BEST PLACES TO VISIT IN MONSOON IN INDIA

TOURIST-MAP in India

BEST PLACES TO VISIT IN MONSOON

There is no doubt that India is a country of diversity; Diversity in landscapes, cultural diversity, linguistic diversity, etc. It is the vastness of their heritage and the beauty of the places that transform into a fairytale country. Speaking of the breaks, there are several; By purpose, time, budget and mood. You only need one reason or better to say a break to explore its versatility, from Ladakh’s rough temperament to wavy touch of Pondicherry and the golden sands of Rajasthan to the history of the Nalanda University’s ruins, in every scan There is a new face of “Incredible India” visitors displacing this beautiful country of South Asia usually being confused that are the best places to be included in your vacation route or where to go in India during the moesson. But you must be a lover of rain and a hard soul to enter here if India is not short of fascinating places. Watch this wonderful holiday moesson definitely a magic spell and fill your holiday with adventurous memories she will cherish forever.

If you find Holiday packages in India with airfare  at Swantour.com They are offering all domestic and international packages, cheap domestic air tickets, International flights tickets, and discount on airfare, online hotels and many mores and Get our great prices on India tour packages today!

Monsoon Destinations in South India

MONSOON DESTINATIONS IN SOUTHERN INDIA

Munnar Ultimate Place to fall in Love

MUNNAR: LAST PLACE TO FALL IN LOVE

A destination for honeymooners, family tourists, wildlife seekers, adventure lovers and nature lovers Munnar is undoubtedly an ideal place to just fall in love! Given the topography full of plantations extensive tea, green valleys, valleys, brooks, cliffs, and of course rough rocks give the break as needed at the speed of sight, this oasis of Kerala is at its best revitalizing form during the monsoon. South India Tour Packages

Monsoon Period: June-September

Best Activity: Trekking, bird watching, hiking and tourism, especially beautiful waterfalls.

Kodaikanal Land of Magical Vistas

KODAIKANAL: COUNTRY OF MAGICAL VIEW

Another fascinating destination monsoon in India, Kodaikanal symbolizes the name “The Gift of the Forest” in the true sense. With the sun and clouds clogging with each other, and sometimes hammering it, it’s really spectacular to see the fresh look of this hill station of Tamil Nadu and smell the scent of mud washed by rain. But planning your visit during the rainy season only if you dare to treat monsoon madness. Hampi Tour

Monsoon Period: July And August

Best Activity: Hiking, cycling and tourism, but high risk of landslides due to slippery mountains

Coorg: Fusion of Beauty and Tranquility

COORG: FUSION BEAUTY AND REST

If you’re in Coorg during the rainy season, then it’s natural to have a smile of a million dollars! Just head out and enjoy the barn just to break a spectacular view of Coorg. The fresh wind, pleasant climate, fog covered, and fresh green views are some of the results they admire the period of dew in the area. Do not miss the rich smell of hot coffee! Coorg Bekal Tour

Monsoon Period: June-September

Best Activity: Excursions but take into account the lixivia’s and snakes and do not try any extreme adventure activity.

Athirapally Kerala—Perfect Combo of Calmness and Wilderness

ATHIRAPALLY: KERALA-COMBO PERFECTLY CALM AND DESERT

As we begin the trip to Athirapally and when you leave here, you will realize why it is said that the desired place is Moesson in Kerala. Commonly known as the “Niagra of India”, Athirapally Falls is the most popular attraction in the area and it seems surprising during the monsoon. Follow the steep path to the falls and enjoy the music whispering of birds that perfectly synchronize with the loud voice of the waterfall. Kerala Tour Packages

Monsoon Period: June-September

Best Activity: Excursions but take into account the lixivias and snakes and do not try any extreme adventure activity.

WAYANAD: THE POINT OF REJUVENATION

Wayanad No doubt Wayanad is one of the best hill stations in South India. And this means there is no lack of beautiful natural views. But what makes it so special is the Wayanad adventurous side. The strategic location between the mountains of West Ghats gives travelers enormous chances to go hiking, climbing, walking, etc. And to the delight of the holidaymakers, the place also has a special monsoon festival 3 days ‘Splash’ to paint Wayanad As the most popular place moesson in india.

