANDS

Havelock Islands Port Blair vacation packages Andaman and NicobarIt are 45 km from Port Blair. This island is full of Bengali settlers. The main attraction of these islands is not the picturesque white sandy beaches or turquoise waters or the coral reefs but the dolphins, turtles and very big fish attract most tourists.

GANDHI PARK

This beautiful park in Port Blair has facilities such as children’s park, theme park, theme park, deer and Bird Park, water sports, nature trail, lake, garden, restaurant and Japanese temple as well as a bunker. The former Dilthaman Tank, the only source of drinking water for Port Blair, has been developed into Gandhi Park in an incredibly short period of 13 days.

neil islands andaman

NEIL ISLANDS

Neil Island Port Blair Islands Tours Andaman and Nicobar these mostly Bengal populated islands are 40 km from Port Blair and offer good beaches for snorkeling. Although some corals are damaged, it is still a very nice place to be. Here the beach is numbered and beach number 1 has a number of beautiful hammocks under trees, which are very popular among the campers. Fresh water is also good. One can watch very large fish from these islands. But it will be difficult to cross the corals to the sea during the low times.

neil_andaman_india

Other Attraction Port Blair

Water sports complex – A unique sports complex in India, of its own kind, has facilities for safe water sports such as rowboats, paddle boats, kayaks, aqua bikes, aqua slide, boats, etc., and adventurous water sports such as water skiing, water scooters, twin boats.

mini zoo port blair andaman and nicobar islands

Mini Zoo & Bosmuseum

Mini Zoo & Bosmuseum – Port Blair has a small zoo that contains some of the rare and extinct species found anywhere in the world, including the Nicobar Duck and the Andaman Pond. Many crocodiles were bred here and are now in wild waters between the dense mangrove forests.

Mt. Harriet & Madhuban

Mt. Harriet & Madhuban – One can take a ferry service from Chatnam Wharf to Bamboo Flat. From there you can take a car to Mt Harriet which is 365 m. A natural path goes to the top and you can have a comfortable stay in the forest cottage.

Mt. Samudrika Naval Maritime Museum

Mt. Samudrika Naval Maritime Museum

Mt. Samudrika Naval Maritime Museum – This is an excellent primer when you go to the remote islands. It has a superlative shell collection and informative displays on various aspects of local marine biology. The exhibitions in the Anthropological Museum dedicated to the Andaman and Nicobar.

Port Blair

Other Excursions in Port Blair

CHIRIYA TAPU

CHIRIYA TAPU

CHIRIYA TAPU – A small fishing village with beaches and mangroves, Chiriya Tapu are 30 km. From Port Blair. From Chiriya Tapu there is a beach known for snorkeling. For more details on the India Holiday Packages promoted by Swan Tours visit www.swantour.com

सिक्किम गंगटोक की सोलो यात्रा

गंगटोक की सोलो यात्रा

गंगटोक की सोलो यात्रा

भारत में महिलाएं को अकेले घूमने या यात्रा पर जाने में बहुत ही सावधानी की जरूरत होती हैं, महिलाएं को बहुत तरह तरह की बातों का सामना करना पड़ता है। हालांकि लोगो की बातों का ज्यादा असर मुझ पर नहीं होता है। हाल ही में अपनी पांचवी सोलो यात्रा पर निकली। मै जब कोई ट्रिप प्लान करती हूं वह किसी ना किसी कारणवश हमेशा ही असफल हो जाती है। इस बार मैंने काफी सोच समझने और रिसर्च के बाद दस दिन की दार्जलिंग और सिक्किम की यात्रा करने का फैसला किया। मै अपनी इस नई और दस की यात्रा को लेकर बेहद ही उत्साहित थी। मैंने कोलकाता से दार्जलिंग जाने के लिए ट्रेन से जाना बेहतर समझा।मैंने शाम को कोलकाता से न्यू जलपाईगुड़ी जाने के लिए ट्रेन पकड़ी।

एक पूरी रात के सफर के बाद मै सुबह न्यू जलपाईगुड़ी पहुंची। न्यू जलपाईगुड़ी पहुँचने के बाद मुझे पता लगा कि, यहां दार्जलिंग के लिए सीधी बस नही है। कुछ ही दूरी पर मुझे एक सूमो नजर आयो जो प्रति सवारी 200 रुपये ले रहा था। मैंने भी पैसे देकर सूमो से ही जाने में भलाई समझी। तभी मुझे वहीं दो विदेशी नजर आयें, मैंने सूमो ड्राइवर से उन्हें भी गाड़ी में बैठाने को कहा।

इसी के साथ मुझे मेरी यात्रा में साथ देने के लिए दो नये साथी मिल गये। अकेले यात्रा करने में यही मजा है, आप इस दौरान नयी जगहों से मुखातिब होते है साथ ही नयी जगह पर नये लोगो से मिलते है। हम सूमो से पहाड़ो और चाय के बागानों से होते दार्जलिंग पहुंचे। दार्जलिंग पहुँचने के बाद पहले हमने एक होटल लेकर आराम करना उचित समझा। शाम को हल्का नाश्ता करने के बाद मै और मेरे नये दो विदेशी दोस्तों के साथ मै निकल पड़ी दार्जलिंग भ्रमण पर। मैंने और मेरे दोस्तों ने पहले दार्जलिंग चाय का कि चुस्कियां ली उसके बाद हमने हैप्पी वैली चाय बागन और टाइगर हिल्स घूमने का प्लान बनाया। दार्जलिंग में हम सभी शाम को चाय के बागानों ने घूमते रहे।  Himachal Pradesh Tours

दूसरा दिन दूसरे दिन हम सुबह तडके ही 3 बजे उठ गये क्योंकि हमे टाइगर हिल्स निकलना था। हमने एक गाड़ी किराये पर ,ली और निकल पड़े टाइगर हिल्स। रास्ते में हमसे कई महिलायों ने लिफ्ट मांगी ताकि वह भी ऊपर जाकर लोगो को कॉफ़ी और चाय बेचकर कुछ कमाई कर सके। लेकिन हमारी गाड़ी में जगह की कमी थी, इसलिए हम उन महिलायों की कोई मदद नहीं कर सके। हम टाइगर हिल्स सही समय पर पहुंच गये थे, लेकिन थोड़ी देर बाद पूरा टाइगर हिल्स सैलानियों से पट गया। सभी लोग उगते हुए सूरज को देख बेहद खुश हुए।हमने भी उगते हुए सूरज की कुछ तस्वीरें ली। यहां से उगते हुए सूरज को देखना इसलिए और अच्छा लगा रहा था क्यों कि जब सूरज की सुनहरी किरणे विश्व के तीसरे पर्वत पर पड़ रही थी, जिससे कंचनजंगा और भी खूबसूरत हो गया था। हम काफी लकी थे, क्यों कि उस दिन मौसम काफी साफ़ था, और हम सबसे उंचे शिखर को साफ़ साफ़ देख पा रहे थे।इस अद्भुत नजारे को देखने के बाद हैप्पी वैली चाय के बागानों को देखने के लिए निकल पड़े।

 

यूं तो दार्जलिंग में करीबन 86 चाय के बागन है लेकिन हमने हैप्पी वेली को ही चुना, क्यों की इस चाय के बागन में हम चाय बनने की प्रक्रिया को भी देख सकते थे। इस दौरान हमने टॉय ट्रेन का भी लुत्फ उठाया। हैप्पी वैली दार्जलिंग का छोटा सा चाय का बागन है। हमने हैप्पी वैली में चाय की पत्तियों से लेकर चाय बनने की पूरी प्रक्रिया को देखा। हालांकि दुःख की बात यह थी, यहां चाय के लिए अच्छी पत्तियां तोड़ने वाले मजदूर को महज एक दिन का मेहनताना महज 150 रूपया दिया जाता है। दार्जलिंग में ये दोनों जगहे घूमने के बाद मुझे अपने दोनों विदेशी दोस्तों को अलविदा कहना पड़ा क्योंकि अब मुझे दार्जलिंग स सिक्किम की यात्रा अकेले तय करनी थी। पहले मैंने दार्जिलिंग से गंगटोक की टैक्सी पकड़ी जोकि, दार्जलिंग से तीन घंटे की दूरी पर है।यहां के दृश्य इतने मनोरम होते है कि,आपको पता ही नहीं लगेगा की कब आप दार्जलिंग से सिक्किम पहुंच गये।अगर आपने पश्चिम बंगाल की टैक्सी ली है तो वह आपको सिक्किम बस स्टैंड पर छोड़ देगी।जिसके बाद आपको दूसरी सिक्किम जाने के लिए दूसरी टैक्सी लेनी होगी। Manali Volvo Packages

सिक्किम पहुँचने के बाद मै एमजी मार्ग पहुंची, जहां पहुँचने के बाद पहले मुझे लगा कि, मै मनाली के माल रोड आ गयी हूं। एमजी रोड बेहद खूबसूरत और साफ सुथरा था। वहां पहुंचकर मैंने एक कप कॉफ़ी पी और निकल पड़ी घूमने। यूं तो सिक्किम ज्यादा महंगा नहीं है लेकिन अकेले घूमने वालो के लिए यह थोड़ा सा महंगा है। पूरा सिक्किम बेहद ही ज्यादा खूबसूरत है, जिसकी तारीफ़ के लिए शब्द भी कम पड़ जाये। तो फिर आइये जानते है कि, सिक्किम में कहां-कहां घूमा जा सकता है।

सिक्किम की वादियां का सुहाना सफर

सिक्किम की वादियां का सुहाना सफर

सिक्किम की वादियां और हिमालय की गोद में बसे सिक्किम राज्य की वादियां का सुहाना सफर जो प्रकृति के अद्भुत सौंदर्य जो दिल झरोखो में रिमझिम और छनछनाती आवाजे और यह के मनमोहक फूलो की क्यारिया और जय लगता है दूर से कोई कायल की कुक सुनाये दे रही है और जैसे लगता है इसी तपोवन में साडी जिंदगी लगा दू | सिक्किम की भूमि या फूलों का प्रदेश कहना गलत नहीं होगा। वास्तव में यहां के नैसर्गिक सौंदर्य में जो आकर्षण है, वह अन्यत्र दुर्लभ है। नदियां, झीलें, बौद्ध मठ और स्तूप तथा हिमालय के बेहद लुभावने दृश्यों को देखने के अनेक स्थान, ये सभी हर प्रकृतिप्रेमी को बाहें फैलाए आमंत्रित करते हैं। विश्व की तीसरी सबसे ऊंची पर्वतचोटी कंचनजंगा (28156 फुट) यहां की सुंदरता में चार चांद लगाती है। सूर्य की सुनहली किरणों की आभा में नई-नवेली दुलहन की तरह दिखने वाली इस चोटी के हर क्षण बदलते मोहक दृश्य सुंदरता की नई-नई परिभाषाएं गढ़ते हुए से लगते हैं। मनुष्य की कल्पनाओं का सागर यहां हिलोरें मारने लगता है। Shimla Tour Packages

सिक्किम जीवंत वातावरण

सिक्किम जीवंत वातावरण

भारत के उत्तर-पूर्व और पूर्व में फैले इस राज्य का क्षेत्रफल 7096 वर्ग किलोमीटर है और जनसंख्या लगभग पांच लाख। चीन के अधीनस्थ तिब्बत से व्यापारिक संबंधों के समय व्यावसायिक महत्व का स्थान रहा गंगटोक आज के सिक्किम की राजधानी है। इस शहर की स्थापना 19वीं शताब्दी के मध्य में हुई थी। इससे पहले राज्य के पश्चिमी भाग में युकसम और इसके बाद राबडेंसे नामक स्थानों को सिक्किम की राजधानी होने का गौरव प्राप्त था। देश-विदेश से आने वाले पर्यटकों, हनीमून मनाने वाले जोड़ों तथा राज्य के सुदूर क्षेत्रों में ट्रेकिंग और साहसिक पर्यटन के शौकीन लोगों की आवाजाही गंगटोक के वातावरण को हमेशा जीवंत बनाए रखती है।

पर्यटन की दृष्टि से सुविधापूर्वक सिक्किम दर्शन के लिए राज्य को चार भागों में बांटा जा सकता है। सबसे पहले पूर्व में गंगटोक तथा इसके आसपास कई दर्शनीय स्थल हैं। समुद्रतल से 5800 फुट की ऊंचाई पर स्थित गंगटोक का प्रारंभ से ही समुचित विकास होता आया है। यहां अच्छे से अच्छे रहने के स्थान, यातायात के साधन तथा संचार माध्यम उपलब्ध हैं। राज्य की पारंपरिक हस्तशिल्प और हथकरघा की वस्तुओं का केंद्र भी पर्यटकों के लिए विशेष आकर्षण का स्थान है। Manali Tour Packages

यहां से केवल तीन किलोमीटर की दूरी पर 200 वर्ष पुराना महत्वपूर्ण बौद्ध मठ इंचे मॉनेस्ट्री है। ऐसा माना जाता है कि यहां आने वाले श्रद्धालुओं को लामा द्रुप्तोब कार्पो का आशीर्वाद मिलता है। लामा द्रुप्तोब यहां के लोकजीवन में आस्था के एक गहरे प्रतीक के रूप में रचे-बसे हैं। हर साल जनवरी के आसपास यहां छाम नृत्य का उत्सव आयोजित किया जाता है। यह उत्सव दो दिन तक धूमधाम से मनाया जाता है। व्हाइट हॉल के पास पूरे वर्ष फूलों की प्रदर्शनी भी लगाई जाती है। फूलों वाली विभिन्न जड़ी-बूटियों की एक प्रदर्शनी यहां वसंत ऋतु में भी आयोजित की जाती है, जो बेहद लोकप्रिय हो चुकी है।

बौद्ध अध्ययन का केंद्र

बौद्ध अध्ययन का केंद्र

गंगटोक में ही स्थित नामग्याल इंस्टीट्यूट ऑफ टिबेटोलॉजी (एनआईटी) नाम का बौद्ध संस्थान दुर्लभ लेपचा, तिब्बती व संस्कृत पांडुलिपियों, मूर्तियों, थंका, कर्मकांड और पूजन विधि में प्रयोग आने वाले कपड़ों (टेपेस्ट्रीज) आदि दो सौ से अधिक बहुमूल्य वस्तुओं तथा कलाकृतियों का खजाना है। धार्मिक और ऐतिहासिक दोनों ही दृष्टियों से महत्वपूर्ण यह संस्थान आज पूरे विश्व के लिए बौद्ध दर्शन तथा धर्म का अध्ययन केंद्र बना हुआ है।

छोग्याल पाल्डेन थोंडुप नामग्याल की स्मृति में यहां एक पार्क बना हुआ है। छोग्याल अर्थात राजा। नामग्याल वंश के 17वें तथा धार्मिक कार्यो के लिए पवित्रीकरण संस्कार प्राप्त 12वें राजा पाल्डेन थोंडुप की आर्थिक और सामाजिक सुधारों में शुरू से गहरी आस्था थी। राजा पाल्डेन आधुनिक शासन प्रणाली के समर्थक थे। इनके शासनकाल में ही सिक्किम में आधारभूत सुविधाओं की नींव रखी गई। सीमित संसाधनों के बावजूद उन्होंने स्कूल, सड़कें, चिकित्सालय आदि बनाने, पेयजल उपलब्ध कराने, यातायात हेतु सिक्किम राष्ट्रीयकृत ट्रांसपोर्ट, हाइड्रो-इलेक्टि्रक पॉवर स्कीम तथा ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के लिए अन्य योजनाएं चलाने के लिए भी लगातार सहायता दी। 1982 में इनका देहांत हुआ। अंत तक वह बौद्धिक सोसाइटी ऑफ इंडिया के अध्यक्ष रहे। Dalhousie Dharamshala Amritsar Tour

पवित्र छांगू झील

पवित्र छांगू झील

छांगू लेक, जिसे स्थानीय लोग छो गो लेक कहते हैं, गंगटोक से 40 किलोमीटर दूर है। समुद्रतल से 3780 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यह अंडाकार झील एक किलोमीटर लंबी और 15 मीटर गहरी है। स्थानीय लोगों की मान्यताओं के अनुसार यह एक पवित्र स्थान है। शीतकाल में यह जमी रहती है। मई से अगस्त के बीच इसके चारों ओर फैली पर्वतश्रृंखला व घाटियों में विभिन्न प्रकार के फूल खिले होते हैं। यहां खिलने वाले फूलों में रोडोडेंड्रोन, कई प्रकार के प्रिमुला, नीले और पीले पॉपीज, आइरिस आदि प्रमुख हैं। लाल पांडा तथा कई प्रजातियों के पक्षियों का यह पसंदीदा स्थान है।

इसी दिशा में गंगटोक से 56 किलोमीटर दूर समुद्रतल से 14200 फुट की ऊंचाई पर स्थित नाथू ला है। ला अर्था पास या एक पहाड़ को लांघकर दूसरी ओर जाने का रास्ता। नाथू ला भारत-चीन (तिब्बत का पठार) सीमा पर स्थित है। यहां जाने के लिए पंजीकृत ट्रेवल एजेंसी के माध्यम से सिक्किम पर्यटन विभाग से परमिट लेनी पड़ती है। नाथू ला की ओर जाने की परमिट केवल भारतीय नागरिक ही पा सकते हैं। पहाड़ी क्षेत्रों में पाई जाने वाली जड़ी-बूटियां और पेड़-पौधे देखने के शौकीन लोगों के लिए इसी क्षेत्र में स्थित सरमसा गार्डन और जवाहरलाल नेहरू बोटेनिकल गार्डन दर्शनीय हैं। जबकि वन्य जीवन में रुचि लेने वालों के लिए हिमालयन जूलोजिकल पार्क तथा फेम्बोंग लो वाइल्ड लाइफ सैंक्चुअरी दिलचस्प जगहें हो सकती हैं। इनके अलावा दो द्रुल छोरटेन, रुमटेक धर्म चक्र केंद्र, पाल जुरमांग कागयुद मॉनेस्ट्री, वाटर गार्डन, बाबा हरभजन सिंह मेमोरियल, ताशी व्यू प्वाइंट, गोन्जांग मॉनेस्ट्री, गणेश टोंक, हनुमान टोंक, नोर छो सुक तथा अरितार यहां के अन्य दर्शनीय स्थल हैं। Shimla Manali Tour Packages

पवित्र छांगू झील

सिक्किम में जहां मिट जाते हैं पाप

पश्चिमी सिक्किम में पेमायांगसे मॉनेस्ट्री सबसे प्राचीन बौद्ध मठों में से एक है। राज्य की पहली राजधानी युकसम यहीं है। तीन विद्वान लामाओं द्वारा सन् 1641 में सिक्किम राज्य के प्रथम छोग्याल (राजा) का पवित्रीकरण संस्कार यहीं किया गया था। इसका प्रमाण नोरबूगांग छोरटेन में आज भी मौजूद है, जहां पत्थरों के सिंहासन और एक पत्थर पर मुख्य लामा के पैर की छाप देखी जा सकती है। वस्तुत: इस राज्य का इतिहास यहीं से शुरू होता है। स्थानीय लोग इस क्षेत्र को अत्यंत पवित्र मानते हैं। जोंगरी-जेमाथांग तथा कंचनजंगा बेस कैंप के लिए ट्रेकिंग कार्यक्रम भी युकसम से ही शुरू होते हैं। युकसम के बाद कुछ ही दूरी पर स्थित राबडेंसे राज्य की दूसरी राजधानी बनी थी। यहां अब केवल खंडहर शेष हैं। सन् 1814 तक यहीं से राजा ने राज्य का संचालन किया।

ताशीडिंग मॉनेस्ट्री हृदय के आकार की पहाड़ी पर बनाई गई है, जिसके पीछे पवित्र कंचनजंगा पर्वत है। बौद्ध धर्मग्रंथों के अनुसार 8वीं शताब्दी में गुरु पद्मसंभाव, जिन्हें गुरु रिम्पूछे भी कहा जाता है, ने इस स्थान से ही सिक्किम की पवित्र भूमि को आशीर्वाद दिया था। ऐसा माना जाता है कि आज भी यहां आने वालों को गुरु रिम्पूछे का आशीर्वाद प्राप्त होता है। लेपचा समुदाय की बहुलता वाली इस घाटी में स्थित पवित्र गुरु इहेदू में गुरु रिम्पूछे के पैरों और हाथों के चिन्ह अभी भी सुरक्षित हैं। ताशीडिंग पवित्र छोरटेन (स्तूप) ‘थोंग वा रांग डोल’ के लिए भी प्रसिद्ध है। इसका अर्थ है देखने भर से जीवनरक्षा करने वाला। ऐसा विश्वास है कि इस स्तूप को देखने मात्र से श्रद्धालु के सभी पाप मिट जाते हैं। प्रतिवर्ष पवित्र जल उत्सव भी केवल यहीं होता है, जब यहां का जल दूर और पास से आए श्रद्धालुओं को दिया जाता है। यहां पेलिंग, सांगा-छोलिंग मोनास्ट्री, सिंगशोर ब्रिज उट्टारे, कंचनजंगा वाटर फॉल, खेद्दोपालरी लेक, दुबकी मोनास्ट्री, रंगित वाटर व‌र्ल्ड, कोगरी लाबडांग, बारसे, सोरेंग, रिनछेंगपोंग कालुक, ही बुरीमयोक तथा डेंटाम आदि भी दर्शनीय हैं। Himachal Travel Package