Monsoon Period: June-September

Best Activity: Trekking, Walking and Tourism

KUMARAKOM: ADVENT ADVENTURE

If you want to enjoy Moesson Kumarakom is the place to enjoy. The arrival of Renova sparkling appearance of this peninsula makes emerald green a series of images. Feel the tension and the kilter of weeks in Ashtamudi and Vembanad with heavy wind so you fall on your knees. But it is good to keep an umbrella along with you wherever you go in Kumarakom. Kerala Luxury Package

Monsoon Period: June To September

Best Activity: Ayurvedic therapies and bird-watching

Alleppey Sensuous Touch of Mother Nature

ALLEPPEY: SENSUAL TOUCH OF MOTHER NATURE

Like other tourist spots in Kerala, Alleppey also has a green appearance during the monsoon, but it still counts as one of the best places to visit in Moesson. So what separates him from others? Step into this scenic city and you will soon realize that this as soon as the fuse monson water with ripples on the lake. See the transformants shadows around the enjoyment of a Kerala fish curry and spicy baked Karimeen. A Shikara ride is another interesting attraction and never losing monsoon in Alleppey. Alleppey Tour Packages

Monsoon Period: June-September

Best Activity: Shikara ride, fishing, tourism and enjoy delicious local delicacies.

MONSOON DESTINATIONS IN WESTERN INDIA

Mahabaleshwar Blend of Spirituality and Beauty

MAHABALESHWAR: MIXTURE OF SPIRITUALITY AND BEAUTY

In general, it is advised to avoid traveling during the Mahabaleshwar moesson, but if you have an adventure freak and love wet in the rain go to this Maharashtra hill station. The place has actually been transformed into a paradise with the beginning of the rain. Cool weather, cool breezes, refreshing forest views and the tranquil atmosphere make it one of the best places to visit in India during the moesson. Pune Mahabaleshwar Shirdi Package

Monsoon Period: June-September

Best Activity: Tourism

Khandala Legend of Sahyadris

KHANDALA: LEGEND OF SAHYADRIS

Driving just 3 km from Lonavala Khandala to reach a mountainous country is located in the foothills of Sahyadris range or, better said, the West Ghats. Despite the height of only 625 meters (compared to other hill stations of India) above sea level, Khandala has its own fans and visitors. The place serves as a great time and weekend walk place for people who live nearby, especially for Mumbai, but with the beginning of drizzle, the scenic beauty of flowers rather than like a garden of ancient memories.

Monsoon Period: June-August

Best Activities: Walking

Goa The Much Needed Break

GOA: THE MUCH NEEDED BREAK

There are many reasons to visit Goa during the monsoon. Some of his popular festivals such as Sao Joao-the Santos Pedro and Paul and Bonderam Flag Carnival celebrations fall in the rainy season, bringing a fresh wind of vitality around this little happiness. Along with this enthusiasm, the rains started with a charm of magic in nature, also with attraction such as the Mollem National Park, Dudh Sagar Falls and the Mandovi River, with stunning views of the Goa sand cover. Taj Exotica Goa

Monsoon Period: June-September

Best Activity: Trekking in Amboli Ghats and Cotigao and rafting on the Mandovi River

 

LONAVLA: ENGAGING GREEN CARPETLonavla Captivating Green Carpet

Lonavla or Lonavala is a perfect choice for a stay in the rainy season. As soon as you visit, you will find literal charm in this small mountainous package of Pune. Green fantastic views, beautiful waterfalls, ponds and some beautiful tourist attractions make Lonavla an eye-catcher during the monsoon. With heavy clouds bouncing over his head and Karla Caves and Fort Visapur to take you back in the bygone era, Lonavla emerges as a wonderfully relaxing place. Lonavala Mahabaleshwar Package

Monsoon Period: June-September

Best Activity: Tourism

Panchgani A Date with Rain

PANCHGANI: AN APPOINTMENT WITH RAIN

Drive around 5 hours to Mumbai Panchgani, a small hill station located in the lush Western Ghats. The place is not so popular among honeymooners, but its attraction wetty is enough to stay here for hours or days. Venna Lake, Lingmala Falls, Table Country, horse riding and more things to do and see adding a bang on his Panchgani trip. Celebrate Monsoon with some hot local dishes served in restaurants near the lake.