पवित्र छांगू झील

सिक्किम में यही आकर्षण का मुख्य केंद्र

संधि भाईचारे की उत्तरी सिक्किम में जेमू ग्लेशियर से निकलने वाली तीस्ता नदी राज्य का गौरव बढ़ाती है। व्हाइट वाटर राफ्टिंग और कयाकिंग आदि वाटर स्पो‌र्ट्स के शौकीन लोगों के लिए सिक्किम में यही आकर्षण का मुख्य केंद्र है। मई-जून में यहां साहसिक पर्यटन के शौकीन लोगों की खासी भीड़ जुटी होती है। भारत ही नहीं, दुनिया के अन्य देशों से भी लोग यहां रोमांचक खेलों का मजा लेने तथा प्रकृति की सुंदरता को निहारने के लिए आते हैं।

अगर आप वन्य प्राणियों के जीवन में रुचि लेते हैं तो उत्तरी सिक्किम में ही स्थित कंचनजंगा नेशनल पार्क बहुत मुफीद जगह है। 850 वर्ग किलोमीटर में फैले इस वन्य जीव अभ्यारण्य को बायोस्फीयर रिजर्व के नाम से भी जानते हैं। यहां तमाम दुर्लभ प्रजातियों के कई जीव स्वच्छंद विचरण करते हैं। इसके क्षेत्र में कई ग्लेशियर भी हैं, जिनमें जेमू ग्लेशियर सबसे लंबा और नयनाभिराम है। चिडि़यों की यहां कुल 550 प्रजातियां पाई जाती हैं। इनमें ब्लड फेजेंट, सेटायर ट्रैगोपन, ऑस्प्रे,

हिमालयन ग्रिफॉन, लैमर्जियर, बर्फीला कबूतर, इंपेयन फेजेंट, सन ब‌र्ड्स और गरुड़ शामिल हैं। जंगली पशुओं में यहां क्लाउडेड लेपर्ड, हिमालय क्षेत्र में पाया जाने वाला काला भालू, लाल पांडा, ब्लू शीप, कस्तूरी हिरन, हिमालयन थार, लेसर बिल्लियां, तिब्बती भेडि़ये और भेड़ आदि भारी मात्रा में देखे जा सकते हैं। कंचनजंगा का शाब्दिक अर्थ है देवताओं का ऐसा आवास जिसमें पांच घर हों। कंचनजंगा के पांच घरों के रूप में नरशिंग, पंदिम, सिम्वो, कब्रू और सिनिओल्चू नामक पर्वतशिखरों की गिनती की जाती है। इनमें पंदिम, नरशिंग और सिनिओल्चू इसी पार्क के क्षेत्र में ही हैं। दुनिया भर से तमाम प्रकृतिप्रेमी पर्यटक तो इन पर्वतशिखरों को ही देखने के लिए इस अभ्यारण्य में आते हैं।
उत्तरी सिक्किम में ही एक ऐतिहासिक स्थान है काबीलंगचोक। सिक्किम के इतिहास में यह जगह अत्यंत महत्वपूर्ण है, क्योंकि यहां लेपचा जाति के मुखिया ते कुंग तेक तथा भुटिया जाति के मुखिया खे बुम सा के बीच आपसी भाईचारे की संधि हुई थी। घने जंगल के बीच जिस स्थान पर यह संधि हुई थी वहां पत्थर के स्तंभ के रूप में एक स्मारक भी बनाया गया है। इसके अतिरिक्त यहां फेनसांग मॉनेस्ट्री, फोडोंग मॉनेस्ट्री, सिंघिक, छुंगथांग, लाछुंग, युमथांग, लाछेन मॉनेस्ट्री, थांगु एवं गुरु डोंगमार लेक भी दर्शनीय स्थल हैं। Manali Dharamshala Tour Package

आकाश जितना ऊंचा सिक्किम हमारा 

पर्यटन की दृष्टि से इन तीन क्षेत्रों के बाद बारी आती है दक्षिणी सिक्किम की। गंगटोक से 78 किलोमीटर दूर है नामची। इसका अर्थ है आकाश जितना ऊंचा। यहां से बर्फ से ढके पहाड़ तथा दूर तक फैली घाटी के दृश्य देखे जा सकते हैं। नामची दक्षिण सिक्किम का जिला मुख्यालय भी है। पर्यटन सुविधाओं के मामले में अब इसका तेजी से विकास हो रहा है। हर साल फरवरी में यहां फूलों का त्योहार मनाया जाता है। नामची से साढ़े तीन किलोमीटर की दूरी पर हाल ही में राज्य सरकार ने गुरु पद्मसंभाव की 135 फुट ऊंची मूर्ति स्थापित की है। यह मूर्ति मिश्रित धातु से बनाई गई है, जिसमें कीमती पत्थर जड़े गए हैं।

टेंडोंग हिल 8530 फुट की ऊंचाई पर स्थित एक छोटा सा स्थान है, जहां घना हरा प्राचीन जंगल है। यह स्थल बौद्ध लामाओं की तपोभूमि रही है जहां वे वर्षो तक शांत वातावरण में रहकर ध्यान लगाते आए हैं। कहा जाता है कि किसी युग में हुई प्रलयंकारी वर्षा के दौरान इसी स्थान पर लेपचा जाति के लोगों को संरक्षण मिला था। आज भी लेपचा लोग इस स्थान को पूजते हैं।

पवित्र छांगू झील

सिक्किम एक साहसिक पर्यटन का गढ़

समुद्रतट से 10300 फुट की ऊंचाई पर स्थित मीनम हिल से कंचनजंगा और अन्य पर्वत श्रृंखलाओं, दक्षिण बंगाल के कलिम्पोंग और दार्जिलिंग तथा उत्तर में भारत-चीन सीमा को देखा जा सकता है। नरसिंह तथा पाकिलु पर्वतों के आधार से आने वाली रंगित नदी दक्षिण सिक्किम से बहती हुई तीस्ता नदी में मिलती है। इन दोनों ही नदियों के तटों पर मौजूद मनोरम दृश्य बरबस ही सबका मन मोह लेते हैं। टेमी टी गार्डन, रावांगला, बोरोंग, सिंगछुथांग सिक्किम तथा फुर सा छू अन्य देखने योग्य स्थान हैं। Shimla to Manali via Kinnaur Tour Packages

साहसिक पर्यटन के शौकीन लोगों के बीच सिक्किम बेहद लोकप्रिय है। यहां ट्रेकिंग और राफ्टिंग के कई अड्डे हैं। कई पर्यटक स्थलों से एक-दो दिन के लिए ट्रेकिंग पर जाना आम बात है। इसके अलावा यहां सुनियोजित ढंग से लंबे ट्रेकिंग प्रोग्राम भी आयोजित किए जाते हैं। ट्रेकिंग रूटों में मोनास्टिक ट्रेक, रोडोडेंड्रन ट्रेक, कंचनजंगा ट्रेक, कोरोनेशन ट्रेक, खेडी ट्रेक, सिंगालीला ट्रेक, कस्तूरी ओरार ट्रेक, सामरट्रेक, रिनछेनपोंग या सोरेंग ट्रेक और हिमालय ट्रेक प्रमुख हैं। अधिकतर ट्रेकिंग कार्यक्रम अप्रैल से जून तथा अक्टूबर से दिसंबर के बीच किए जाते हैं। रिवर राफ्टिंग के लिए अक्टूबर से दिसंबर का समय सबसे उपयुक्त है। तीस्ता तथा रंगित दोनों नदियों में रिवर राफ्टिंग होती है। कयाकिंग केवल तीस्ता में ही होती है। सिक्किम में याक सफारी का भी आनंद लिया जा सकता है।

पवित्र छांगू झील

 

सिक्किम का खानपान तिब्बत जैसा

सिक्किम और तिब्बत के खान-पान में बड़ी समानता है। चिकन मोमो, पोर्क मोमो, शाकाहारी और पनीर मोमो, थुकपा (सूप या तरीदार सब्जी की तरह खाया जाने वाला), टी मोमो व शाभाले यहां के प्रमुख एवं विशेष व्यंजन हैं। वैसे तो गंगटोक के रेस्टोरेंट्स में तो भारत के हर प्रांत का भोजन मिल जाता है, लेकिन यहां आने के बाद स्थानीय व्यंजनों का स्वाद लेने का भी अपना अलग आनंद है। इनमें थुकपा वेज और नॉन वेज दोनों प्रकार का बनता है। टी मोमो स्टीम ब्रेड की तरह बनाई जाती है। मैदे में खमीर मिलाकर और गर्म पानी से गूंदकर इसे तैयार किया जाता है। शाभाले नामक रोटी में मीट भरा जाता है और पूरी की तरह तलकर इसे तैयार किया जाता है।

सिक्किम की यात्रा पर एक नजर

सिक्किम कैसे पहुंचें

पृथ्वी की भौगोलिक असमानताओं में बिखरे प्राकृतिक सौंदर्य का अद्वितीय पक्ष सिक्किम राज्य सड़क, रेल तथा हवाई मार्गो के जरिये देश के विभिन्न महानगरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। उत्तरी बंगाल में बागडोगरा हवाई अड्डा राजधानी गंगटोक के सबसे समीप है। हवाई अड्डे से 124 किलोमीटर की दूरी सड़क मार्ग से लगभग चार घंटों में तय हो जाती है। बागडोगरा विमान पत्तन कोलकाता, गुवाहाटी और नई दिल्ली से इंडियन एयरलाइंस और दूसरी एयरलाइनों की उड़ानों से जुड़ा हुआ है। सिक्किम पर्यटन विभाग का पांच सीटों वाला हेलीकॉप्टर बागडोगरा और गंगटोक के बीच प्रतिदिन हवाई सेवा प्रदान करता है। रेलमार्ग पर सबसे समीप दो स्टेशन सिलीगुड़ी तथा न्यू जलपाईगुड़ी हैं। गंगटोक से इनकी दूरी क्रमश: 114 व 125 किलोमीटर है।

सिक्किम की यात्रा करने के लिए परमिट की जरूरत

सीमांत प्रदेश होने के कारण विदेशी नागरिकों को यहां आने के लिए इनर लाइन परमिट (आईएलपी) लेना होता है। यह परमिट उन्हें भारत में प्रवेश हेतु मिले वीजा के आधार पर मिल जाता है। भारतीय दूतावासों तथा देश में पर्यटन कार्यालयों से या सिक्किम पहुंच कर भी यह परमिट प्राप्त किया जा सकता है, जिसकी अवधि 15 दिन होती है। यह अवधि बढ़वाई भी जा सकती है।

पवित्र छांगू झील

सिक्किम के होटल एवं लॉज

पूर्वी सिक्किम में अकेले गंगटोक और उसके आसपास ही सौ से अधिक होटल, चालीस से अधिक लॉज तथा पांच सरकारी होटल एवं लॉज हैं। निजी क्षेत्र में अनोला, ब्लू स्काई, सेंट्रल होटल, डोमा, ग्रीन, हिल व्यू, काबुर, ल्हाकपा, मेलोंग, नोरबू घांग, ओबेरॉय, रेड रूबी, पालीखल, सैंफेल, सोनम, त्रिशूल, वीनस बुडलैंड, युमथांग आदि अच्छे होटल तथा मानसारी, कामेलिया, सनशाइन, नाहन आदि सुंदर लॉज है। सरकारी क्षेत्र में ब्लू शीप रेस्टोरेंट, माउंट जोपुनो, माउंट पंडिम, सिनियोल्छु तथा टूरिस्ट सेंटर आदि प्रमुख होटल एवं लॉज हैं।
इसी तरह पश्चिमी सिक्किम में आंचल, बिनटाम, डेमाजोंग, ग्रीन वैली, सोरेंग, कंचनजंगा, नोरबूगांग रिजॉर्ट, ताशी गांग अच्छे होटल हैं। उत्तर में डाबला इन, कान्डेन, न्यू नॉथ वे, प्रिमुला लॉज, सोनम, टोगा व याक एंड यति तथा दक्षिण में बेबिला फ्लोरोडा, हॉली डे, माउंट नरसिंह, संजीवनी, जोंगरी आदि दक्षिण में अच्छे होटल एवं लॉज हैं।

सिक्किम मौसम एवं तापमान

ग्रीष्म ऋतु में गंगटोक का तापमान अधिकतम 21 डिग्री तथा न्यूनतम 13 डिग्री सेंटीग्रेड होता है तथा शरद ऋतु में अधिकतम 13 डिग्री तथा न्यूनतम 05.3 डिग्री सेंटीग्रेड। विश्व में सबसे अधिक वर्षा चेरापूंजी में होती है। यह स्थान सिक्किम से अधिक दूर नहीं है। अत: राज्य में भ्रमण के लिए सबसे उत्तम समय मार्च से जून तक तथा अक्टूबर से दिसंबर तक है। गंगटोक में प्रतिवर्ष औसतन वर्षा 3894 मिलीमीटर होती है। 15 साल के अंतराल के बाद गत फरवरी मास में यहां बर्फबारी हुई है।

गंगटोक का सफर एवं दर्शनीय स्थल

यहां देखने लायक कई स्थान हैं जैसे, गणेश टोक, हनुमान टोक तथा ताशि व्यू प्वांइट। अगर आप गंगटोक घूमने का पूरा लुफ्त उठाना चाहते हैं तो इस शहर को पैदल घूमें।…

यहां देखने लायक कई स्थान हैं जैसे, गणेश टोक, हनुमान टोक तथा ताशि व्यू प्वांइट। अगर आप गंगटोक घूमने का पूरा लुफ्त उठाना चाहते हैं तो इस शहर को पैदल घूमें। यहां से कंचनजंघा का नजारा बहुत ही आकर्षक प्रतीत होता है। इसे देखने पर ऐसा लगता है मानो यह पर्वत आकाश से सटा हुआ है तथा हर पल अपना रंग बदल रहा है।

अगर आपकी बौद्ध धर्म में रुचि है तो आपको इंस्टीट्यूट ऑफ तिब्बतोलॉजी जरुर घूमना चाहिए। यहां बौद्ध धर्म से संबंधित अमूल्य प्राचीन अवशेष तथा धर्मग्रन्थ रखे हुए हैं। यहां अलग से तिब्बती भाषा, संस्कृति, दर्शन तथा साहित्य की शिक्षा दी जाती है। इन सबके अलावा आप प्राचीन कलाकृतियों के लिए पुराने बाजार, लाल बाजार या नया बाजार भी घूम सकते हैं।

सोमगो झील

गंगटोक से 40 किलोमीटर की दूरी पर यह झील स्थित है। यह झील चारों ओर से बर्फीली पहाडियों से घिरा हुआ है। झील एक किलोमीटर लंबा तथा 50 फीट गहरा है। यह अप्रैल महीने में पूरी तरह बर्फ में तब्दील हो जाता है। सुरक्षा कारणों से इस झील को एक घंटे से अधिक देर तक नहीं घूमा जा सकता है। जाड़े के समय में इस झील में प्रवास के लिए बहुत से विदेशी पक्षी आते हैं। इस झील से आगे केवल एक सड़क जाती है। यही सड़क आगे नाथूला दर्रे तक जाती है। यह सड़क आम लोगों के लिए खुला नहीं है। लेकिन सेना की अनुमति लेकर यहां तक जाया जा सकता है। Best of Himachal Tour

रूमटेक मठ

रुमटेक घूमे बिना गंगटोक का सफर अधूरा माना जाता है। यह मठ गंगटोक से 24 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह मठ 300 वर्ष पुराना है। रुमटेक सिक्किम का सबसे पुराना मठ है। 1960 के दशक में इस मठ का पुननिर्माण किया गया था। इस मठ में एक विद्यालय तथा ध्यान साधना के लिए एक अलग खण्ड है। इस मठ में बहुमूल्य थंगा पेंटिग तथा बौद्ध धर्म के कग्यूपा संप्रदाय से संबंधित वस्तुएं सुरक्षित अवस्था में है। इस मठ में सुबह में बौद्ध भिक्षुओं द्वारा की जाने वाली प्रार्थना बहुत कर्णप्रिय होती है।

दो द्रूल चोर्टेन

दो द्रूल चोर्टेन

यह गंगटोक के प्रमुख आकर्षणों में एक है। इसे सिक्किम का सबसे महत्वपूर्ण स्तूप माना जाता है। इसकी स्थापना त्रुलुसी रिमपोचे ने 1945 ई. में की थी। त्रुलुसी तिब्बतियन बौद्ध धर्म के नियंगमा सम्प्रदाय के प्रमुख थे। इस मठ का शिखर सोने का बना हुआ है। इस मठ में 108 प्रार्थना चक्र है। इस मठ में गुरु रिमपोचे की दो प्रतिमाएं स्थापित है।

इनहेंची मठ

इनहेंची का शाब्दिक अर्थ होता है निर्जन। जिस समय इस मठ का निर्माण हो रहा था। उस समय इस पूरे क्षेत्र में सिर्फ यही एक भवन था। इस मठ का मुख्य आकर्षण जनवरी महीने में यहां होने वाला विशेष नृत्य है। इस नृत्य को चाम कहा जाता है। मूल रुप से इस मठ की स्थापना 200 वर्ष पहले हुई थी। वर्तमान में जो मठ है वह 1909 ई. में बना था। यह मठ द्रुपटोब कारपो को समर्पित है। कारपो को जादुई शक्ति के लिए याद किया जाता है।

ऑर्किड अभयारण्य

इस अभ्यारण्य में ऑर्किड का सुंदर संग्रह है। यहां सिक्किम में पाए जाने वाले 454 किस्म के ऑर्किडों को रखा गया है। प्राकृतिक सुंदरता को पसंद करने वाले व्यक्तियों को यह अवश्य देखना चाहिए।

ताशिलिंग

ताशिलिंग

ताशी लिंग मुख्य शहर से 6 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां से कंचनजंघा श्रेणी बहुत सुंदर दिखती है। यह मठ मुख्य रुप से एक पवित्र बर्तन बूमचू के लिए प्रसिद्ध है। कहा जाता है कि इस बर्तन में पवित्र जल रखा हुआ है। यह जल 300 वर्षों से इसमें रखा हुआ है और अभी तक नहीं सूखा है।

टिसुक ला खंग

यहां बौद्ध धर्म से संबंधित प्राचीन ग्रंथों का सुंदर संग्रह है। यहां का भवन भी काफी सुंदर है। इस भवन की दीवारों पर बुद्ध तथा संबंधित अन्य महत्वपूर्ण घटनाओं का प्रशंसनीय चित्र है। यह भवन आम लोगों और पर्यटकों के लिए लोसार पर्व के दौरान खोला जाता है। लोसार एक प्रमुख नृत्य त्योहार है।

आसपास दर्शनीय स्थान

पेलींग

पेलींग: यह स्थान गंगटोक के पश्चिम में 145 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां कुछ घर तथा अधिक संख्या में होटल हैं। यहां से कंचनजघां का अदभूत दृश्य दिखता है। यहां से पर्वत चोटी बहुत नजदीक लगती है। ऐसा लगता है मानो यह मेरे बगल में है और मैं इसे छू सकता हूं। यहां मौसम बहुत सुहावना होता है।

सांगो-चोलिंग

सांगो-चोलिंग: पिलींग से कुछ ही दूरी पर सिक्किम का दूसरा सबसे पुराना मठ सांगो-चोलिंग है। यह सिक्किम के महत्वपूर्ण मठों में से एक है। इस मठ में एक छोटा सा कब्रिस्तान भी है। इस मठ के दीवारों पर बहुत ही सुंदर चित्रकारी की गई है। पिलींग आने वाले को इस मठ को अवश्य घूमना चाहिए।