Monsoon Period: June-September

Best Activity: Tourism

Leh Ladakh Journey down the Memory lane

MONSOON DESTINATIONS IN NORTHERN INDIA

Mussoorie An Eye catching Beauty

LEH LADAKH: TRAVEL THE MEMORY LANE

A great place to consider; To conquer a huge amount; A home to revive and escape a path to the moon, visit Leh Ladakh and get lost in endless beauty. A favorite for adventure lovers, this remote destination of India is truly a place of contrasting beauties: hilly hills desert-crystalline lakes, serene Buddhist monasteries-colorful festivals. Unlike other destinations in India, the monsoon period is considered the best time to capture Leh Ladakh in its memory. Leh Ladakh Tours

Monsoon Period: Ladakh Not Affected By The Monsoon

Best Activity: Trekking, Jeep Safaris and Bikes

Mussoorie An Eye catching Beauty

MUSSOORIE: A STRIKING BEAUTY

You can not ignore the addition of this emerald beauty of Uttarakhand in India moesson travel. Blessed with the beauty of the hills, exotic flora and fauna, and stunning views of the Doon Valley and Shivalik range, Mussoorie is really great during the rainy season. It’s really great to get a glimpse of the clear blue sky with green view. Rishikesh Mussoorie Tours

Moesson Period: July-September

Best Activity: Tourism

Kausani A Nature Trail to Trek

KAUSANI: A NATURE TRAIL FOR TREKKING

When it comes to the best places to visit in India during the moesson, Kausani is proud to be one of the favorites. Individuals who have perfect and unobstructed views of the Himalayan would explore this Uttarakhand gem. It is year-round destination, but if you want a glimpse of the breathtaking beauty of Mother Nature, then visit this place from July to September.

Moesson Period: July-September

Best Activity: Look at the tops of Nanda Ghunti, Trishul, Panchachuli and Chaukhamba of the Himalayas, along with trekking.

Manali Spectacular Show above the Sea

MANALI: SPECTACULAR SHOW OVER THE SEA

It’s really a good idea to start exploring the Indian moesson in the northern region. And the main stop will surely be Manali. Nobody can escape the perfect harmony of green landscapes and snowy mountain peaks. Although it is a bit difficult to travel to Manali during the rainy season, but for adventure lovers it is best time to get the destination. Shimla Manali Tour Packages

Moesson Period: July-September

Best Activity: Trekking

Shimla Gateway to Himalayasshimla

SHIMLA: GATEWAY TO HIMALAYASHIMLA

Dew feeling in the sky that minimizes the buzz of the hot sun, it’s time to go to Shimla, one of the stations most popular and beautiful Indian mountains. Showers show their game in Shimla on a routine basis, but cannot expel the charm of this enchanting city. Happiness walk lanes in the fog or enjoy your favorite coffee at a road restaurant or just enjoy the rest of the raindrops looking magical on their own. Dalhousie Dharamshala Amritsar Tour

Moesson Period: July-September

Best Activity: Exploration

Jaipur Fresh Breeze of Rain Romance

MONSOON DESTINATIONS IN NORTHWEST INDIA

JAIPUR: FRESH BREEZE RAIN ROMANCE

After the sizzling summer it’s time to celebrate the beginning of the monsoon, especially if you’re looking for a trip to Jaipur. Because it is an architectural gem, the city comes alive with a fresh new image of its forts and palaces during the rainy season. Cloudy sky above your head brings a big break to the warm sunny days of sunshine, leaving Jaipur one of the most desirable country outing monsoon. Delhi Agra Jaipur Luxury Tours

Monsoon Period: June-September

Best Activity: Sightseeing

Udaipur Place of Ripples

UDAIPUR: LOCATION RIBBELS

If you really want to visit Udaipur and again and again, then this plan is timetable in the monsoon period. Life in Udaipur, like the beautiful lakes, is in its full bloom during these magic spells clouds. Delicious taste ‘dil Jani’ or give a pepper of taste buds Dal Batti Churma treatment is another great treat Udaipur Moesson. Do not forget to capture their memories of Moesson in the lens. Jodhpur Udaipur Tour Package