पेमायनस्ती मठ

पेमायनस्ती मठ: यह मठ पिलींग से थोड़ी देर की पैदल दूरी पर स्थित है। ग्यालसिंग से इसकी दूरी 6 किलोमीटर पड़ती है। यह सिक्किम का सबसे महत्वपूर्ण और प्रतिष्ठित मठ है। यहां बौद्ध धर्म की पढ़ाई भी होती है। यहां बौद्ध धर्म की प्राथमिक, सेकेण्डरी तथा उच्च शिक्षा प्रदान की जाती है। यहां 50 बिस्तरों का एक विश्राम गृह भी है। पर्यटक को भी यहां ठहरने की सुविधा प्रदान की जाती है। इस मठ में कई प्राचीन धर्मग्रन्थ तथा अमूल्य प्रतिमाएं सुरक्षित अवस्था में हैं। पेमायनस्ती मठ का विशेष आकर्षण यहां लगने वाला बौद्ध मेला है।

सुक-ला-खंग

सुक-ला-खंग: शाही पूजा स्थल, जो बौद्धों के लिए पूजा का मुख्य स्थान है। यह एक सुंदर और आकर्षक भवन है, यहां भगवान बुद्ध की प्रतिमाओं और लकड़ी पर नक्काशी के कार्य का बहुत बड़ा संग्रह है।

रमटेक मठ

रमटेक मठ: यह मठ गंगटोक से 24 किमी दूर है। यह ग्यालवा करमापा का स्थान है, जो तिब्बत में बौद्ध धर्म के कगयूपा अनुयायियों के प्रमुख हैं। यहां तिब्बती धर्म से संबंधित अनेक पेंटिंग्स प्रदर्शित हैं। धर्मालाप के सत्रों में यहां अनेक यात्री आते हैं। मंदिर के पीछे बौद्ध धर्म के अध्ययन केलिए स्थित संस्थान में मठवासी अध्ययन करते हैं।

एंचे गोम्पा: निगमापा शैली में बना यह मोहक गोम्पा शहर के मध्य से 3 किमी उत्तर पूर्व में स्थित है।

ऑर्किड गार्डन्स सेंचुरी

ऑर्किड गार्डन्स सेंचुरी: सिक्किम स्थित इस सेंचुरी में 450 दुर्लभ किस्म के ऑर्किड हैं। इनमें से कुछ सुंदर अन्य कहीं नहीं पाए जाते। यहां आने के लिए अप्रैल और मई का प्रारंभ और सितंबर से दिसंबर के बीच का समय सर्वश्रेष्ठ है। आप गंगटोक से 12 किमी दक्षिण में स्थित एक और उत्कृष्ट ऑर्किड सेंचुरी ऑर्किडेरियम भी देख सकते हैं।

गंगटोक कब जाएं

पुष्प प्रदर्शनी केंद्र:

पुष्प प्रदर्शनी केंद्र: सुंदर कलियों और फू लों को यहां खिलते-महकते देखा जा सकता है। पुष्प प्रदर्शनी केंद्र में आप प्रकृति के विविध रंगों के खूबसूरत नज़ारे का आनंद ले सकते हैं, यहां ऑर्किड और फूलों की अन्य प्रजातियों की किस्में देखी जा सकती हैं।

डुड्रल चोर्टन एवं गोम्पा

डुड्रल चोर्टन एवं गोम्पा: यह विशाल सफेद चोर्टन 108 प्रेयर-व्हील्स (जिन्हें दक्षिणावर्त दिशा में घुमाना चाहिए) से घिरा हुआ है।

डीयर पार्क

डीयर पार्क: बच्चे इस स्थान को अवश्य पसंद करेंगे। आप प्राकृतिकवातावरण में विभिन्न प्रकार के हिरणों को देख सकते हैं। यदि आप प्रात: 7.30 बजे से 8.00 बजे के आसपास पार्क में आएं तो आपको हिरण चरते हुए मिल जाएंगे।

गंगटोक कब जाएं

इस जगह पर घूमने के लिये पूरे साल तक वातावरण अच्छा रहता है।

गंगटोक कैसे पहुँचें

आप गंगटोक वायु, रेल या सड़क मार्ग के माध्यम से गंतव्य तक पहुंच सकते हैं।

For more information about visit: http://www.swantour.com/

15 Differences about Traveler and Tourist

 

We all want to travel ... Serious who is not !!!

We all want to travel … Serious who is not !!!

How fun it is to get out of our comfort zone, to get from one city to another, to experience new things, to experience the shocked culture, to see strange traditions and to taste tasting or yuki food, but there Is a thin line, no no one that distinguishes a traveler from a tourist who does not make better than the other, it’s just a matter of traveling style and the fact that a traveler learns and saves so much more. So let me say that: a tourist is a person who travels to visit a place of pleasure, detached from the hustle and bustle of her daily life, someone who goes to a travel agency, asking them to make all the necessary arrangements without To get too much details or to go the extra mile, but a traveler is someone who regards his / her journey as a trip, which he wants to make the most of, learning as much as possible, embracing adventures and Misadventures, like to work with the local people To experience their culture and taste their local cuisine. So here are 15 steps to be a traveler who is not a tourist.  Holiday Packages in India

Make a Saving box

A real traveler does not leave his / her travel plans in anticipation of circumstances or about what he has been able to save for a certain period because they store a box where they store a monthly amount to ensure that they have money when there is a chance Comes.

Do not save what is left after spending, but spend what’s left after saving. ~ Warren Buffet

Do Extensive Research Before You Travel

Do Extensive Research Before You Travel

How on earth can you see if the destination you’re aiming for is money and worth visiting or not, if you do not do decent research? The answer is research, research and research! Spend hours of research, reading blogs, books, articles, talking with friends who have already been in your chosen destination, asking questions on online forums. The worst feeling in the world is saving your savings on a bad trip, or a place that does not fit your personal preferences.

Don’t over-plan

It’s good to know, read, investigate and plan everything about your destination, but you have to leave some space for innovation, a chance to lose, thinking of the box, always remember it’s randomly cool , And if there is no risk there is no fun.

Bonus tip: I usually choose a few things that I really want to visit at my chosen destination, things I can not leave without experiencing or seeing, then leave room for arbitrary plans that get my way.  Luxury Tours in India

Not all the people who are lost are lost. ~ J. R. R. Tolkien

luxury tours

Make your own bookings online

It does not require internet savvy to make online bookings, the internet has left nothing that can not be bought online; Flights, hotels, car rental, travel packages are no exception. Not only do you save time, but also money and effort. If you are skeptical about how to book your flights online, here’s how.

Dare to be Different

Try to tell your friends: “Hey guys this year I plan to travel differently, I’m going to Mt. Kilimanjaro, walking the Amazon, and doing Gorilla trekking in Uganda” be ready for sarcasm, mentally called, attacked and To be judged by everyone but who cares? Let go, it’s your life, nobody else, dare to be different and to travel differently.
Please be a tourist who is not a tourist. Try new things, meet new people and look beyond what’s right for you. These are the keys to understanding this amazing world in which we live. ~ Andrew Zimmern

Go off the Beaten Path

Avoid tourist falls, places where tourists only go, but this does not mean you do not have to go to the Eiffel Tower in Paris or Big Ben in London, it’s just that they should not be the highlight of your trip, get a good map , Put on good hiking shoes, choose a random place, and go explore.

Do not go to where the path can lead, place instead of a path and leave a trail. ~ Ralph Waldo Emerson
Choose your travel companion carefully

You are a traveler, no tourist, you know what the purpose of your trip is, so you have to make the effort to choose the right travel companion. This selection is even more important than the trip itself, your travel companion can make or ruin the whole trip. Choose someone with common interests, so if you want to go hiking, do not choose a tapestry, if you want to see, please do not choose shopaholic, if you are more in the morning activities, do not choose a nightlife guru. Make a smart choice not to regret it later, you might miss your friend, hate the city / travel companions, and hate yourself to waste your money on an unpleasant trip.  Latest Holiday Offers

luxury tours

Choose your Travel Companion Carefully

You are a traveler, no tourist, you know what the purpose of your trip is, so you have to make the effort to choose the right travel companion. This selection is even more important than the trip itself, your travel companion can make or ruin the whole trip. Choose someone with common interests, so if you want to go hiking, do not choose a tapestry, if you want to see, please do not choose shopaholic, if you are more in the morning activities, do not choose a nightlife guru. Make a smart choice not to regret it later, you might miss your friend, hate the city / travel companions, and hate yourself to waste your money on an unpleasant trip.

Stop Earning Money if you’re Excuse Not to Travel

Travelers travel with what money they have, they know they can adjust with what amount they have, but tourists are waiting for too long because they want to stay in a at least 3 star hotel, in the city center and eat in town Most famous and Expensive restaurants. If you travel abroad, you do not have to pay a fortune. Who said traveling to another country or another continent? You can still travel locally to many destinations, especially we are lucky to stay in a country that has a wide selection of beaches, adrenaline pumps and fun activities.

Travel is never a matter of money but courage. ~ Paulo Coelho

luxury tours

Travel Out of Season

Only tourists travel during high season because they are unaware of how much they can save when they travel out of season, unnecessary to say the less busy it is, so a greater chance to enjoy.

Eat street food

Avoid fancy restaurants, big food chains, go locally instead, eat out of food stalls, try to try out foods you are not familiar with, whether it’s crocodile and zebra meat from Africa, snails and frog legs from France, insects in Asia Be original, you may have stomach ache, but you will not die that I promise. Not only do you have the full experience of local cuisine, but you also save a lot of money.

Go to local Places and Mix with Locals

There is no better way to experience a strange country than to go to local places, to relax with the locals and get acquainted with their traditions. Nobody else can give you better insight, or on the ground recommendations like them, they will also help you become a skilled traveler, so learn, grow, enjoy and save a lot more.

If you reject the food, the customs ignore, fear the religion and avoid the people, you could stay better at home. ~ James A. Michener

Learn few Words from the Local Language

Learn few Words from the Local Language

Speaks the language of a strange country! It has a “magnetic effect”. We are all excited when we come to a foreigner who is hard trying to speak our language, right? We see how much this person has tried to learn our language to communicate with locals of all levels of education, so we get the most help.  Luxury Train Tour in India

Use Public Transport

No limousines, no taxis, stay locally and use public transport, no matter what it is-metro, trams, buses, microbuses, ferries, bicycles, tuktuks, even on the back of an elephant. Not only is it cheaper, but much more exciting, and especially your perfect opportunity to meet the locals and come to their daily routine.

Pack Light

You do not really have to wear 3 coats, 2 dresses, 4 pair of jeans, 2 high heels, 3 ballerinas and 2 flip-flops. One of the main differences between tourists and travelers is that the latter make a checklist and carry only items that they need and will actually use. When it comes to packages minimalist, it’s not hard to find laundry services.

luxury tours

Avoid Luxury at All Times

Yes, it’s delicious, yes, it’s great to be pampered, unless it’s your honeymoon, a vacation where accommodation is the main highlight, or you do not want to travel several times a year, do not stay in hotels Or luxurious alternatives for multiple reasons; 1. You just sleep, 2. You can save a lot if you choose cheap alternatives, and 3. This is the part where things get exciting, adventures and misadventures happen-not always :).

Travel – it makes you speechless, then you turn into a storyteller. ~ Ibn Battuta. Now, do you see yourself as a tourist or a traveler? And if you are a tourist, do you want to convert to a traveler?

Travel Agents in India

Arts and Culture, Destinations, Lifestyles, Budget, Local Destinations, Local Food, Local Tourism, Local Travel, Untreated Road, Untreated Track, Online Booking, Tavel Savings Box, Good Budget, Tourist Traveler

For more information about India Tours visit: http://www.swantour.com/

Find Five Famous Toy Trains in India

Famous Toy Trains in India

Five Famous Toy Trains from India

There are five popular tourist trains (Toy trains) in India. All of these five tourist trains run on a narrow line that connects the hill station with a flat area. The main purpose of these trains is to carry tourists and not to the needs of the local people’s transport. Usually these trains take more time than usual driveway, so not much by the locals. The demand for these trains will take place during the tourist season or during the holiday season. Some of these trains do not have online booking facilities. Some are still taken by steam locomotives, which is the main attraction for more tourists. Click here find more details about Luxury Tours in India.

In addition to these five toy trains, there are only few trains going through beautiful places, but we cannot count them as tourist trains because they are used by everyone and they pass just a few tourist spots. Luxury Train Tours in India

These Trains have recorded in Many Indian Movies.

It’s very hard to tell which of these the best train is, but all these trains have their own attraction.
Kalka Shimla toy train.

Between Kalka (Code: KLK) Shimla (Code: SML)
Duration: 5 hours
Distance: 96 KM
Online booking: Yes (irctc )

This train runs between Kalka Station in Punjab and Shimla, the capital of Himachal. The train begins to climb uphill from the Kalka station and eventually reaches Shimla at an altitude of 2076 meters above sea level. This train passes 102 tunnels and 87 bridges. The longest tunnel of them is near Barog station. here find Shimla Manali Tour Packages

Darjeeling toy trains

Darjeeling Himalayan Railway

From NEW JALPAIGURI (Code: NJP) to Darjeeling (Code: DJ) in West Bengal State
Distance 88 KM
Duration: 7 hours
Online booking: Yes (irctc.)

The famous song Mere Sapno Ki Rani of the 1969 classic Aradhana film with Rajesh Khanna and Sharmila Tagore was shot with this toy train and its track on the side of the road. This train passes through the Ghum station, India’s highest station at an altitude of 7407 feet. The Darjeeling terminal is at an altitude of 6812 feet. Steam locomotives are used for the short-span Joy ride between Ghum and Darjeeling stations. get here and find Darjeeling Tour Packages, While crossing the road several times, you also cross the track and the train.

Matheran Toy Train

Matheran Toy Train

Runs between: Neral (Code: NRL) & Matheran (Code: MAE)
Distance 21 KM
Duration: 2 hours
Online booking: Yes (irctc)

This is the best weekend trip for Mumbai travelers and other tourists. This service is not available during rainy seasons. It connects Neral station (local station between Mumbai and Pune) to Matheran hill station at an altitude of 803 meters. The frequency of trains increases during the weekends.

 Niligiri Mountain Railway

Niligiri Mountain Railway

Between: METTUPALAYAM (Code MTP) & UDAGAMANDALAM (Code: UAM)
Distance: 46Km
Duration: 5 hours
Online booking: Yes (irctc)

Udagamandalam is known as Ooty and this train is also known as Ooty toy train. With 16 tunnels and 250 bridges, this train passes through Coonoor city famous for tea gardens. From a train station Mettupalayam to Coonoor, a steam engine pushes the train from behind. The first class compartment is connected to the front of the train, giving you a spectacular view of the track and the valley.

Kangra Valley Train

Kangra Valley Train

Runs between: Pathankot (Code: PTK) & Joginder Nagar (Code: JDNX)
Distance: 164 KM
Duration: 9 hours
Online booking: Yes (irctc)

This train passes through the Kangra Valley through tall bridges and tunnels. It takes more time to reach Joginder Nagar than the usual road trip. By the end of the trip you can see snow-covered mountains and rivers along the side of the train track. The trip was pleasant after Kangra Station.

Take a first-rate ticket from the counter (no online booking) at Pathankot and go to the opposite side of the platform. There will be a first class compartment in this train and you can easily find it. Take a right to enjoy the valleys and rivers along the side of the track. here find Kashmir Tour Packages at swantour.com its a leading travel agents in India.

Rich Packaging Tips for the India Monsoon Season

monsoon

Monsoons can be the best time to travel in many parts of India. In India, monsoons usually last from June to September ending in most parts of the country. This is when landscapes on their greenest and freshest roads are at their cleanest and when the weather is at its most pleasant temperature. With the end of the summer vacation in Indian schools, tourist attractions are less crowded and good bargains can be found while traveling

However, it may be very annoying if you do not have the right things when you travel during the moesson. Here is a list of things to be packed during the monsoon: Also Visit: Kerala Tour Packages

monsoon

Bag: Wear a lightweight waterproof bag to keep your things dry. It is also wise to purchase a plastic case for your phone, wallet and passport and ensure that the electronic goods are safely stored in your bag.

Clothes: Wear light cotton clothes or comfortable, partially synthetic clothing that can dry quickly when you get wet. Shorts or three-quarters pants are always better than full-length clothes, which are usually reduced in plasma or by splash. Avoid light colors that are sensitive to being colored. A jacket is a must-have item, especially if you plan to walk outside or walk a lot. A windscreen is useful for keeping you warm during the rain, one without lining is better than one because most parts of India are quite hot when it stops raining. If you plan to go to a hill station which is cooler and where it rains heavily, a warm lining jacket would also be useful. Also Visit: Kerala Holiday Package

monsoon

Umbrella: In general, to walk only around towns, an umbrella just works well to keep you relatively dry. Convenient folding umbrellas are easy to carry and do not take up much space. Umbrellas are quite cheap in India and it is best to buy one when you get there.

Shoes: Closed waterproof shoes are essential to keep your feet clean. High boots or even gum boots are good, but it can wear it warm. Avoid wearing open rubber slippers or sandals that only make your feet dirty. Wearing sneakers or canvas shoes is also a bad idea because they take a long time when they get wet.

Mosquito Repellant or Nets: The moesson draws a lot of mosquitoes and it’s best to prevent you being bitten, so you do not get sick. Mosquito-borne diseases such as malaria and dengue fever are very dangerous, especially during the monsoon. It is therefore important to protect mosquitoes using tropical antipyretic agents. If you can easily prepare, mosquitoes are also worth while sleeping.

kerala tour packages

Food and water: Food tends to rinse easily or get wet in the monsons, so it is worth to wear small, air tight containers for packing food. Water may also be infected this season, and it is safest to buy packaged water available throughout India. Also Visit: Holiday Packages in India

Mats or newspapers: If you plan to picnic during the road, it is useful to wear dry mats or plastic sheets to spread on wet surfaces. These can also be useful if you wait long for waiting or bus stations.

Sunblock: You can still make sunburn, so make sure you use sunscreen, even when it’s raining.

This is a list of things that are useful for traveling during the monsoon, but of course you can also have a wide range of other basic requirements that you need to handle. More tips on what you can pack on this package for the Indian Monsoon Season thread during the monsoon.

monsoon

For more information about India tour packages visit: http://www.swantour.com/

Travel Information About Local Transport In Delhi

Local Transport In Delhi

Local Transport In Delhi

Local transportation is the lifeline of the capital of New Delhi, More than half of the population in Delhi is dependent on local transportation for commuting purposes. The means and modes of transportation in New Delhi are many, ranging from the cheapest trains and buses to expensive taxis. DTC or Delhi Transport Corporation is the main public transport in Delhi and offers bus services throughout the city. During your vacation in Delhi, you can select one of the following modes of transportation in the city.

Buses in Delhi

Buses in Delhi

One of the cheapest means of transport in Delhi is the local buses. In fact, the capital is one of the largest bus transport systems in India. Almost all buses in Delhi are either owned by the Delhi Transport Corporation (DTC) or the private contractors. The bus rates apply for 2, 5, 7 and 10 rupees. A lot of time back, the government introduced environmentally friendly CNG buses in the city that are now fully taken over.

Taxis in Delhi

Taxis in Delhi

Taxis are easily available in Delhi. The taxis are usually carried out by DTC, the Indian Tourism Ministry and several private operators. They are available for both local commuting and long-distance use. One must however be in the taxi or call a taxi service provider by telephone to rent them. Taxi’s are also a bit expensive in Delhi.

Auto Rickshaws in Delhi with girls

Auto Rickshaws in Delhi

Auto Rickshaws fall between taxis and buses. They are more expensive than buses but cheaper than taxis. They are also easily accessible because they can be marked off the road. One should, however, be careful when renting cars. This is because most car drivers refuse to pick the meter. If this happens, you need to bargain a bit and pre-fix before renting the car.

Delhi Metro

Travel by Metro in Delhi

Delhi’s local transport features the relatively introduced Delhi Metro. Metro has not yet reached all parts of Delhi, but it is under construction and some routes have been completed and are already operational. The price of Metro is reasonable and the trip is a pleasant experience.

Local Trains with girls

Local Trains in Delhi

Local trains are one of the cheapest means and means of transport in Delhi. Both interstate and intra-communal trains run from different stations in Delhi. Trains with the trains are quite time-saving. The main train stations in the capital are Old Delhi, Hazrat Nizamuddin, New Delhi, Okhla, Pragati Maidan, Shahdara, Shakur Basti and Tilak Bridge. There are plenty of other small stations in Delhi for local shuttle services.