Moesson Period: July-September

Best Activity: tourism and boating

Mount Abu A Scenic Vista amidst Desert

MOUNT ABU: A PANORAMA IN THE DESERT

Because it’s a hill station, Mount Abu is a place all year long, but it is striking to see this charming destination when clouds cover air and water drops on the ground. Mount Abu is the right choice for those who provide the perfect dosage of nature, spirituality and adventure. There are numerous temples spread throughout the place. In addition to the beauty of these green view waterfalls are filled with water and the beautiful mountains romancing with fog. Udaipur Mount Abu Tour Package

Monsoon Period: August-September

Best Activities: Walking and trekking

Sightseeing and trekking in India

PUSHKAR TRIP TO ENJOY

When it rains heavy Pushkar in other parts of India, stand up for a beautiful trip to Pushkar not only for the dust balls that you scream or leave the hot sun that gives the tan. But to explore the beautiful and relaxing side of Rajasthan. It’s only during the monsoon the famous Pushkar Lake throws its dry look. Imagination is more romantic than a wake up call peacock, a camel riding in the early morning, a walk through the market as a scout, enjoying spicy Rajasthani dishes, watching the sunset and sunrise listening to folk songs! Rajasthan Desert Tour

Pushkar Journey to Relish

Moesson Period: July-September

Best Activity: Tourism

“For the best deals on holiday packages Monsoon, call us @ + 8287 000 333 Mr. Gaurav Chawla

About NainTara

Nain is the name behind Swan tours, one of the largest travel agencies in India. In addition to being a successful businessman, is also a typical addictive trip that likes to explore the treasures hidden in different angles of India. If it’s not on the road, it’s active with sharing pen travel experiences with much like him. With great interest in India’s rich cultural heritage, he loves to capture memories in your lens.

 

Place To Visit At Port Blair for Honeymoon Vacation

About Port Blair

About Port Blair

Port Blair, the capital of Andaman and Nicobar with beautiful little museums, is a cluster of tin-roofed buildings that wander to the north, east and west and peter in fields and forests in the south. The beaches have a white sand and coral reef and unspilled sparkling water.

The rare flora and fauna, underwater sea life and corals, with crystal clear waters and mangrove basins with unfulfilled fresh air draw every nature lover who tries absolute peace and rest in the mother’s lap. Forest Trekking Short Trip to Andaman

History of Port Blair

History of Port Blair

The history of Port Blair is linked to the history of Andaman and Nicobar Islands. But the first settlement by the British took place in 1789. The second settlement was, in fact, a criminal settlement, adopted in 1858, after the first independence war.

The cellular prison was built to punish Indian Freedom fighters. The punishment was the beginning of the painful story of the massive and terrible prison on Viper Island, followed by the Cellular Failure. Ferry ride to Havelock Island- Port Blair 3 Nights Package

Culture of Port Blair

Culture of Port Blair

People Of All Believers – Hindus, Muslims, Christians, Sikhs etc., And of all languages ​​like Hindi, Bengali, Malayalam, Tamil, Telugu, Punjabi, Nicobari, etc., Living together in complete peace and harmony. Intergovernmental and interregional marriages are common. This amazing racial and cultural mix is ​​correctly described as Mini India.

General information of Port Blair

General information of Port Blair

Place to visit in Port Blair

Port Blair, the capital of this Union area is approximately 1200 km from the east coast of the mainland.

How To Reach in Port Blair

How To Reach in Port Blair

By Plane

Port Blair is well connected to Chennai, Calcutta and Car Nicobar. And there are ships flying from Calcutta, Chennai and Visakhapatnam. But the trip of Visakhapatnam is very volatile. Places to visit in Andaman Island – Port Blair Havelock Honeymoon Packages

Per Track

A railroad does not connect the islands with the mainland, but there is a railway station at the secretariat.

On The Road

Port Blair is the main center. To access the island from the mainland one must first come to the capital, Port Blair and then to other islands that have local transport available. Air and sea connect it. Places to visit in Andaman Island – Port Blair Havelock Packages

Climate of Port Blair

The climate is warm and sunflowers in the summer and cool and sunny in winter.