Find here best Travel deals without any hassles at Swan Tour. They are best travel agents in India and provide all information about your vacation & Delhi Sightseeing Tour by Car.

How To Address People, When Traveling In India

When asking someone’s name, many Indians say, “What is your good name?,” so it’s polite to do likewise. Always address people formally until invited to do otherwise—especially people whose status is equal to or higher than yours and those who introduce themselves with a title. Elders should be addressed as Sir or Madam or – ji (see below) unless they specifically ask you to call them by their first names, but it’s OK to be more informal with youngsters. Traditionally, people are addressed by their personal names only by family, superiors, close friends and elders. Of course, in tourist areas, many people are used to being on a first-name basis with new acquaintances, and they may introduce themselves accordingly.

Travel Agents in India
When addressing a person who has a professional title, such as Doctor, Professor or Pandit, always use it, at least until you know when you the person better. Use Mr., Mrs. or Miss for those without professional titles, followed by the name with which they were introduced to you. For women, this is more likely to be their given name, e.g., Miss Gita or Mrs. (or Madam) Gita. Indians attach great importance to their titles and expect them to be used, especially by new acquaintances. Always use professional titles when doing business or dealing with bureaucrats.
If you are introduced to a Mr. Ram Prasad Sharma, you can address him either as Mr. Sharma or Sharma-ji. Once you know him well, you might be invited to just call him by his given name or nickname, if he has one, or perhaps his initials, R.P If you meet a man named Dr. Satish Shukla, then you would normally address him as Dr. Shukla or Dr. Satish, depending on the introduction, but the form of address can be a little more complicated for women. A Doctor Shankari Gaur may be introduced as Dr. Mrs. Gaur or Dr. Mrs. Shankari, though you could address her as Dr. Shankari or Dr. Gaur.
Titles can be further complicated for both men and women because military and other professional titles may accumulate, and all of them are normally retained for one’s whole life. A woman might be known as Dr. Professor Mrs. Bharati AggarivaL while a man could be Dr. Air Marshall Professor V. P. L. Rawest. Anything is possible. For verbal address in formal situations, use the first title in the string if the tit you’re not sure, but in writing, u se R. K the full name with all of the titles, e.g., Pandit Dr. Prof. R. K. Chaturvedi.

Don’t call a person by his or her given name or nickname until the person has invited to you to do. If you want a small step down in formality, use a man’s last name with -Ji (pronounced jee) rather than the first name. If you are on a first-name basis, you can append Ji to the first name unless the person really doesn’t like to be called Ji, as some people don’t. Ji can be either a term of great respect or great intimacy. As a respectful honorific, it has a similar force to Sir, but it can also be applied to women, You can .also use it with children or anyone with whom you are 71 familiar terms. It can be attached to a first name, last name, title, or nickname, or else it can be used alone. It’s extremely useful can’t pronounce someone’s name or can’t remember it, or even when you never knew it in the first place. Ji (which is Hindi) is so widely used and understood that it’s safe to use it almost anywhere, although other forms may be preferred in various parts of India.

Travel Agents in Delhi
Use Ji when addressing sadhus, yogis, pandits, teachers, police officers, bureaucrats, officials of any kind, etc. However, even when you are speaking to a lowly government clerk, you may want to add Ji. If you need that person to get something done for you, a show of respect is important. You can also use Ji with a title, e.g., Doctor-Ji. Never address beggars or menial laborers as Ji. You would also not address most servants as Ji.
Many people have a guru of one sort or another. A guru is traditionally a spiritual preceptor, but can also be a music teacher, dance teacher, etc. A spiritual guru may be addressed or referred to as Guru-Ji, or Guru Dev. Orange-robed sadhus and sannyasis may be addressed as Swami-Ji or Maharaj. Respected pandits (learned Brahmins) are usually addressed as Pandit-Ji.

Travel Agency
Among certain traditional segments of society, a wife won’t address her husband by name, or even say his name aloud. When referring to him, she may use Ji with his last name (e.g., Sharma-Ji) or refer to him as the father of their child (e.g., Anil’s father) or even just as he or him.

Nicknames are extremely common. Often they are merely a shortening of a longer name: Vikas, a boy’s name, might be transformed into Vicky, for instance, and Tejaswini, a girl’s name, may become Teju. Marty men use their initials. English nicknames are common among Westernized Indians. Women may have names like Lucky, Smarty, Beauty, or Pinky, and men might be called Bunny, Bittoo, Munna or Dumpy. Many men prefer to be known by their initials. It is also common for people to shorten a long name. For instance, Mr. Kumaraswamy might shorten his name to Mr. Kumar.

After titles, most people will use their given names first, followed by a family, caste, or clan name. There are plenty of exceptions, though, and you will only know for sure by asking.

Hot Air Ballon Ride
The wife and children may take the husband’s or father’s given name as their second name; e.g., Anjuli, the wife of Narayanaswamy might become Anjuli Narayanaswamy. There are also cases where the given name may be preceded by the mother’s family name. After marriage, women may take the husband’s name, which is typically the family name in the North and the first name in the South. It is, however, no longer uncommon for professional women to keep their maiden name after marriage.

Traditions differ in various parts of the country. In the North, Hindus usually have a first and last name, but many names that seem to be surnames are actually caste names, e.g., Sharma, Varma, Gupta, Gujjar, etc., and sometimes surnames will be occupational names, such as Pilot. To avoid being identified by caste, people may take their father’s name or village name as a surname. In the South, men normally use the name of their ancestral village and/or the names of their father, but these names are typically used in front of the given name as initials.

Beaches in India
Within a family, relationship names are used more commonly than given names. In Hindi, for instance, the paternal grandfather and grandmother are Dada and Dadi, respectively, while the maternal grandparents are Nana and Nani. The father’s elder brother is Chacha, while mother’s elder brother is called Mama. Each relationship is named in a particular way. There is a whole special set of names for one’s in-laws, so instead of all of one’s spouse’s brothers being called brother-in-law, for example, each has a specific term. A woman’s husband’s younger brother is Dever, and his wife is called Devarani, while the elder brother is Tayi, etc. The elder brother’s wife is called Bhabhi. The wife’s brothers and their wives have a whole different set of names, and so on. The eldest sister is called Didi, but younger sisters are called by their given names or nicknames.

Cousins how are often referred to as cousin brother or cousin sister, however, people may also use these terms to refer to more distance relatives, or sometimes to close friends who are not related at all. In this case, these terms are a way of saying that “he is like a brother to me” or “she is like my sister.”

travel
A man’s name may be followed in writing by s/o, i.e., “son of,” and the father’s name (especially for official documents or announcements). A woman’s name may be followed by d/o, or “daughter of,” with the father’s name, or w/o, “wife of,” with the husband’s name, if she is married.

Sikh men usually have Singh as a middle name or surname, and most Sikh women have the name Kaur. However, not all Singhs and Kaurs are necessarily Sikhs, and some Sikhs have changed their names for various reasons. Address a Sikh by his or her given name preceded by Mr. or Mrs. rather than saying Mr. Singh or Mrs. Kaur. Sikh men are also referred to as sardars.

Muslim names are typically of Arabic derivation. The given name of a Muslim man is generally followed by bin (son of) and his father’s name, e.g., Abdul bin Mohammed, while a Muslim woman’s name includes binti (daughter of) plus her father’s name. Westernized Muslims often drop the bin or binti from their names. The title Hajji (for men) or Hajjah (for women) indicates that the person has made the pilgrimage to Mecca (the Hajj), which all devout Muslims hope to do once in their life.

Indians generally address all adult women over the age of about 25 as Mrs. or Madam whether they are married or not. If you are a woman who normally prefers to be called Ms., you will find that insisting on this form of verbal address is generally an exercise in frustration. If you do insist, people will try to honor your request because they want to please you, but their cultural habits are so deeply ingrained that they will inevitably forget—and they may also privately think that your request is silly. It is far better to accept the customs of the culture than to try to change them; after all, you are merely a visitor.

travels
Peons in many organizations have been trained to address everyone, including women, as Sir. The habit is often so deeply ingrained that trying to correct them is a complete waste of time. To them, it’s the same as saying Ji, which is used for men and women alike, so you should accept it as it’s meant.

Kerala Tours
Depending on your age and your relationship with them, your Indian friends may address you as if you were a relative: Auntie, Uncle, Mother, Father, Mataji (respected mother), Didi (elder sister), and so on. Children are commonly taught to call adults Auntie or Uncle, whether they know them or not.

Swan tours is a leading Tour Operators in Delhi and travel agents in India since 1995.

मुंबई के बारे में पूरी जानकारी

मुंबई एक मायानगरी है

मुंबई एक मायानगरी है

मुम्बई का नाम आते ही दिलो दिमाग पे यह की चकाचौंध जिंदगी अपने आप छा जाती है | मुम्बई  का नाम आते है बॉलीवुड और अपने सितारों की याद जाती बॉलीवुड के बादशाह शाहरुख खान हो या बेताज बादशाह अमिताभ बच्चन की या फिर सलमान खान की सभी की दुनिया यही आबाद होती है | भारत के पश्चिमी तट पर महाराष्ट्र राज्य की कैपिटल सिटी मुंबई है | मुंबई को माया नगरी भी कहा जाता है ज्यादातर मुंबई सिटी फिल्म सिटी जानी जाती है | लोग फिल्म की दुनिया में अपना कैरियर बनाने मुंबई जाते हैं और जो भी लोग मुंबई जाते हैं वो वहां की माया देखकर वहीं रह जाते हैं | इस लिए हमें यहां की कुछ बारीकियों का उड्डयन करना पड़े गा जिस से यहां की हक़ीक़त जिंदगी की पहलुओं को जादिक से जान सकते है |  आये हम यहां कुछ मुम्बई  की बारीकियों का अध्यन करे | Luxury Hotels in Mumbai मुंबई एक मायानगरी है

मुम्बई  की जमीनी हकीकत

मुम्बई भारत के पश्चिमी तट पर मजूद है मुम्बई (पहले मुम्बई को लोग बम्बई बुलाते थे ), भारतीय राज्य महाराष्ट्र की राजधानी है। इसकी अनुमानित जनसंख्या ३ करोड़ २९ लाख है जो देश की पहली सर्वाधिक आबादी वाली नगरी है।  इसका गठन लावा निर्मित सात छोटे-छोटे द्वीपों द्वारा हुआ है एवं यह पुल द्वारा प्रमुख भू-खंड के साथ जुड़ा हुआ है। मुम्बई बन्दरगाह भारतवर्ष का सर्वश्रेष्ठ सामुद्रिक बन्दरगाह है। मुम्बई का तट कटा-फटा है जिसके कारण इसका पोताश्रय प्राकृतिक एवं सुरक्षित है। यूरोप, अमेरिका, अफ़्रीका आदि पश्चिमी देशों से जलमार्ग या वायुमार्ग से आनेवाले जहाज यात्री एवं पर्यटक सर्वप्रथम मुम्बई ही आते हैं इसलिए मुम्बई को भारत का प्रवेशद्वार कहा जाता है।

मुम्बई शहर,जैसा हम सभी जानते है की मुम्बई  को  बंबई के नाम से जानते थे, यह महाराष्ट्र, राज्य की राजधानी भी  है। मुम्बई को भारत का प्रवेश द्वार भी कहा जाता है। यह दक्षिण-पश्चिम भारत देश का वित्तीय व वाणिज्यिक केंद्र और अरब सागर में स्थित प्रमुख बंदरगाह है। मुम्बई दुनिया के विशालतम व सबसे घनी आबादी वाले शहरों में से एक है।  मुम्बई एक प्राचीन बस्ती के स्थल पर बसा हुआ है और इसका नामकरण भगवान शंकर की पत्नी पार्वती देवी के एक रूप, स्थानीय देवी मुंबा के नाम पर किया गया है जिनका मंदिर उस स्थल पर था, जहाँ पर अब नगर का दक्षिण-पूर्वी हिस्सा अवस्थित है। मुम्बई लंबे समय से भारत के सूती वस्त्र उद्योग के केंद्र के रूप में विख्यात रहा है, लेकिन अब यहाँ विविध निर्माण उद्योग भी हैं और इसके वाणिज्यिक व वित्तिय संस्थान सशक्त और सबल हैं। इस शहर में अधिकांश बड़े, विकासशील औद्योगिक नगरों की पुरानी समस्या वायु व जल प्रदूषण , झुग्गी, बस्ती और अत्यधिक भीड़भाड़ मौजूद है। द्वीपीय अवस्थिति के कारण मुम्बई का विस्तार सीमित है। ITC Maratha Mumbai

मुम्बई भारत का महत्वपूर्ण व्यापारिक केन्द्र है। जिसकी भारत के सकल घरेलू उत्पाद में 5% की भागीदारी है। यह सम्पूर्ण भारत के औद्योगिक उत्पाद का 25%, नौवहन व्यापार का 40%, एवं भारतीय अर्थ व्यवस्था के पूंजी लेनदेन का 70% भागीदार है। मुंबई विश्व के सर्वोच्च दस वाणिज्यिक केन्द्रों में से एक है। भारत के अधिकांश बैंक एवं सौदागरी कार्यालयों के प्रमुख कार्यालय एवं कई महत्वपूर्ण आर्थिक संस्थान जैसे भारतीय रिज़र्व बैंक, बम्बई स्टॉक एक्स्चेंज, नेशनल स्टऑक एक्स्चेंज एवं अनेक भारतीय कम्पनियों के निगमित मुख्यालय तथा बहुराष्ट्रीय कंपनियां मुम्बई में अवस्थित हैं। इसलिए इसे भारत की आर्थिक राजधानी भी कहते हैं। नगर में भारत का हिन्दी चलचित्र एवं दूरदर्शन उद्योग भी है, जो बॉलीवुड नाम से प्रसिद्ध है। मुंबई की व्यवसायिक अपॊर्ट्युनिटी, व उच्च जीवन स्तर पूरे भारतवर्ष भर के लोगों को आकर्षित करती है, जिसके कारण यह नगर विभिन्न समाजों व संस्कृतियों का मिश्रण बन गया है। मुंबई पत्तन भारत के लगभग आधे समुद्री माल की आवाजाही करता है। ITC Grand Central, Mumbai

mumbai

मुम्बई का इतिहास

पहले के समय में मुंबई एक महा शक्तिशाली राक्षस की नगरी थी वह राक्षस प्रेम और वासना मैं डूबा रहता था | राक्षस को जो भी कन्या पसंद आ जाती थी उसे वह अपने पास रख लेता था |  एक बार वहां से एक राज कन्या पसार हुई तब राक्षस ने उसे बंदी बना लिया और अपनी नगरी में रख लिया | जब भी राक्षस उस राज कन्या के पास जाता था तब राजकन्या घर जाने की जीद पकड़ी हुई थी और इसी जिद के कारण राजकन्या ने खाना पीना छोड़ दिया था |  राक्षस राजकन्या को मनाने के लिए हर रोज जाता था लेकिन राज कन्या कि एक ही जीद थी कि “मुझे घर जाना है” पर वह राक्षस राज कन्या को घर जाने नहीं देता था | ऐसे ही थोड़े दिनों बाद राजकन्या की मृत्यु हो गई | राजकन्या की मृत्यु से दुखी होकर राक्षस भगवान शिव की कठोर तपस्या करने लगा और फिर तपस्या करने के बाद भगवान शिव उस राक्षस को प्रसन्न हुए और राक्षस ने वरदान मांगा |  तब राक्षस ने अपनी नगरी को मायानगरी में बदलने का वरदान माँगा कि यहाँ जो भी एक बार आये वो लौटकर वापस नहीं जाना चाहिए और भोज विलास वासना में लिप्त रह कर अपना पूरा जीवन बिताये |  तब से मुंबई मायानगरी में बदल गई और यहाँ आने वाला हर इंसान मुंबई मायानगरी के भोग, विलास और वासना से भरपूर जीवन को सहजता से स्वीकार करता गया | आज भी जो एक बार मुंबई आता है, वो लौटकर वापस नहीं जाता |

मछुआरों की मूल जनजाति, कोली यहाँ के आरम्भिक ज्ञात निवासी थे, हालाँकि वृहद मुम्बई के कान्दीवली में पाए गए पुरापाषाण काल के पत्थर के औज़ार यहाँ पाषाण काल के दौरान मानव बस्ती की ओर संकेत करते हैं। प्राचीन यूनानी खगोलशास्त्री व भूगोलविज्ञानी टॉलमी के समय में यह क्षेत्र हेप्टेनिशिया के रूप में जाना जाता था और यह 1000 वर्ष ई. पू. में फ़ारस व मिस्र के साथ समुद्री व्यापार का प्रमुख केन्द्र था। तीसरी शताब्दी ई. पू. में यह अशोक के साम्राज्य का हिस्सा था और छठी से आठवीं शताब्दी में यहाँ चालुक्यों का शासन रहा, जिन्होंने अपनी छाप घरपुरी (एलीफ़ेन्टा द्वीप) पर छोड़ी। मालाबार पॉइन्ट पर बना वाकेश्वर मन्दिर सम्भवतः कोंकण तट के शिलाहर प्रमुखों के शासन (9वीं से 13वीं शताब्दी) के दौरान निर्मित किया गया था। दोगिरि के यादवों (1187-1318) के समय में इस द्वीप (जो बाम्बे द्वीप बना) पर महिकावती (माहिम) बस्ती की स्थापना हुई, जो 1924 में हिन्दुस्तान के ख़िलजी वंश के आक्रमणों के जवाब में बनाई गई। इन्हीं के वंशज वर्तमान मुम्बई में पाए जाते हैं और बहुत से स्थानों के नाम आज भी उसी युग से हैं। 1348 में आक्रमणकारी मुस्लिम सेनाओं ने इस द्वीप को जीत लिया और यह गुजरात राज्य का हिस्सा बन गया। माहिम को जीतने की पुर्तग़ाली कोशिश 1507 में असफल रही, लेकिन 1534 में गुजरात के शासक सुल्तान बहादुरशाह ने यह द्वीप पुर्तग़ालियों को सौंप दिया। 1661 में किंग चार्ल्स द्वितीय व पुर्तग़ाल के राजा की बहन कैथरीन आफ़ ब्रैगेंज़ा के विवाह के बाद यह ब्रिटिश नियंत्रण में आ गया। राजा ने इसे 1668 में ईस्ट इंडिया कम्पनी को सत्तांतरित कर दिया। शुरुआत में कलकत्ता (वर्तमान कोलकाता) व मद्रास (वर्तमान चेन्नई) की तुलना में बंबई कम्पनी की बहुत बड़ी सम्पत्ति ने होकर केवल पश्चिमी तट पर कम्पनी की पैर जमाए रखने में सहायता करता था। Grand Hyatt Mumbai

बिज़नेस केपिटल ऑफ़ इंडिया मुम्बई को पहले बॉम्बे के नाम से जाना जाता था। मुम्बई शहर को बिजनेस केपिटल ऑफ इंडिया के नाम से भी जाना जाता है। यहां देश के प्रमुख वित्तीय और संचार केन्द्र है। भारत का सबसे बड़ा शेयर बाज़ार, जिसका विश्व में तीसरा स्थान है, मुम्बई में ही स्थित है। मुम्बई भारत के पश्चिमी समुद्र तट पर स्थित है। यह अरबियन समुद्र के सात द्वीपों का एक हिस्सा है। इसलिए इसे सात टापुओं का नगर भी कहा जाता है। मुम्बई सामान्य रूप से सात द्वीपों जिनके नाम कोलाबा , माजागांव, ओल्ड वूमन द्वीप, वाडाला, माहीम, पारेल और माटूंगा-सायन पर स्थित है।

सन् 1661 में इंग्लैंड के महाराजा चार्ल्‍स ने पुर्तग़ाल की राजकुमारी कैटरीना डे ब्रिगेंजा से शादी की थी। शादी में दहेज के रूप में चार्ल्‍स को बम्बई शहर मिला था, जो वर्तमान समय में मुम्बई के नाम से जाना जाता है। लेकिन सन् 1668 में मुम्बई ईस्ट इंडिया कम्पनी के हाथों में चला गया। सन् 1868 में महारानी विक्टोरिया ने शहर के प्रशासन को ईस्ट इंडिया कम्पनी से वापस ले लिया।

मुम्बई का भौतिक एवं मानव भूगोल

मुम्बई का भौतिक एवं मानव भूगोल

मुम्बई शहर प्रायद्विपीय स्थल पर बसा हुआ है, जो मूलतः पश्चिम भारत के कोंकण तट के पास स्थित सात द्वीपिकाओं से मिलकर बना है। 17 वीं शताब्दी से अपवाह व भूमि फिर से हासिल करने की परियोजनाओं और जलमार्गों व जल अवरोधकों के निर्माण के कारण ये द्वीपिकाएं मिलकर एक बड़े भूभाग का निर्माण करती हैं, जिसे बंबई द्वीप के नाम से जाना जाता था। इस द्वीप के पूर्व में मुम्बई बंदरगाह का स्थिर जलक्षेत्र है। यह द्वीप निम्न मैदान से बना है, जिसका एक चौथाई हिस्सा समुद्र तल से भी नीचा है; इस मैदान के पूर्वी और पश्चिमी किनारों में निचली पहाड़ियों की दो समानांतर पर्वतश्रेणियाँ हैं। इनमें से लंबी पर्वतश्रेणी द्वारा सुदूर दक्षिण में निर्मित कोलाबा पॉइंट मुम्बई बंदरगाह को खुले समुद्र से बचाता है। पश्चिमी पर्वतश्रेणी मालाबार हिल पर समुद्र तल से 55 मीटर की ऊँचाई पर समाप्त होती है, जो मुम्बई की सबसे ऊँचे इलाकों में से एक है। इन दो पर्वत श्रेणियों के बीच पश्च खाड़ी (बैक बे) का छिछला विस्तार है। इस खाड़ी के शीर्ष और बंदरगाह के बीच कुछ ऊँची भूपट्टिकाओं पर दुर्ग स्थित है, मूलतः इसी के चारों ओर शहर का विस्तार हुआ। अब यहाँ मुख्यतः सार्वजनिक एवं वाणिज्यिक कार्यालय हैं। पश्च खाड़ी से उत्तर की ओर भूतल मध्यवर्ती मैदान की दिशा में ढलान वाली है। बंबई के सुदूर उत्तर में विशाल खारे दलदल हैं।
शहर की संरचना The Lalit Mumbai

मुंबई में पुराने हिस्से ज़्यादा निर्मित हैं, लेकिन अधिक समृद्ध क्षेत्रों, जैसे मालाबार हिल में कुछ हरियाली है। यहाँ कई खुले मैदान व पार्क हैं। मुंबई में लगातार शहरीकरण के इतिहास के कारण शहर के कई हिस्सों में झुग्गी बस्तियाँ बन गईं हैं। इस शहर में अनेक कारख़ानों, बढ़ते यातायात और निकट स्थित तेलशोधनशालाओं के कारण वायु एवं जल प्रदूषण ख़तरे के स्तर तक बढ़ गया है। शहर के दक्षिणी हिस्से में वित्तीय ज़िला (पुराने फ़ोर्ट बंबई के आसपास) स्थित है। सुदूर दक्षिण (कोलाबा के आसपास) और पश्चिम में नेताजी सुभाष चंद्र रोड (मरीन ड्राइव ) तथा मालाबार हिल आवासी क्षेत्र हैं। फ़ोर्ट क्षेत्र के उत्तर में प्रमुख व्यापारिक ज़िला है, जो धीरे-धीरे वाणिज्यिक आवासीय क्षेत्र में शामिल हो रहा है। अधिकांश पुराने कारख़ाने इसी क्षेत्र में स्थित हैं। सुदूर उत्तर में आवासीय क्षेत्र हैं और उनके बाद हाल ही में विकसित औद्योगिक क्षेत्र और झुग्गी बस्तियों के इलाक़े हैं।

मुम्बई की अर्थव्यवस्था

मुम्बई की अर्थव्यवस्था

मुम्बई भारत की आर्थिक धुरी एवं वाणिज्यिक व वित्तीय केन्द्र है। कुछ मायनों में इसकी आर्थिक संरचना भारत में नाभिकीय और पुरातन कालों के संयोजन को प्रदर्शित करती है। इस नगर में भारतीय परमाणु ऊर्जा आयोग स्थित है, जिसमें परमाणु रिऐक्टर और प्लूटोनियम विलग्नक स्थित है। नगर के कई हिस्सों में अब भी ईंधन और ऊर्जा के पारम्परिक जैविक साधनों का इस्तेमाल होता है।

मुम्बई की परिवहन

मुम्बई की परिवहन

मुम्बई सड़क संजाल द्वारा भारत के अन्य हिस्सों से जुड़ा हुआ है। यह पश्चिम तथा मध्य रेलवे का मुख्यालय है और इस नगर से चलने वाली रेलगाड़ियाँ भारत के सभी हिस्सों तक सामान व यात्रियों को ले जाती हैं। छत्रपति शिवाजी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा कई विदेशी हवाई सेवाओं के आगमन का महत्त्वपूर्ण स्थल है। जबकि निकटस्थ सान्ताक्रूज़ हवाई अड्डे से घरेलू उड़ानें भरी जाती हैं। JW Marriott Hotel, Mumbai

मुम्बई में भारत के अंतर्राष्ट्रीय हवाई यातायात का 60 प्रतिशत और घरेलू यातायात का लगभग 40 प्रतिशत हिस्सा केन्द्रित है। यहाँ के बंदरगाह पर उपलब्ध सुविधाओं ने मुम्बई को देश का प्रमुख पश्चिमी बंदरगाह बना दिया है। हालाँकि पश्चिमी तट पर मुम्बई के उत्तर में कांडला और दक्षिण में गोवा व कोच्चि जैसे कई अन्य प्रमुख बंदरगाह बन गए हैं, लेकिन यहाँ से अब भी भारत के समुद्री व्यापार का 40 प्रतिशत हिस्सा संचालित होता है। दो उपनगरीय विद्युत रेलप्रणालियाँ मुख्य सार्वजनिक परिवहन उपलब्ध कराती हैं और रोज़ महानगरीय क्षेत्र के लाखों लोगों को ढोती हैं। मुम्बई में नगरपालिका के स्वामित्व वाली बस सेवा भी है।

mumbai

मुम्बई की प्रशासनिक एवं सामाजिक विशेषताएँ

महाराष्ट्र की राजधानी के रूप में यह शहर राज्य प्रशासन का समेकित राजनीतिक खण्ड है, जिसके मुख्यालय को मंत्रालय कहा जाता है। राज्य सरकार पुलिस बल को नियंत्रित करती है और नगर के कुछ विभागों पर प्रशासनिक नियंत्रण रखती है। डाक एवं टेलीग्राफ़ प्रणाली, रेल, बंदरगाह और हवाई अड्डों जैसे संचार साधनों पर केन्द्र सरकार का नियंत्रण है।

मुम्बई में भारतीय नौसेना की पश्चिमी कमान का मुख्यालय भी है और यह भारतीय फ़्लैगशिप का बेस भी है। शहर का प्रशासन वृहद (ग्रेटर) मुम्बई के पूर्णतःस्वायत्त नगर निगम के अंतर्गत है। इसकी विधायी संस्था का निर्वाचन हर चार वर्ष में वयस्क मताधिकार द्वारा होता है और यह विभिन्न स्थायी समितियों के माध्यम से काम करती है। राज्य सरकार के द्वारा तीन वर्षों के लिए नियुक्त मुख्य कार्यकारी यहाँ का निगम आयुक्त होता है। महापौर का चुनाव हर वर्ष नगर निगम द्वारा किया जाता है; महापौर निगम की बैठकों की अध्यक्षता करता है और शहर में सर्वाधिक सम्मानित माना जाता है, लेकिन वस्तुतः उसके पास कोई सत्ता नहीं होती। 1885 में कांग्रेस के प्रथम स्थापना अधिवेशन मुम्बई में उत्तर प्रदेश से भाग लेने वाले मुख्य प्रतिनिधि गंगाप्रसाद वर्मा थे।

मुम्बई की शिक्षा

मुम्बई की शिक्षा

मुम्बई की साक्षरता दर समूचे राष्ट्र की साक्षरता दर से काफ़ी अधिक हैं। प्राथमिक शिक्षा मुफ़्त व अनिवार्य है और यह नगर निगम का दायित्व है। माध्यमिक शिक्षा सरकारी व निजी विद्यालयों द्वारा सरकार की देखरेख में कराई जाती है। यहाँ सार्वजनिक एवं निजी पालिटेक्निक व संस्थान हैं, जो विद्यार्थियों को यांत्रिकी, विद्युत तथा रासायनिक इंजीनियरी में विभिन्न डिग्री व डिप्लोमा देते हैं। केन्द्र सरकार के द्वारा संचालित भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आई. आई. टी.) भी यहाँ पर स्थित है। अन्य इंजीनियरिंग कॉलेजों में:-

सरदार पटेल कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग
वीरमाता जीजाबाई टेक्नोलाज़िकल इंस्टिट्यूट
के. जी. एस. कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग
एम. एच. एस. एस. कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग
डी. जे. एस. कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग
थोडोमल शाही इंजीनियरिंग कॉलेज
विवेकानन्द इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलोज़ी शामिल हैं।

1857 में स्थापित बाम्बे विश्वविद्यालय से सम्बद्ध कला, विज्ञान, वाणिज्य व शिक्षा सम्बन्धी महाविद्यालय, चिकित्सा, होमियोपैथी, यूनानी चिकित्सा, फ़ार्मेसी व दन्त चिकित्सा महाविद्यालय, वास्तुशिल्प, शारीरिक शिक्षा एवं प्रबन्धन संस्थान हैं। मुम्बई में महिलाओं के लिए एस. एन. डी. टी. विश्वविद्यालय भी है। 1857 में स्थापित मुम्बई विश्वविद्यालय से बहुत से महाविद्यालय और कई शिक्षण विभाग जुड़े हुए हैं। गोवा में स्थित बहुत से महाविद्यालय इस विश्वविद्यालय से सम्बद्ध हैं।
कला और संस्कृति

मुम्बई का सांस्कृतिक जीवन इसकी जातीय विविधतायुक्त जनसंख्या को प्रतिबिम्बित करता है। शहर में बहुत से संग्रहालय, पुस्तकालय, साहित्यिक एवं कई अन्य सांस्कृतिक संस्थान, कला, दीर्घाएँ व रंगशालाएँ हैं। भारत

का कोई अन्य शहर अपनी सांस्कृतिक एवं मनोरंजन सुविधाओं के मामले में इतनी उच्च श्रेणी की विविधता और गुणवत्ता का शायद ही दावा कर सके।

साल भर यहाँ पश्चिमी व भारतीय संगीत सम्मेलन एवं महोत्सव और भारतीय नृत्य कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। इंडो-सार्सेनिक वास्तुशिल्प की एक इमारत में द प्रिंस आफ़ वेल्स म्यूज़ियम आफ़ वेस्टर्न इंडिया है, जिसमें कला, पुरातत्त्व Also Visit: Hotels in Goa

व प्राकृतिक इतिहास के तीन प्रमुख विभाग हैं। निकट ही जहाँगीर आर्ट गैलरी है, जो मुम्बई की पहली स्थायी कला दीर्घा है और सांस्कृतिक व शैक्षिक गतिविधियों का केन्द्र है। मुम्बई भारतीय मुद्रण उद्योग का महत्त्वपूर्ण केन्द्र है और यहाँ सशक्त प्रेस है। यहाँ अंग्रेज़ी , मराठी , हिन्दी , गुजराती , सिन्धी व उर्दू में समाचार पत्र प्रकाशित होते हैं। बहुत-सी मासिक, पाक्षिक व साप्ताहिक पत्रिकाएँ भी यहाँ से प्रकाशित होती हैं। आल-इंडिया रेडियो (आकाशवाणी) का क्षेत्रीय केन्द्र भी मुम्बई में ही है और इस शहर के लिए दूरदर्शन सेवाएँ 1972 में शुरू हुईं। शहर के उत्तर में कृष्णगिरि वन एक राष्ट्रीय उद्यान और छुट्टियाँ बिताने के लिए ख़ूबसूरत सैरगाह है, कन्हेरी गुफ़ाओं के निकट एक प्राचीन बौद्ध विश्वविद्यालय था, यहाँ 100 से अधिक गुफ़ाओं में दूसरी से नौवीं शताब्दी तक के विशालकाय बौद्ध मूर्तिशिल्प हैं। यहाँ पर कई सार्वजनिक उद्यान हैं। जिसमें जीजामाता उद्यान शामिल है, यहाँ पर मुम्बई का चिड़ियाघर स्थित है, यहाँ पर बैपटिस्टा गार्डन भी है, जो मज़गाँव में एक जलाशय पर स्थित है; इसके अलावा मालाबार हिल पर स्थित फ़िरोज़शाह मेहता गार्डन, कमला नेहरू पार्क व स्लोपिंग पार्क हैं। समूचे भारत में लोकप्रिय क्रिकेट के मैच भारतीय क्रिकेट क्लब (ब्रेबोर्न स्टेडियम) और वानखेड़े स्टेडियम में खेले जाते हैं। दौड़ व साइकिल चालन प्रतियोगिताएँ वल्लभ भाई पटेल स्टेडियम में आयोजित की जाती है। स्नान व तैराकी के लिए जुहू समुद्र तट एक प्रसिद्ध स्थान है। Also Visit: Taj Exotica Goa

मुम्बई की पर्व और त्यौहार

मुम्बई की पर्व और त्यौहार

मुंबई के निवासी भारतीय त्यौहार मनाने के साथ-साथ अन्य त्यौहार भी मनाते हैं। दीपावली, होली, ईद, क्रिसमस, नवरात्रि, दशहरा, दुर्गा पूजा, महाशिवरात्रि, मुहर्रम आदि प्रमुख त्यौहार हैं। इनके अलावा गणेश चतुर्थी और जन्माष्टमी भी अधिक धूम-धाम के साथ मनाये जाते हैं। गणेश-उत्सव में शहर में जगह जगह बहुत विशाल एवं भव्य पंडाल लगाये जाते हैं, जिनमें भगवान गणपति की विशाल मूर्तियों की स्थापना की जाती है। ये मूर्तियां दस दिन बाद अनंत चौदस के दिन समुद्र में विसर्जित कर दी जाती हैं। जन्माष्टमी के दिन सभी मुहल्लों में समितियों द्वारा बहुत ऊंचा माखन का मटका बांधा जाता है। इसे मुहल्ले के बच्चे और लड़के मिलकर जुगत लगाकर माखन के मटके को फोड़ते हैं।

मुम्बई की सिनेमा

मुम्बई की सिनेमा

मुम्बई भारतीय फ़िल्म उद्योग का गढ़ है। दादा साहेब फाल्के ने यहां मूक चलचित्र के द्वारा इस उद्योग की स्थापना की थी। इसके बाद ही यहाँ मराठी चलचित्र का भी आरंभ हुआ। आरंभिक बीसवीं शताब्दी में यहां सबसे पुरानी फ़िल्म प्रसारित हुई थी। मुंबई में बड़ी संख्या में सिनेमा हॉल हैं, जो हिन्दी, मराठी और अंग्रेज़ी फ़िल्में दिखाते हैं। विश्व में सबसे बड़ा आईमैक्स (IMAX) डोम रंगमंच भी मुंबई के वडाला में स्थित है। मुंबई अंतर्राष्ट्रीय फ़िल्म उत्सव और फ़िल्मफेयर पुरस्कार की वितरण कार्यक्रम सभा मुंबाई में ही आयोजित होती हैं। हालांकि मुंबई के ब्रिटिश काल में स्थापित अधिकांश रंगमंच समूह 1950 के बाद भंग हो चुके हैं, फिर भी मुंबई में एक समृद्ध रंगमंच संस्कृति विकसित हुई हुई है। ये हिन्दी, मराठी और अंग्रेज़ी, तीनों भाषाओं के अलावा अन्य क्षेत्रीय भाषाओं में भी विकसित है। यहां सिने प्रेमियों की कमी नहीं है। अनेक निजी व्यावसायिक एवं सरकारी कला-दीर्घाएं खुली हुई हैं। इनमें जहांगीर कला दीर्घा और राष्ट्रीय आधुनिक कला दीर्घा प्रमुख हैं। 1833 में बनी बंबई एशियाटिक सोसाइटी में शहर का पुरातनतम पुस्तकालय स्थित है। Also Visit: Vivanta by Taj Holiday Village Goa

मुम्बई का भोजन

मुम्बई का भोजन

मुम्बई में कोलाबा बड़े मियां, मुसाफिर खानं गुलशन-ए-ईरान, हाजी अली जूस सेंटर, शिव सागर जूहू स्थित है। यह सब अरबन तड़का के लिए प्रसिद्ध है। चॉकलेट चाय के लिए दादर स्थित पश्चिम स्टेशन जा सकते हैं। जबकि पानी पूरी के लिए बांद्रा के कराची स्वीट जाया जा सकता है। गर्म पोहा और साबूदाना वड़ा के लिए महापालिका मार्ग जा सकते हैं। होर्नीमन सर्कल के नजदीक अपूर्वा में मंगलोरियन सीफ्रूड का मजा ले सकते हैं। भिंडी बाज़ार और नूर मोहम्मदी में रमजान के महीने में यहां सड़क किनारे लगने वाली रेहड़ी से फिरनी और मालपुआ का स्वाद चख सकते हैं। स्वाति स्नैक्स जो टारडियो मार्ग में स्थित है। भारत के बेहतरीन स्नैक्स मिलते हैं। सिन्धुद्वार जो आर.के. विद्या रोड़, दादर पश्चिम में स्थित है; मछली के लिये प्रसिद्ध है। इसके अलावा यहां के चिड़वा और लड्डू का स्वाद भी ले सकते है। बहुत ही कम दाम में दक्षिण भारतीय शाकाहारी खाने के लिए रामानायक उद्दुपी, माटूंगा केंद्रीय स्टेशन के समीप। अगर आप बांद्रा (पश्चिम) में है तो लक्की रेस्तरां में जा सकते हैं। यह रस्तरां बिरयानी से लिए प्रसिद्ध है। गांधी नगर स्थित गोमांतक हाईवे, अपना बाज़ार, बांद्रा (पूर्व) में कोकर्णी के विभिन्न व्यंजन परोसे जाते हैं। इसके अलावा कोकर्णी खाने के लिए सायबा, बांद्रा (पूर्व) में स्थित है। Also  Visit: Vivanta by Taj Fort Aguada Goa

Mumbai

मुंबई शहर के नजारे

सैर कर दुनिया की गाफ़िल जिंदगानी फिर कहां, जिंदगानी गर रही तो, नौजवानी फिर कहां…’

वाकई यह उम्र होती ही घूमनेफिरने की है और मेरा भी शौक रहा है नईनई जगह देखने, वहां के लोगों से मिलने और नए, अनूठे अनुभवों को महसूस करने का. मेरा ऐसा ही एक यात्रा वृत्तांत है. लंबे समय से इच्छा थी मुंबई घूमने की, लेकिन मुंबई बहुत बड़ा और महंगा शहर है और मैं ठहरा एक स्टूडैंट, जिस का हाथ हमेशा तंग रहता है. होस्टल और कालेज फीस देने के बाद मेरे पास इतने रुपए नहीं बचते कि मुंबई जाना, रहना और घूमना अफोर्ड कर सकूं. लेकिन कहते हैं न कि ‘जहां चाह वहां राह’ तो मैं ने 5-6 दोस्तों को तैयार किया जो मुंबई घूमना चाहते थे. हम पांचों फक्कड़ थे लेकिन सब ने कुछ न कुछ जुगाड़ लगाया और आनेजाने के टिकट के बाद हमारे पास 1 हजार रुपए जमा थे, लेकिन इतने में 2 दिन के लिए मुंबई प्रवास संभव नहीं था.

मन में खयाल आया कि अगर किसी तरह मुंबई में कोई जानपहचान वाला या फिर कोई यारदोस्त ऐसा निकल आए जिस के घर पर रुका जा सके और खानापीना भी हो जाए तो इतने कम बजट में भी मुंबई घूमने का अरमान पूरा हो सकता है. सोचविचार कर मैं ने तुरंत अपना फेसबुक अकाउंट खोला, काफी जद्दोजेहद के बाद मेरी स्कूल टाइम के फ्रैंड रवि से मुलाकात हुई, जो अब मुंबई में अच्छी जौब कर रहा था. उसे फोन मिलाया औैर पुराने दिनों की यादें ताजा करने के साथसाथ अपनी ख्वाहिश भी बताई. रवि ने मुझे अपने पूरे ग्रुप के साथ मुंबई आमंत्रित कर लिया. हम सब दोस्त नियत तिथि पर ट्रेन से मुंबई के लिए रवाना हुए. मुंबई सैंट्रल पर उतरे तो बेहिसाब भीड़ व शोरगुल से नर्वस हो गए. गनीमत थी कि रवि हमें लेने आ गया था. Also Visit: W Goa

मुंबई सैंट्रल से चैंबूर जहां रवि रहता था, तक का सफर हम ने लोकल ट्रेन से तय किया. खचाखच भरी लोकल ट्रेन में फुरती से चढ़नाउतरना भी अपनेआप में अनोखा अनुभव रहा. रवि ने हमें बताया कि लोकल टे्रन ही मुंबई की लाइफलाइन है. आम आदमी इन के जरिए ही यात्रा कर अपने गंतव्य तक कम से कम समय और खर्च में पहुंच पाता है. रवि के घर पहुंच कर ही हम सब ने नाश्ता किया. हम रवि को बजट के बारे में तो पहले ही बता चुके थे, लेकिन कहां, कैसे जाना है, इस बारे में कोईर् नहीं जानता था. तभी रवि हमें चिंतित देख कर बोला कि चिंता मत करो, मैं कुछ ऐसा प्लान करता हूं जिस से कम खर्च में तुम ज्यादा से ज्यादा घूम सको और भरपूर ऐंजौय कर सको.

सब से पहले हम ने विक्टोरिया टर्मिनस देखने का प्लान बनाया, जिस के लिए हम लोकल ट्रेन पकड़ कर चैंबूर से कुर्ला उपनगर पहुंचे. यहां से विक्टोरिया टर्मिनस तक लोकल टे्रन से ही गए, जिस का किराया मात्र 15 रुपए था. विक्टोरिया टर्मिनस का नया नाम छत्रपति शिवाजी टर्मिनस है. यह एक हैरिटेड बिल्डिंग है. हम ने यहां उतर कर सब से पहले इसे ही देखा. इस के रखरखाव व साफसफाई ने इस की खूबसूरती में चार चांद लगा दिए थे. विक्टोरिया टर्मिनस से बाहर निकले तो रवि ने हमें फेमस मनीष मार्केट में घुमाया, जो यहां की बड़ी सस्ती मार्केट थी. कुछ आगे बहुप्रसिद्घ जहांगीर आर्ट गैलरी थी, जिसे हम ने बाहर से ही देखा. इसी क्षेत्र में मशहूर फैशन स्ट्रीट भी है, जिस के बारे में अधिकांश लोग जानते हैं. यहां लेटैस्ट टैं्रड के कपड़े बहुत कम कीमत पर मिलते हैं. हम ने भी यहां से थोड़ी शौपिंग की.

रवि ने मसजिद बंदर नाम की मार्केट का भी जिक्र किया, जहां सस्ते में अच्छा सामान मिलता था, लेकिन हम सब को जुहू बीच जाने की जल्दी थी. सो हम वापस विक्टोरिया टर्मिनस आए और लोकल टे्रन पकड़ कर मैरीन लाइंस स्टेशन पहुंचे. वहां से जुहू बीच चौपाटी पहुंचे. दोपहर का समय था और उस पर मुंबई का हौट और उमस भरा मौसम. सारा बदन चिपचिप कर रहा था. मगर बीच पर पहुंचते ही जब नजर पड़ी दूर तक फैले विशाल समुद्र पर तो गरमी में भी ठंडक का एहसास होने लगा. हम दौड़ते हुए लहरों से जा मिले. जी भर कर नहाए व सैल्फी ली. फिर हम चौपाटी पहुंच गए, वहां की रौनक भी देखने लायक थी. मुंबई के फेमस पावभाजी, सेवपूरी व पानीपूरी के स्टौल देख कर हमारे मुंह में पानी आने लगा. भले ही पावभाजी थोड़ी महंगी थी लेकिन उस का टेस्ट इतना बढि़या था कि पैसे वसूल हो गए. अब हम सब थकान महसूस करने लगे, सो कुछ देर रेत पर लेट कर आराम किया. Also Visit: Radisson Blu Resort Goa

अब हमें मैरीन ड्राइव व नरीमन पौइंट जाना था जो यहां से आधे घंटे के वौकिंग डिस्टैंस पर थे. रवि ने बताया कि बस हमें जल्दी पहुंचा सकती है, लेकिन हम ने पैदल ही चलने का निर्णय लिया, क्योंकि शाम होने से मौसम सुहाना हो गया था औैर फिर बजट का भी खयाल रखना था. चारों ओर के नजारे देखते हुए हम नरीमन पौइंट पहुंचे. यहां बड़ीबड़ी कंपनियों के शानदार औफिस और फाइव स्टार होटल देखने को मिले. कतार में चलती देशीविदेशी महंगी कारों का सैलाब भी था. यहां की हवा में ही जैसे अमीरी की महक रचीबसी थी. सड़क के दूसरी तरफ रोशनी से जगमगाता मैरीन ड्राइव, रात को भी दिन का नजारा पेश कर रहा था. अधिकतर लोग मैरीन ड्राइव की चौड़ी मुंडेर पर बैठे सड़क की रौनक देख रहे थे, तो कई कपल समुद्र की ओर मुंह किए बैठे थे. हम भी यहीं बैठ गए और चारों ओर बिखरी खूबसूरती को देखने लगे. फिर हम मैरीन लाइंस स्टेशन से लोकल ट्रेन पकड़ कर चर्चगेट स्टेशन पहुंचे और फिर वहां से 20 मिनट कदमताल कर विश्वप्रसिद्ध गेट वे औफ इंडिया पहुंचे. चांदनी रात में इस की भव्यता औैर खूबसूरती देखते ही बनती थी, रात में भी यहां काफी पर्यटक मौजूद थे.

गेट वे औफ इंडिया से ही एलीफेंटा केव्स के लिए समुद्र के बीचोंबीच से फेरी बोट जाती है. इस में आनेजाने व केव्स घूमने में आधे दिन से भी ज्यादा समय लगता है. इसी क्षेत्र में कोलाबा कासवे नामक मशहूर मार्केट है, जहां शौपिंग के शौकीन लोग हमेशा जाते हैं. लेकिन हम गेट वे औफ इंडिया का लुत्फ ले कर चर्चगेट स्टेशन आए औैर वहां से लोकल ट्रेन पकड़ कर चैंबूर वापस आ गए.

अगले दिन चैंबूर से सिद्धिविनायक मंदिर तक हम बस में आए और फिर दादर उपनगर की ओर रुख किया, जो शौपिंग के लिए काफी फेमस है. यहीं पर जंबो किंग के नाम से फेमस शौप है, जहां हम ने जंबो वड़ापाव खाया जो काफी स्वादिष्ठ और बड़ा था. पेट भर गया. रवि ने कहा कि वड़ापाव मुंबई के लोकप्रिय रोड साइड स्नैक्स में से है. अब हम ने हाजी अली दरगाह का रुख किया. यहां पहुंचने का रास्ता बड़ा ही मनमोहक है. समुद्र के बीचोंबीच रास्ता है, जब उस पर चलते हैं तो दोनों तरफ उछाल मारती लहरें हमारा स्वागत करती प्रतीत होती हैं. यह रास्ता थोड़ा गीला होने के कारण फिसलन भरा भी था. दरगाह भव्य थी. यहां कई हिंदी फिल्मों के मशहूर दृश्य फिल्माए गए हैं. हम ने वहां जा कर मस्ती की. फिर रवि हम सब को 80 नंबर की बस में बैठा कर बांद्रा, जोकि अमीरों का इलाका है, ले गया. यहां लिंकिंग रोड खरीदारी के लिए मशहूर है, खासतौर पर फुटवियर औैर कपड़ों के लिए. मेरे कुछ दोस्तों ने यहां थोड़ीबहुत खरीदारी की.

फिर हम बैंड स्टैंड पहुंचे. यह भी काफी खूबसूरत जगह है. जहां रात को लोगों का हुजूम उमड़ता है. हमें तो देखना था शाहरुख खान का बंगला मन्नत, जो बैंड स्टैंड के पास ही है. बंगले को देख कर लगा जैसे शाहरुख खान को ही देख लिया. हम ने सिक्योरिटी गार्ड को पटा कर मन्नत के सामने सैल्फी भी ली. फिर सलमान खान का गैलेक्सी अपार्टमैंट भी देखा. यह सब देख हम वापस चैंबूर पहुंचे. यहां रवि ने हमें मोनोरेल में सफर करवाया. रवि ने हमें बताया कि देश की प्रथम मोनोरेल मुंबई में चैंबूर से वडाला के बीच चली है. हम भी चैंबूर से वडाला गए. इस का टिकट मात्र 12 रुपए था. अगले दिन सुबह ही हमें अपने घर के लिए रवाना होना था, रवि ने हमें मुंबई सैंट्रल पहुंचाया. उसे धन्यवाद दे कर हम सब ट्रेन में चढ़ गए. रवि जैसे दोस्त की वजह से ही हम कम बजट में मुंबई घूम पाए.मुंबई शहर की जिंदादिली, यहां के लोगों का दोस्ताना व्यवहार, अनुशासन हमें बहुत अच्छा लगा. मीठी, खूबसूरत यादों की पोटली साथ लिए हम वापस आ गए.

बॉम्बे से मुंबई बनते-बनते कितना बदल गया ये महानगर, जानिए मायानगरी को करीब से

भारत देश के 29 राज्यों में सबसे ज्यादा जो शहर अट्रैक्ट करता है तो वो महाराष्ट्र में स्थित मायानगरी ‘मुंबई’ है. जो साल 1995 से पहले ‘बॉम्बे’ के नाम से लोकप्रिय था. मुंबई को भारत की आर्थिक राजधानी कहा जाता है क्योंकि यहां स्थित भारतीय हिन्दी सिनेमा (जिसे बॉलीवुड के नाम से जाना जाता है) से हर साल कई हज़ार करोड़ रूपये का व्यापार होता है. इसके अलावा कई मल्टीनेशनल कम्पनियां भी यहां स्थित हैं. मुंबई महाराष्ट्र की राजधानी है. दुनिया के सबसे अमीर परिवारों में से एक अंबानी परिवार भी मुंबई में ही रहते हैं. यहां घूमने के लिए भी बहुत से आकर्षक जगह हैं. तो चलिए आज आपको मुंबई नगर से रूबरु करवाते हैं….

मुंबई शहर के बारे में 20 रोचक बातें

मुंबई शहर के बारे में 20 रोचक बातें 

1. मछुआरों की मूल जनजाति, कोली यहाँ के शुरुआती समय के निवासी थे, हालांकि मुम्बई के कान्दीवली में पाए गए पुरापाषाण काल के पत्थर के औज़ार यहाँ पाषाण काल के दौरान मानव बस्ती की ओर संकेत करते हैं.

2. मानव आबादी के लिखित प्रमाण 250 ई.पू तक मिलते हैं, जब इसे हैप्टानेसिया कहा जाता था. तीसरी शताब्दी ई.पू. में ये द्वीपसमूह मौर्य साम्राज्य का भाग बना, जब बौद्ध सम्राट अशोक महान का शासन था.

3. साल 1661 में किंग चार्ल्स द्वितीय व पुर्तग़ाल के राजा की बहन कैथरीन आफ़ ब्रैगेंज़ा के विवाह के बाद यह ब्रिटिश नियंत्रण में आ गया. राजा ने इसे साल 1668 में ईस्ट इंडिया कम्पनी को दे दिया. Also Visit: Ramada Caravela Beach Resort

4. शुरुआत में कलकत्ता (वर्तमान कोलकाता) व मद्रास (वर्तमान चेन्नई) की तुलना में बंबई कम्पनी की बहुत बड़ी सम्पत्ति से होकर केवल पश्चिमी तट पर कम्पनी के पैर जमाए रखने में सहायता करता था.

5. मुम्बई को पहले बॉम्बे के नाम से जाना जाता था. मुम्बई शहर को बिजनेस केपिटल ऑफ इंडिया के नाम से भी जाना जाता है. यहां देश के प्रमुख वित्तीय और संचार केन्द्र है.

6. भारत का सबसे बड़ा शेयर बाज़ार, जिसका विश्व में तीसरा स्थान है, मुंबई में ही स्थित है. मुंबई भारत के पश्चिमी समुद्र तट पर स्थित है. यह अरबियन समुद्र के सात द्वीपों का एक हिस्सा है। इसलिए इसे सात टापुओं का नगर भी कहा जाता है.

7. मुम्बई सामान्य रूप से सात द्वीपों जिनके नाम कोलाबा, माजागांव, ओल्ड वूमन द्वीप, वाडाला, माहीम, पारेल और माटूंगा-सायन पर स्थित है.

8. साल 1661 में इंग्लैंड के महाराजा चार्ल्‍स ने पुर्तग़ाल की राजकुमारी कैटरीना डे ब्रिगेंजा से शादी की थी. शादी में दहेज के रूप में चार्ल्‍स को बंबई शहर मिला था, जो वर्तमान समय में मुम्बई के नाम से जाना जाता है.

9. साल 1668 में मुम्बई ईस्ट इंडिया कम्पनी के हाथों में चला गया. साल 1868 में महारानी विक्टोरिया ने शहर के प्रशासन को ईस्ट इंडिया कम्पनी से वापस ले लिया.

10. यह महानगर, मुंबई उपनगर जिलों व नवी मुंबई और ठाणे शहरों को मिलाकर बनता है. मुंबई शहर भारत के पश्चिमी तट पर कोंकण तटीय क्षेत्र में उल्हास नदी पर स्थित है.

11. यहां पर रेलगाड़ियां छत्रपति शिवाजी टर्मिनस, दादर, लोकमान्य तिलक टर्मिनस, मुंबई सेंट्रल, बांद्रा टर्मिनस एवं अंधेरी से शुरु या खत्म होती हैं. जिसमें हर रोज करीब 6.3 मिलियन यात्री सफर करते हैं.

12. मुंबई का छत्रपति शिवाजी अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट है. जो दक्षिण एशिया सबसे व्यस्त हवाई अड्डा है. जुहू विमानक्षेत्र भारत का प्रथम विमानक्षेत्र है, जिसमें फ्लाइंग क्लब व एक हैलीपोर्ट भी हैं.

13. मुंबई में बहुत से समाचार-पत्र, प्रकाशन गृह, दूरदर्शन और रेडियो स्टेशन हैं. मराठी पत्रों में नवकाल, महाराष्ट्र टाइम्स, लोकसत्ता, लोकमत, सकाल प्रमुख हैं.

14. मुंबई में प्रमुख अंग्रेज़ी अखबारों में टाइम्स ऑफ इंडिया, मिड डे, हिन्दुस्तान टाइम्स, डेली न्यूज़ अनालिसिस एवं इंडियन एक्स्प्रेस आते हैं.

15. मुंबई में हर साल गणपति पूजन का बहुत बड़ा महोत्सव होता है. इसके अलावा यहां का जन्माष्टमी भी बहुत लोकप्रिय है.

16. मुंबई में घूंमने के लिए मरिन ड्राइव, जुहू चौपाटी, गेटवे ऑफ इंडिया, सिद्धीविनायक मंदिर, एलिफेंटा की गुफाएं, एस्सेल वर्ल्ड, हाजी अली दरगाह, हैंगिंग गार्डन, मुंबई का टिफिन वाला, ताज होटल बहुत लोकप्रिय है.

17. मुंबई नगर में भारतीय हिन्दी सिनेमा (बॉलीवुड) के नाम से पूरी दुनिया में लोकप्रिय है. जिसमें बहुत से सितारे जो अंर्तराष्ट्रीय स्तर पर लोकप्रिय हैं वे सब यहीं रहते हैं. Also Visit: Zuri White Sands Goa

18. बॉलीवुड के दो दिग्गज अमिताभ बच्चन और शाहरुख खान के बंगले मन्नत और जलसा, प्रतीक्षा के नाम से बहुत ज्यादा लोकप्रिय है.

19. मुंबई में मराठी भाषा का प्रचलन है. यहां बालठाकरे और राजठाकरे की शिवसेना बहुत प्रचलित है. उनका राज मुंबई शहर पर चलता है.

20. गेटवे ऑफ इंडिया को 2 दिसम्बर, 1911 को भारत में सम्राट जॉर्ज पंचम व महारानी मैरी के आगमन पर स्वागत हेतु बनाया गया, जो कि 4 दिसम्बर, 1924 को पूरा हुआ.

मुंबई शहर के बारे में 20 रोचक बातें

मुंबई सपनो का शहर

मुंबई सपनो का शहर माना जाता है ..वह सपने जो जागती आँखों से देखे जाते हैं ..और बंद पलकों में भी अपनी कशिश जारी रखते हैं ..पर सपना ही तो है जो टूट जाता है यही लगा मुझे मुंबई शहर दो बार में देख कर हम्म शायद मुंबई वाले मुझसे इस कथन पर नाराज हो जाएँ ..हम जिस शहर में रहते हैं वही उसकी आदत हो जाती है .दूसरा शहर तभी आकर्षित करता है जब वह अपनी उसकी सपने की जगमग लिए हो | हर शहर को पहचान वहां के लोग और वहां बनी ख़ास चीजे देती हैं | और मुख्य रूप से सब उनके बारे में जानते भी हैं ..जैसे मुंबई के बारे में बात हो तो वहां का गेट वे ऑफ इंडिया और समुंदर नज़रों के सामने घूम जायेंगे | उनके बारे में बहुत से लोग लिखते हैं और वह सब अपनी ही नजर से देखते भी हैं …और वही नजर आपकी यात्रा को ख़ास बना देती है | किसी भी शहर को जानना एक रोचक अनुभव होता है ..ठीक एक उस किताब सा जो हर मोड़ पर एक रोमांच बनाए रखती है और मुंबई के समुन्दर में तो हर लहर में यह बात लागू होती है ..कि लोगो की भीड़ की लहर बड़ी व तेज रफ़्तार से भाग रही है या समुन्दर की लहरे तेजी से आपको खुद में समेट रहीं है |

मैं अभी हाल में ही मैं दूसरी बार मुंबई गयी .पहली बार ठीक शादी के बाद जाना हुआ था .तब उम्र छोटी थी और वो आँखों में खिली धूप से सपने देखने की उम्र थी जम्मू शहर से शादी दिल्ली में हुई थी और उस वक़्त मनोरंजन का जरिया बहुधा फिल्म देखना होता था ..कोई भी कैसी भी बस फिल्म लगी नहीं और टिकट ले कर सिनेमा हाल में ..लाजमी था जब इतनी फिल्मे देखी जाती थी तो उस वक़्त नायक नायिका ही जिंदगी के मॉडल थे ..खुद को भी किसी फिल्म की नखरीली हिरोइन से कम नहीं समझा करते थे ..और नयी नयी शादी फिर उसी वक़्त मुंबई जाना एक सपने के सच होने जैसा था ..पर वहां पहुँचते ही ऐसे वाक्यात और ऐसी भागमभाग देखी कि तोबा की वापस कभी इस नगरी में न आयेंगे ..जम्मू स्लो सीधा सा शहर दिल्ली में रहने की आदत मुंबई के तेज रफ़्तार से वाकई घबरा गयी ..लोकल पर भाग कर चढना और बेस्ट बस के भीड़ के वह नज़ारे कभी भूल नहीं पायी ..तीस साल के अरसे में ..याद रहा तो सिर्फ एलिफेंटा केव्स और जुहू चौपाटी पर घूमना ( तब वह कुछ साफ़ सा था ) खैर वह किस्से तो फिर कभी ..चर्च गेट के किसी रेस्ट हाउस में ठहरे थे ..अधिक दिन नहीं थे सिर्फ पांच दिन .जिस में एक दिन ससुर जी के किसी दोस्त के यहाँ लंच था ..लोकल ट्रेन पकड कर टाइम पर आने का हुक्म था और वहां अधिक जान पहचान न होने के कारण मुश्किल से सिर्फ खाना खाने जितना समय बिताया और यह मन में बस गया की मुंबई के लोग बहुत रूखे किस्म के होते हैं ..वरना नयी नवेली दुल्हन घर आये खाने पर और उसके कपड़ों की गहनों की ( जो सासू माँ ने सिर्फ वही पहन कर जाने की ताकीद की थी बाकी घूमते वक़्त पहनना मना था ) क्या फायदा कोई बात ही न करें और तो और घर के लोगों के बारे में भी अधिक न पूछे …दिल्ली वाले तो खोद खोद के एक पीढ़ी पीछे तक की बात पूछ डालते हैं .:) सो अधिक सोच विचार में समय नष्ट नहीं किया और यही सोच के दिल को तस्सली दी खुद ही “कौन से रिश्ते दार थे जो अधिक पूछते 🙂 पर वही अपने में मस्त रहने वाली आदत इस बार भी दिखी …एक वहां के मित्र से वापस आने पर कहा कि आपका शहर पसंद नहीं आया ..तो जवाब मिला .” हाँ लगता है कि आपको साफ़ बात बोलने वाले लोग पसंद नहीं अधिक “:) मैंने कहा साफ़ बोलने वाले लोग तो पसंद है पर उन लोगों में शहर को साफ़ रखने की भी तो आदत होनी चाहिए ..:)

मुंबई के दर्शनीय स्थल की सूची

मुंबई के दर्शनीय स्थल की सूची

मुंबई – एक ऐसा शहर, जो कभी नहीं सोता. यहाँ सभी अपनी जिंदगी की गाड़ी पर दौड़ रहे हैं और साथ में दौड़ता हैं ये शहर भी. सपनों की नगरी कहे जाने वाले मुम्बई शहर में जब लोग इस आपा – धापी से भरी जिंदगी से थक जाते हैं, कुछ देर ठहर कर, रूककर आराम करना चाहते हैं, दिन भर की चिलचिलाती धूप से बचकर सुनहरी शाम का मज़ा लेना चाहते हैं, तो वे कहाँ जाएँ? इस एहसास को जीने के लिए, कहाँ बिताएं सुकून के दो पल?? तब याद आती हैं मुंबई की ऐसी कुछ जगहें, जहाँ वे शांति से बैठे, कोई सुकून भरा लम्हा गुजारें.

आज हम मुंबई की कुछ ऐसी ही जगहों के बारे में जानकारी साझा करेंगे, जहाँ मुम्बईवासी और अन्य स्थानों के लोग भी घूमने जाते हैं और कई सुनहरी यादों को संजोते हैं.

मुंबई के दर्शनीय स्थल की सूची

मुंबई के दर्शनीय स्थल की सूची

मुंबई दर्शन आप पब्लिक ट्रांसपोर्ट की मदद से भी कर सकते है. मुंबई में मुंबई दर्शन के लिए विशेष बस, टैक्सी चलती है, जो मुंबई के मुख्य स्थल को कवर करती है. मेरे हिसाब से मुंबई दर्शन के लिए इसकी बस सबसे अच्छी है. 7-8 घंटे में ये बस आपको मुंबई के बहुत से प्लेस दिखा देगी. साथ ही ये काफी किफायती होती है, 500-600 रुपय मे बड़ों को और 300-400 रुपय में बच्चों को ये मिल जाती है. ये बस मुंबई के अलग स्थान से मिल जाया करती है, लेकिन मुंबई के बीचों बीच के गेटवे ऑफ़ इंडिया में उपलब्ध होती है, जिसे बुक कर आप मुंबई दर्शन कर सकते है. मुंबई दर्शन के लिए टैक्सी भी होती है, लेकिन उनका खर्चा अधिक होता है.

गेट वे ऑफ़ इंडिया

गेट वे ऑफ़ इंडिया

गेट वे ऑफ़ इंडिया

गेट वे ऑफ़ इंडिया : भारत में पश्चिमी तट से आने वालों के लिए सबसे बड़ा गेट था खासकर ब्रिटिश शासन के लिए | गेटवे ऑफ इंडिया समुद्र तट पर है | इसलिए वहां लोग बोटिंग करने और अलग-अलग तरह के जहाजों को देखने के लिए आते हैं | इसे हमारे देश भारत का प्रवेश द्वार कहा जाता हैं. यह शहर की एक अलग ही पहचान कराता हैं. इसका निर्माण सन 1924 में ब्रिटिश राज में किया गया था. इसके निर्माण का उद्देश्य ब्रिटिश महाराज जॉर्ज वी और महारानी मेरी के भारत आगमन पर उनका स्वागत करने का था. चूँकि मुंबई देश के प्रमुख बंदरगाहों में से एक हैं, इसीलिए इसे प्रवेश द्वार मानते हुए, इसे गेट वे ऑफ़ इंडिया नाम दिया गया. यह ब्रिटिशों के महाराज के आगमन पर उनके उत्कर्ष का प्रतिक था. गेट वे ऑफ़ इंडिया अपोलो बन्दर के जल क्षेत्र के सामने बनाया गया हैं और आज पूरे विश्व के लोगों के लिए सबसे प्रसिद्ध दर्शनीय स्थलों में से एक हैं.

गेट वे ऑफ़ इंडिया के पास ही होटल ताज है, जो एक दर्शनीय स्थल से कम नहीं है. गेट वे ऑफ़ इंडिया से होटल ताज का व्यू देखने लायक होता है. इसे भी लोग देखने दूर दूर से जाते है. होटल ताज का निर्माण 1902 में जमशेद टाटा से कराया था. 2008 में आतंकवादीयों द्वारा 26/11 का हमला भी यही हुआ था.

छत्रपति शिवाजी टर्मिनस

छत्रपति शिवाजी टर्मिनस

छत्रपति शिवाजी टर्मिनस को विक्टोरिया टर्मिनस भी कहा जाता है | यहाँ रेलवे स्टेशन टर्मिनल है | जहां मध्य रेलवे की मुंबई में, व मुंबई उपनगरीय रेलवे की मुंबई में समाप्त होने वाली रेलगाड़ियां रुकती व यात्रा पूर्ण करती हैं।  इस स्टेशन की इमारत ‘विक्टोरियन गोथिक शैली’ में बनी है। इस इमारत में विक्टोरियाई इतालवी गोथिक शैली एवं परंपरागत भारतीय स्थापत्य कला का संगम झलकता है।छत्रपति शिवाजी टर्मिनस गेटवे ऑफ इंडिया से 3 किलोमीटर दूरी पर है |

हाजी अली की दरगाह

हाजी अली की दरगाह

हाजी अली की दरगाह

हाजी अली की दरगाह : यह मुंबई के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक हैं. हाजी अली दरगाह मुंबई शहर के वरली समुद्र तट के निकट है | यहां मुस्लिम समुदाय और हिंदू धर्म के लिए धार्मिक समुदाय रखती है | हाजी अली दरगाह एक छोटे टापू पर स्थित है यहा सेतु के द्वारा जाया जाता है और सिटी के निकट समुद्र है इसलिए लोगों को यहां अच्छा लगता है | दरगाह के पीछे चट्टानों का एक समूह है। जब समुद्र की लहरें इन चट्टानों से टकराती हैं तो एक कर्णप्रिय ध्वनि उत्पन्न करती हैं। यह सब कुछ एक अत्यंत रोचक नज़ारा देखने लायक है |  जुहू चोपाटी एक समुद्र तट पर है इसलिए यहां देसी विदेसी लोग मौज मस्ती के लिए आते हैं | समुद्र तट पर होने के कारण ठंडा हवामान रहता है इसलिए ज्यादातर लोग गर्मियों के मौसम में यहां घूमने के लिए आते हैं एवं सबसे अच्छी जगह घूमने के लिए है |

यह अरब सागर के बीच में स्थित हैं और किनारे से 500 यार्ड्स की दूरी पर स्थित हैं. यह मुस्लिम संत पीर हाजी अली शाह बुखारी की दरगाह हैं. यह लगभग 400 साल पुरानी दरगाह हैं, जो हिन्दू – मुस्लिम कलाकारी का उत्कृष्ट उदाहरण हैं. इस दरगाह की मुख्य बात यह है कि समुद्र के बीचों बीच होने के बावजूद यह कभी नहीं डूबती है. कहते है, बाबा के दरबार तक कभी भी पानी नहीं घुसा है.

इसके अलावा इस बड़ी सी दरगाह के बाहर स्वादिष्ट पकवानों के अनेक लोकल स्टॉल लगे होते हैं. साथ ही हाजी अली मुंबई की पश्चिम लोकल रेलवे – लाइन का प्रमुख स्टॉप हैं, जिससे लोगों को यहाँ तक पहुँचने में आसानी होती हैं.

जुहू बीच

जुहू बीच

जुहू बीच

जुहू बीच – जुहू चौपाटी मुंबई का एक आकर्षित पर्यटन स्थल है और वह समुद्र तट पर है | जुहू चौपाटी फिल्म इंडस्ट्री के लिए काफी अच्छी जगह है | यहां लोग फिल्म बनाने के लिए आते हैं | हिंदी फिल्म एवं कई बार सारी फिल्में मिस चौपाटी पर शूटिंग होती है | इसलिए ज्यादातर लोग यहां देखने के लिए आते हैं जुहू चौपाटी पर्यटन के लिए मुंबई की सबसे अच्छी जगह है |

भारत में सबसे बड़ी और सबसे ज्यादा देखी जाने वाली बीचों में से एक हैं – जुहू बीच. साथ ही यहाँ पर कई प्रसिद्ध हस्तियों और फ़िल्मी दुनिया के चमकते हुए सितारों के घर भी हैं, इसलिए भी यह बहुत प्रसिद्ध हैं और लोग इन्हें देखने भी यहाँ जाते हैं. इस बीच पर मिलने वाले पकवानों के लिए भी कई लोग यहाँ दूर – दूर से आते हैं. यहाँ की पाव भाजी, भेल, पानीपूरी जग प्रसिध्य है. यहाँ बीच पर रेत पर घूमते हुए लोग घुड़सवारी का मजा लेते हैं, बंदरों की उछल – कूद देखते हैं, बच्चे खिलौनों और गुब्बारों को खरीदकर उनसे खेलने में खुश होते हैं और भी कई मनोरंजन के साधनों से लोग यहाँ अच्छा समय व्यतीत करते हैं.

गिरगांव चौपाटी

गिरगांव चौपाटी समुद्र तट पर है | यहां लोग घूमने के लिए और मौज मस्ती के लिए आते हैं |  गिरगांव चौपाटी में गर्मियों के मौसम में ज्यादातर लोग आते हैं क्योंकि समुद्रतट होने के कारण गर्मियों के मौसम यहां ठंडा रहता है इसलिए ज्यादातर लोग यहां घूमने के लिए आते हैं

गिरगांव चौपाटी

गिरगांव चौपाटी

 

मरीन ड्राइव

मरीन ड्राइव – मरीन ड्राइव मुंबई का सबसे सुंदर स्थान में से एक है. इसकी सुन्दरता रात को तो देखते ही बनती है, गोलाई में बने मरीन ड्राइव की सड़कों में रात में जब स्ट्रीट लाइट जलती है, तो ऐसा लगता है मानों किसी रानी ने गले का हार पहना है. इसलिए इसे क्वीन नेकलेस भी कहते है. मरीन ड्राइव दक्षिणी मुंबई के 4 कि. मी. के क्षेत्र में फैला हुआ हैं. यह मुंबई की सबसे सुन्दर सड़कों में से एक हैं. यह रात को चमकती हुई रोशनी में बहुत ही मनमोहक लगता हैं. शाम के समय यह बहुत ही सुन्दर लगता हैं और इसी समय इसे देखने का आनंद आता हैं. चाय वाले और चाट वाले इस जगह को सुन्दर के साथ – साथ स्वाद – दार भी बना देते हैं. इसे लवर्स पॉइंट भी कहा जाता है. यहाँ के पत्थरों की आकृति देखते ही बनती है, जो मानव निर्मित है.

चौपाटी बीच

चौपाटी बीच – मरीन ड्राइव के पास ही चौपाटी बीच भी हैं, जिसे गिरगांव चौपाटी के नाम से जाना जाता है. जहाँ खानपान के शौक़ीन लोगों को बहुत ही आनंद आ जाता हैं. हाथ – गाड़ी पर विभिन्न स्वाद – दार चीजें बेचने वाले होते हैं, खिलौने बेचने वाले होते हैं और विभिन्न मनोरंजन के साधन होते हैं. यहाँ की भेलपुरी और पानी – पूरी बहुत प्रसिद्ध हैं. यहाँ बग्गी का भी आनंद लिया जाता है.
एलिफेंटा केव [घारापुरीची लेणी] – मध्य मुंबई बंदरगाह में गेट वे ऑफ़ इंडिया से 9 कि. मी. की दूरी पर एक बहुत ही प्रसिद्ध स्थल हैं, जिसका नाम हैं – एलिफेंटा केव. ये पहाड़ों को काटकर बनाया गया मंदिर हैं. ये भारत के सबसे पेचीदा और खुबसूरत नक्काशी को पेश करने वाले मंदिरों में से एक हैं.

एलिफेंटा केव / एलिफंटा गुफाये

एलिफेंटा केव / एलिफंटा गुफाये

एलिफेंटा केव / एलिफंटा गुफाये

एलिफेंटा केव में स्थित भगवान शिव का मंदिर बहुत प्रसिद्ध हैं. एलीफेंटा की गुफाएं विश्व की प्रसिद्ध गुफाओं में से एक है | यह गुफाएं मुंबई से 10 किलोमीटर दूर एलीफेंटा द्वीप पर है यहां अंदर-अंदर गुफाएं है और मैं गुफा में 24 स्तम्भ है और वहां भगवान शिव जी की अलग अलग तरह की मूर्ति अभी है |  हिन्दू इतिहास के मान्यताओं के अनुसार पाण्डव और भगवान शिव के दानव भक्त बाणासुर इन गुफाओ में रह चुके है | स्थानिक परम्पराओ और जानकारों के अनुसार ये गुफाये मानव निर्मित नही है |  एलीफेंटा की गुफाएं पर्यटन के लिए आकर्षित जगह है और बहुत सुंदर भी है   इसमें हॉल, आँगन, खम्बे आदि का सुन्दर निर्माण देखने को मिलता हैं, यहाँ त्रिमुखी शिवजी की प्रतिमा हैं, जो भगवान शिव को संसार का रचयिता, पालनकर्ता और संहारक के रूप में प्रस्तुत करती हैं. यह स्थान मुंबई के अभूतपूर्व सुन्दर और शांत स्थानों में से एक हैं.

एलिफेंटा केव / एलिफंटा गुफाये

एलिफेंटा केव / एलिफंटा गुफाये

सिद्धिविनायक मंदिर

सिद्धिविनायक मंदिर – सिद्घिविनायक गणेश जी का सबसे लोकप्रिय रूप है। गणेश जी जिन प्रतिमाओं की सूड़ दाईं तरह मुड़ी होती है वे सिद्घपीठ से जुड़ी होती हैं और उनके मंदिर सिद्घिविनायक मंदिर कहलाते हैं। सिद्धिविनायक मंदिर गणेश जी का मंदिर है | यहां लोग ज्यादातर जाते हैं क्योंकि यह धार्मिक स्थलों में से एक है |हिन्दू धार्मिक दर्शनीय स्थल है |

मुंबई में स्थित सिद्धिविनायक मंदिर हिन्दुओं के इष्ट, प्रथम पूज्य भगवान श्री गणेशजी का प्रसिद्ध मंदिर हैं. यहाँ प्रतिदिन हजारों श्रद्धालु आते हैं. इसमें बहुत ही सुन्दर निर्माण – कार्य किया गया है. इसका निर्माण सन 1801 में किया गया था.

कहा जाता हैं कि यहाँ मांगी हुई मन्नत हमेशा पूरी होती हैं, इसके आकर्षण का यह मुख्य कारण हैं. कई बड़ी हस्तियाँ भी यहाँ आकर अपने कार्य में सफलता का आशीर्वाद मांगती हैं.

महालक्ष्मी मंदिर

महालक्ष्मी मंदिर

महालक्ष्मी मंदिर प्राचीन मंदिरों में से एक मंदिर है और यह हिंदू धर्म के लोगो के लिए सबसे धार्मिक और दर्शनीय स्थल है समुद्र के किनारे देसाई मार्ग के नजदीक है |  मान्यता के अनुसार मंदिर के पीछे की दीवार पर लोग मनौति के सिक्के चिपकाते हैं। यहां हजारों सिक्के अपने आप चिपक जाते हैं। मंदिर के पीछे की तरफ कुछ सीढ़ियां उतरने के बाद समुद्र का सुंदर नजारा देखा जा सकता है।

हिन्दू धर्मग्रंथों और पुराणों में धन और समृद्धि की अधिष्ठात्री देवी महालक्ष्मी या लक्ष्मी को माना गया है। महालक्ष्मी की पूजा और आराधना के लिए यूं तो पूरे देश में अनेक मंदिर हैं, लेकिन ये हैं भारत के 6 विख्यात महालक्ष्मी मंदिर जहां धन और समृद्धि की मन्नतें लिए पूरी दुनिया से श्रद्धालु आते हैं: 

महालक्ष्मी मंदिर, कोल्हापुर

कोल्हापुर में स्थित महालक्ष्मी मंदिर न केवल महाराष्ट बल्कि देश का सबसे प्रसिद्ध लक्ष्मी मंदिर माना जाता है। इतिहास में दर्ज तथ्यों के अनुसार इस मंदिर का निर्माण सातवीं सदी चालुक्य वंश के शासक कर्णदेव ने करवाया था। प्रचलित जनश्रुति के अनुसार यहां की लक्ष्मी प्रतिमा लगभग 7,000 साल पुरानी है।  इस मंदिर की विशेषता यह है कि यहां सूर्य भगवान अपनी किरणों से स्वयं देवी लक्ष्मी का पद-अभिषेक करते हैं। जनवरी और फरवरी के महीने में सूर्य की किरणें देवी की पैरों का वंदन करती हुई मध्य भाग से गुजरते हुए फिर देवी का मुखमंडल को रोशनी करती हैं, जो कि एक अतभुत दृश्य प्रस्तुत करता है।

धोबी घाट

धोबी घाट : यहां पूरे मुंबई शहर के कपड़े धुलते हैं। महालक्ष्मी स्थित नगर निगम के इस घाट में लगभग 5,000 व्यक्ति शहर भर से लाए गए कपड़ों की धुलाई करते हैं। कपड़े धोने के लिए खुले स्थान पर हौदियां बनी हैं। आप महालक्ष्मी रेलवे स्टेशन के पुल से यहां का शानदार नजारा ले सकते हैं।

क्राफोर्ड मार्केट

क्राफोर्ड मार्केट

क्राफोर्ड मार्केट : यह फूलों, फलों, सब्जियों, मांस और मछली की होलसेल मार्केट है। इस नॉर्मन-गॉथिक भवन पर रुडयार्ड किपलिंग के पिता लॉकवुड किपलिंग द्वारा आकृतियां उकेरी गई हैं। मार्केट के दक्षिण में जे.जे. स्कूल ऑफ आर्ट है। यहीं पर रुडयार्ड किपलिंग का जन्म हुआ था, उसका जन्म-स्थान अब डीन के आवास के रूप में उपयोग होता है।

ताज महल होटल

ताज महल होटल : शहर की सबसे बड़ी पहचान और भारत के सर्वश्रेष्ठ होटलों में से एक। 1903 में जे.एन.टाटा द्वारा निर्मित इस होटल के नए और पुराने दो विंग हैं। नए विंग की अपेक्षाकृत पुराना विंग अधिक महंगा और भव्य है। पुराने विंग में ग्रांड सेंट्रल स्टेयरकेस देखने लायक है।

फ्लोरा फाउंटेन

फ्लोरा फाउंटेन : इस फाउंटेन का नाम रोम में समृद्धि के देवता के नाम पर पड़ा, इसका निर्माण 1869 में सर बार्टले फरेरे के सम्मान में किया गया, जिन्होंने आज दिखने वाले मुंबई के निर्माण में बहुत सहयोग दिया था। अब यह फाउंटेन उस क्षेत्र में है, जहां महाराष्ट्र राज्य के लिए शहीद होने वालों की याद में स्मारक बनाया गया है।

mumbai high school

mumbai high school

मुंबई विश्वविद्यालय एवं उच्च न्यायालय

मुंबई विश्वविद्यालय एवं उच्च न्यायालय : 1860 से 70 के दौरान जब भवनों का निर्माण तेजी से किया जा रहा था, उस समय, विशेषकर ओवल मैदान के किनारे, अधिकांश विक्टोरियन भवनों का निर्माण हुआ। उन दिनों मैदान समुद्र के नजदीक हुआ करता था और मुंबई विश्वविद्यालय, पश्चिम रेलवे मुख्यालय का भवन तथा उच्च न्यायालय सीधे अरब सागर के सामने थे। इनमें मुंबई विश्वविद्यालय भवन सबसे शानदार है। गिलबर्ट स्कॉट ने इसका डिजाइन तैयार किया था, यह 15वीं शताब्दी का इटेलियन भवन जैसा दिखता है। इसका भवन, इसका विशाल पुस्तकालय, कन्वोकेशन हॉल और 80 मी. ऊंचा राजाबाई टावर बहुत सुंदर है।

हॉर्निमन सर्किल

हॉर्निमन सर्किल : 1860 में फोर्ट एरिया में राज्य सरकारी भवनों का निर्माण किया गया था। इसके समीप ही क्लासिक टाउन हाल (मुंबई का गौरव) है।

मरीन ड्राइव

मरीन ड्राइव : 1920 में निर्मित, मरीन ड्राइव अरब सागर के किनारे-किनारे, नरीमन प्वाइंट पर सोसाइटी लाइब्रेरी और मुंबई राज्य सेंट्रल लाइब्रेरी से लेकर चौपाटी से होते हुए मालाबार हिल तक के क्षेत्र में है। मरीन ड्राइव के शानदार घुमाव पर लगी स्ट्रीट-लाइटें रात्रि के समय इस प्रकार जगमाती हैं कि इसे क्वीन्स नैकलेस का नाम दिया गया है। रात्रि के समय ऊंचे भवनों से देखने पर मरीन ड्राइव बहुत बेहतरीन दिखाई देता है।

mahabar hill

mahabar hill

मालाबार हिल

मालाबार हिल : यह मुंबई का सभ्रांत आवासीय क्षेत्र है। मालाबार हिल में हैंगिंग गार्डन है, जहां सायंकाल में अच्छी भीड़ रहती है। यहां झाड़ियों को काटकर जानवरों की शक्ल दी गई है, जो इस गार्डन की विशेषता बन गए हैं। यहां फूलों से बनी एक घड़ी भी है। यहां से आप शहर का अच्छा नजारा ले सकते हैं।

मणि भवन

मणि भवन : अपनी मुंबई यात्रा के दौरान महात्मा गांधी इस भवन में ठहरे थे। उनके कमरों को उसी रूप में रखा गया है और यहां उनके जीवन से संबंधित चित्रों को प्रदर्शित किया गया है। यह भवन रोजाना प्रात: 9.30 बजे से सायं 6.00 बजे तक खुला रहता है तथा यहां प्रवेश निशुल्क है।

aexal world in mimbai

aexal world in mimbai

एस्सल वर्ल्ड

एस्सल वर्ल्ड : एस्सेल वर्ल्ड एक पार्क है और वोटर पार्क भी है मुम्बई का सबसे पहला मनोरंजन पार्क है |  यह पार्क डिज्नीलैंड जैसा ही है | यह पार्क बच्चों के लिए काफी आकर्षक ओर घूमने की जगह है | यहां अलग अलग तरह की राइट्स और वोटर पार्क भी है | यहां लोग देश विदेश से घूमने के लिए आते हैं | एस्सेल वर्ल्ड बहुत ही सुंदर और देखने लायक पार्क है |

90 के दशक से एस्सल वर्ल्ड मुंबई के साथ – साथ पूरे देश में ख्याति प्राप्त थीम पार्क हैं. यह मनोरंजन का बहुत अच्छा माध्यम हैं. इस अम्यूजमेंट पार्क की रोमांचक राइड्स यहाँ का आकर्षण – केंद्र होती हैं. इस पार्क की विशेषता यह हैं कि यहाँ किसी भी आयु – वर्ग का व्यक्ति जा सकता हैं और आनंद ले सकता हैं. यह साल के 365 दिन खुला रहता हैं और यही कारण हैं कि यह प्रतिदिन लगभग 10,000 लोगों का मनोरंजन करता हैं.

संजय गाँधी नेशनल पार्क

संजय गाँधी नेशनल पार्क : इसे पहले बोरीवली नेशनल पार्क के नाम से जाना जाता था. यह मुंबई की उत्तर दिशा की ओर उपनगरीय क्षेत्र में स्थित हैं, जहाँ बड़े स्तर पर वन्य जीवन का संरक्षण किया जाता हैं. यह देश में स्थित अन्य राष्ट्रीय उद्यानों की तरह बहुत बड़ा तो नहीं हैं, परन्तु यहाँ जो वन्य प्राणियों और वन्य जीवन संरक्षण का काम किया जा रहा हैं, वह काबिल – ए – तारीफ हैं और यही इसकी ओर आकर्षण का कारण हैं. शहर की भाग – दौड़ भरी जिंदगी से दूर यहाँ प्रकृति के बीच समय गुजरने के लिए यह उत्तम स्थान हैं.

नेहरू म्यूजियम

नेहरू संगृहालय जवाहरलाल नेहरू के याद में स्थापित यह संग्रहालय है और पुस्तकालय भी है | इसमें जवाहरलाल नेहरु की यादें और उनके बारे में है मुंबई के बारे में ऐतिहासिक पुस्तके भी संग्राहलय में है |  इसका लक्ष्य भारत के स्वतंत्रता संग्राम संजोना तथा उसका पुनर्निर्माण अकरना है। यह तीन मूर्ति भवन के प्रांगण में स्थित है। इसकी स्थापना जवाहरलाल नेहरू के देहान्त के उपरान्त की गयी थी। यह भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय के अन्तर्गत एक स्वतंत्रता संस्था है।

बाबुलनाथ मंदिर

बाबुलनाथ मंदिर भगवान शिव का बहुत प्राचीन मंदिर है | यह मंदिर गिरगांव चौपाटी के नजदीक एक पहाड़ी पर स्थित है और वहां एक बबूल का पेड़ है और उसके नीचे भगवान शिव जी का मंदिर है इसलिए भवन नाथ मंदिर कहा जाता है मुंबई के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक मंदिर है यह मंदिर धार्मिक दर्शनीय स्थल है |

कन्हेरी गुफाये

कन्हेरी गुफाएं प्राचीन गुफाएं हैं दुनिया की सबसे अच्छी गुफाओं में से एक गुफा यह कानेरी गुफा | भगवान बौध का मंदिर भी है कन्हेरी गुफाएं के अंदर अलग-अलग गुफाएं हैं और पर्यटन के लिए सबसे आकर्षित जगह है जहां लोग देश विदेश से देखने के लिए आते हैं |

मुंबा देवीमंदिर

मुंबा देवी मुंबई के भुलेश्वर में स्थित मंदिर है मुंबा देवी नाम मराठी भाषा से निकल आया है | माना जाता है कि कोली लोगों ने मोमा देवी की स्थापना की थी और इन देवी की कृपा से समुद्र लोगों को नुकसान पहुंचाना नहीं था | यह मंदिर धार्मिक पर्यटन स्थल देखने लायक है |
मुंबई तक कैसे जाएं:

माउन्ट मेरी चर्च :

माउन्ट मेरी चर्च :

माउन्ट मेरी चर्च :

माउन्ट मेरी चर्च : यह माउन्ट मेरी का महामंदिर [Basilica] हैं. यह एक रोमन केथोलिक चर्च हैं, जो कि मुंबई के बांद्रा नामक स्थान पर स्थित हैं. कहा जाता हैं कि इसका निर्माण सन 1760 में किया गया था. यहाँ कुमारी मेरी का जन्मोत्सव प्रति वर्ष 8 सितम्बर के पश्चात् 1 सप्ताह तक मनाया जाता हैं. इसे आम लोग ‘बांद्रा फेयर’ के नाम सेजानते हैं और यहाँ आकार इसका आनंद उठाते हैं.

छत्रपति शिवाजी महाराज वास्तु संग्रहालय

छत्रपति शिवाजी महाराज वास्तु संग्रहालय : यह संग्रहालय मुंबई के एम्. जी. रोड पर स्थित हैं, जो की मरीन ड्राइव व होटल ताज से वाल्किंग डिस्टेंस पर है. इसकी स्थापना 10 जनवरी, 1922 को हुई थी. इसका भवन मुग़लों, मराठों और जैनों के भवनों की निर्माण शैली का मिला – जुला रूप हैं, जिसके चारों ओर एक बगीचा हैं, जो खजूर के वृक्षों और फूलों से आच्छादित हैं. इस संग्रहालय में 3 फ्लोर है, जो भारत देश की पुरानी संस्कृति के बारे में लोगों को बताते है. यहाँ अंदर ऑडियो गाइड भी मिलता है, जिसे आप 40 रुपय में लेकर संग्रहालय के अंदर रखी वस्तुओं के बारे में विस्तार से सुन सकते है.

काला घोड़ा कला भवन :

काला घोड़ा कला भवन : यह मुंबई की सांस्कृतिक कलाओं का केंद्र हैं. यह किले और कोलाबा के बीच दक्षिणी मुंबई में स्थित हैं. यह मुंबई की सबसे अच्छी आर्ट गेलेरी और संग्रहालयों में से एक हैं. हर साल फरवरी में काला घोड़ा असोसिएशन 9 दिन का ‘काला घोड़ा कला महोत्सव’ का आयोजन करती हैं, जो बहुत ही आकर्षक होता हैं और कला प्रेमी जनता इसे देखने जाती हैं.

मुंबई के बाजार

मुंबई के बाजार : हम सभी जानते हैं कि महिलाओं को शोपिंग का कितना शौक होता हैं, मुंबई स्ट्रीट शोपिंग के लिए बहुत प्रसिद्ध हैं. यहाँ बहुत सी चीजे कम दाम और अच्छी गुणवत्ता के साथ मिल जाती हैं. इस उद्देश्य हेतु सबसे ज्यादा नाम कमाया हैं चोर बाज़ार ने. कोलाबा कोज़वे यादगार चीजों के लिए, लिंकिंग रोड सस्ते जूतों, कपड़ो और चोर बाज़ार एंटीक चीजों को खरीदने के लिए प्रसिद्ध हैं.
हेरिटेज बिल्डिंग्स : मुंबई में कई मन्त्र – मुग्ध और आश्चर्य – चकित कर देने वाली इमारतें हैं, जो अपनी जटिल और मन – मोहक निर्माण के लिए जानी जाती हैं. इनमे से कुछ उदाहरण के तौर पर हैं – प्रिंस ऑफ़ वेल्स म्यूज़ियम, विक्टोरिया टर्मिनस रेलवे स्टेशन [CST], बॉम्बे हाई कोर्ट, आदि. ये सभी लगभग दक्षिणी मुंबई में या इसके पास स्थित हैं.

bollywood

bollywood

बोलीवुड

बोलीवुड: मुंबई हिंदुस्तान की फिल्म इंडस्ट्री ‘ बोलीवुड ’का केंद्र हैं. यहाँ फिल्म सिटी हैं, यह मुंबई के पश्चिमी उपनगरीय इलाके में गोरेगांव में स्थित हैं, जहाँ विभिन्न फिल्मो और सीरियलों की शूटिंग चलती रहती हैं. आप वहाँ जाकर शूटिंग देख सकते हैं और यहाँ लगाये गये फिल्मों के सेट देखने के लिए भी बहुत से लोग जाते हैं.

इस प्रकार अगर देखा जाएँ तो मुंबई में घुमने के लिए बहुत सी जगह हैं, जैसे -:

क्रमांक विविध स्थल स्थलों के नाम

1. प्रसिद्ध मंदिर श्री सिद्धिविनायक मंदिर, मुम्बादेवी मंदिर, महालक्ष्मी मंदिर, अफगान चर्च, बाबुलनाथ मंदिर, बाबु अमीचंद पनालाल अदिश्वर्जी जैन मंदिर, श्री वालकेश्वर मंदिर, इस्कोन मंदिर, ग्लोबल पेगोडा, आदि.

2. प्रसिद्ध अम्यूजमेंट पार्क स्नो वर्ल्ड, एस्सल वर्ल्ड, वाटर किंगडम, कमला नेहरु पार्क, इमेजिका थीम पार्क, आदि.

3. प्रसिद्ध बीच जुहू बीच, मड आईलेंड, अक्सा बीच, वर्सोवा बीच, गिर्गौम चौपाटी बीच, मार्वे बीच, दादर चौपाटी बीच, गोराई बीच, मनोरी बीच, आदि.

4. अन्य दर्शनीय स्थल हैंगिंग गार्डन, शिवाजी पार्क, फ़्लोरा फाउंटेन, RBI मोनेटरी म्यूज़ियम, जोगर्स पार्क, महाकाली केव्स, मालाबार हिल्स, नरीमन पॉइंट, पवाई लेक, प्रियदर्शिनी पार्क एंड स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स, धोबी घाट, महालक्ष्मी रेस कोर्स, मुंबई पोर्ट ट्रस्ट गार्डन, नेहरु साइंस सेंटर, जिजामाता उद्यान, आदि.

मुंबई के दर्शनीय स्थलों की सूची बहुत बड़ी हैं. साथ ही आप एक बार के टूर में मुंबई नहीं घूम पाते, कुछ न कुछ छुट ही जाता हैं. परन्तु इस माया – नगरी की बात ही निराली हैं, इसलिए कहा जाता हैं कि जो एक बार मुंबई जाता हैं, वो वहीँ का होकर रह जाता हैं.

mumbai

mumbai

मुंबई कैसे जाये / मुंबई की यात्रा कैसे करे 

मुंबई हवाई अड्डा :  छत्रपति शिवाजी इंटरनेशनल एरपोर्ट

मुंबई ट्रेन : छत्रपति शिवाजी टर्मिनस रेल्वे स्टेसन

मुंबई  रोड द्वारा :  अहमदाबाद से मुबई [8 h 23 min (524.2 km)],

उदयपुर से मुंबई [11 h 40 min (752.9 km)]

जयपुर से मुंबई [17 h 52 min (1,146.0 km)]

दिल्ली से मुंबई [22 h 47 min (1,415.5 km)]

गोवा से मुंबई [9 h 39 min (583.4 km)]

मुंबई तक कैसे पहुंचें

मुंबई भारत का सबसे प्रमुख वित्तीय केंद्र है और साथ ही बॉलीवुड उद्योग भारत की अर्थव्यवस्था के विकास के सबसे महत्वपूर्ण भागों में से एक है। दलाल स्ट्रीट, मरीन ड्राइव, वरली, बांद्रा, दादर और अंधेरी शहर में हलचल वाले क्षेत्रों के रूप में कार्य करते हैं। इसके बावजूद मुंबई भारत के सबसे अधिक आबादी वाला शहर है और साथ ही यह सबसे बड़ा शहर भी है और इसलिए यह भारत के अन्य सभी बड़े शहरों के साथ-साथ विश्व के साथ जुड़ा हुआ है। अरब सागर की ओर अग्रसर, शहर में जलमार्ग का एक अच्छा बुनना भी है जो भारत के वाणिज्यिक विकास को तैयार करने में एक महत्वपूर्ण मार्ग के रूप में चिह्नित करता है। इसलिए जो मुंबई से कैसे पहुंचे, इसके बारे में पूछताछ करने वाले व्यक्ति को केवल चिंता ही करना चाहिए कि मॉनसून के दौरान बाढ़ की सड़कों से कैसे बचें। आप जूनियर से सितंबर के बीच यात्रा कर रहे एक कॉर्पोरेट यात्री होने के नाते, उपद्रव का मामला है। वैसे भी मुंबई अच्छी तरह से भारत के सभी प्रमुख शहरों के लिए सड़क के मार्ग, रेलवे और वायुमार्ग से जुड़ा हुआ है और साथ ही अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा दुनिया के सभी प्रमुख शहरों को शहर से जोड़ता है।

पास के एक शहर से यात्री एक तरफ पश्चिमी घाट के रंगों और दूसरी तरफ अरब सागर के क्रिस्टल तरंगों के रास्ते मुंबई में जा सकता है। नासिक से सड़कों पर मुंबई पहुंचने की योजना लगभग 170 किलोमीटर है, जो नासिक मुम्बई एक्सप्रेसवे को ले सकती है जो पूर्वी एक्सप्रेसवे से जुड़ती है या नासिक को मुंबई बस में ले जा सकती है, जो लगभग 2 घंटे 20 मिनट लगते हैं। पुणे से मुंबई तक की दूरी लगभग 150 किलोमीटर है और पुणे से मुंबई की बस 2 बजे 30 मिनट और औरंगाबाद लगभग 340 कि.मी. है। सायन-पनवेल एक्सप्रेस राजमार्ग और पूर्वी एक्सप्रेस राजमार्ग मुंबई से महाराष्ट्र के सभी प्रमुख शहरों को जोड़ता है। जबकि एक गोवा से मुंबई तक ड्राइव की योजना बना रही है, जो कि लगभग 580 किमी दूर है, को राष्ट्रीय राजमार्ग 66 का पालन करना होगा जो राज्य राजमार्ग 21 से जुड़ा है, उसके बाद सायन-पनवेल एक्सप्रेसवे। फिर भी अहमदाबाद से मुम्बई तक मार्ग पर जाने के लिए सूरत में लगभग 8 घंटे लगेंगे।

रेलवे मुंबई शहर की जीवन रेखा है और इसीलिए शहर भारत के अन्य प्रमुख शहरों से बहुत अच्छे नेटवर्क के माध्यम से जुड़ा हुआ है। मुंबई में छत्रपति शिवाजी टर्मिनल और मुंबई सेंट्रल दो प्रमुख रेलवे स्टेशन हैं जबकि दादर रेलवे स्टेशन और कल्याणी रेलवे स्टेशन एक विकल्प के रूप में कार्य करते हैं। इस प्रकार ट्रेन से मुंबई तक पहुंचने की योजना बना या तो इनमें से किसी भी स्टेशन का चयन कर सकते हैं। कल्याणी रेलवे स्टेशन जो उपनगरों में स्थित है, अच्छी तरह से सड़क और टैक्सी और बसों से जुड़ा मुंबई शहर के लिए प्लाई।

छत्रपति शिवाजी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे देश में सबसे व्यस्त हवाई अड्डों में से एक है। यह शहर को दुनिया के सभी प्रमुख शहरों में जोड़ता है। घरेलू हवाई अड्डे में भारत के अन्य सभी शहरों के लिए लगातार उड़ानें हैं। इस प्रकार मुंबई से उड़ान भरने की योजना बना रही है, जो केवल टिकट बुकिंग करने की चिंता करना चाहिए। नई दिल्ली से मुम्बई की उड़ान अक्सर जाम पैक की जाती है और इसलिए पहले से ही अपने टिकट को अच्छी तरह से बुक करने की आवश्यकता है।

Enjoy and relax at Top Casino Sites UK

Top Casino Sites UK 2016

Most of the Casino sites that prepare rankings and schedules of the best Casino operators go as far as comparing the bonuses and the games. However, we believe that there are many other important necessities a site has to fulfill before you decide to start an account. It needs to check that when we choose we always start with the licensing. This is the make or break factor in our research and it should also be the first thing you check. Then come all the criteria we use, which you will find listed below. Each of them can change your experience on the site so we would advise you to consider all of them. We will show you example sites that performed best in each category but this is not the main purpose of our article.

Top Ten Casino Sites

There are few sites which are certainly taking the industry by storm. Only in few years in the running, these sites have won numerous awards with an interesting twist on the typical online Casino sites. They have invented a new and much more social way to play Casino with friends online by allowing the player to play face.

Some Casino sites are acquainted with many people through their extensive current television advertising campaign and have won the award for best Casino sites. Somewhere the first online Casino sites to offer games which were completely free to play.

Top Casino Sites UK review

Some of the best sites out there not only are jam packed with a variety of Casino games but they are also having a wide spectrum of other games to keep their many members constantly entertained. They are always adding new games to keep it constantly fresh and entertaining.

Some of the top sites have hot new promotions and lots of exciting online Casino games. They are ruling the entertainment space offering some of the best experiences to their players. The best new online Casino sites offer a warm welcome to the players with list of exclusive offers

Top Casino Bonuses

Casino is the most popular online game these days, particularly in the UK. The players across the globe enjoy playing Casino and some very attractive bonuses coming along with it.

The biggest advantage obviously is the ability to play anywhere and everywhere. There are so many selective Casino sites out there, so this really is one of the biggest perks of playing Casino. The players get the access of quick withdrawals and in some cases; they can play with more secrecy than at standard Casino sites.

Top Online Casino Sites

In some of the Online Casino Bonuses, you will get access to games which are really exciting and entertaining. These include Baccarat, Pai Gow Poker, Poker Casino in most of the cases. 75-ball and 90-ball Casino tend to be the most popular, also a few popular sites more offer rapid Casino, in the form of 30-ball action.

Best Casino games can include coveralls (cover the card to win), snowballs (win within a specific number of balls to win a progressive jackpot), and standard line, two-line, and full house Casino games. A number of Casino-related side-games are also available at these sites which include a variety of number games.

In some of the top rated no deposit Casino sites, you can use play online in the same way you would use at any other sites and casinos. The players deposit into their account and they are able to get access to their funds quickly. They can also withdraw quickly and also gain rapid access to their winnings.

 

For more Bingo And Casino Games Please Click At Play Club Casino and Iconic Bingo