Tourist Attractions In Port Blair

Cellular Jail (National Memorial)

Cellular Jail, Port Blair

Tours And Travel Andaman And Nicobar

Now transformed into a national memorial, Cellular Failure was built to punish Indian Freedom fighters. Located in Port Blair, it’s a bad witness of the tortures that were dropped out of the freedom fighters who were locked in this prison. The prison acquired the name, cellular because it consists entirely of individual cells for the lonely delivery of the prisoners. A small museum at the entrance gate shows lists of convicts, pictures and ugly torture devices. This prison consists of seven wings emanating from a central tower. The criminal settlement settled here by the British after the First Independence War in 1857 was the beginning of the painful story of the massive and terrible prison on the Viper Island, followed by cellular prison. Prison is now a pilgrimage for all freedom that loves people, preserved as a sanctuary to testify to those who were killed and killed here and there.

Wandoor Beach Andaman

WANDOOR

Just 29 km from Port Blair is this beautifully beautiful group of islands. The 15 islands form part of the Mahatma Gandhi Marine National Park. If on a trip from Port Blair, Jolly Buoy and Red Skin Islands are also visited. Mangrove beek, tropical rainforest and reef enhance the scenic beauty of the islands, which support nearly 50 types of corals. There are some good beaches at Wandoor, but watch out for the strong currents. Do not watch the coral reefs as they get damaged. In fact, many are already damaged. The Wandoor Marine Park includes the uninhabited North and South Cinque. Cinque islands are among the most beautiful islands in the Andaman’s. It is surrounded by pristine coral reefs. Only day trips are allowed and permission from the forest department is required.

Ross island beach

ROSS ISLAND

Ross Island Port Blair Travels Andaman and Niobrara’s the administrative headquarters of the British, this place has been abandoned today. Once surrounded by lawned lawns and umbrellas, the daily services are held in the church, but now the forest and under the growth have been taken over. Peacocks and trees walk here. The place is ruined and very sad, but it is worth taking a look. A look at the small museum gives an idea of ​​how this place should be looked after at that time. Places to visit in Andaman Island – Port Blair Havelock Neil Island Packages

CORBYNS COVE

Seven miles from the city of Port Blair, it is one of Andaman’s most beautiful beaches. Close by is the Snake Island surrounded by coral reefs. Although the water is very seductive, it is advisable not to swim in this water as the flow is very strong. Where to stay at Andaman & Nicobar Islands – Andaman Honeymoon Packages

Havelock Island

HAVELOCK ISLANDS

Havelock Islands Port Blair vacation packages Andaman and NicobarIt are 45 km from Port Blair. This island is full of Bengali settlers. The main attraction of these islands is not the picturesque white sandy beaches or turquoise waters or the coral reefs but the dolphins, turtles and very big fish attract most tourists.

GANDHI PARK

This beautiful park in Port Blair has facilities such as children’s park, theme park, theme park, deer and Bird Park, water sports, nature trail, lake, garden, restaurant and Japanese temple as well as a bunker. The former Dilthaman Tank, the only source of drinking water for Port Blair, has been developed into Gandhi Park in an incredibly short period of 13 days.

neil islands andaman

NEIL ISLANDS

Neil Island Port Blair Islands Tours Andaman and Nicobar these mostly Bengal populated islands are 40 km from Port Blair and offer good beaches for snorkeling. Although some corals are damaged, it is still a very nice place to be. Here the beach is numbered and beach number 1 has a number of beautiful hammocks under trees, which are very popular among the campers. Fresh water is also good. One can watch very large fish from these islands. But it will be difficult to cross the corals to the sea during the low times.

neil_andaman_india

Other Attraction Port Blair

Water sports complex – A unique sports complex in India, of its own kind, has facilities for safe water sports such as rowboats, paddle boats, kayaks, aqua bikes, aqua slide, boats, etc., and adventurous water sports such as water skiing, water scooters, twin boats.

mini zoo port blair andaman and nicobar islands

Mini Zoo & Bosmuseum

Mini Zoo & Bosmuseum – Port Blair has a small zoo that contains some of the rare and extinct species found anywhere in the world, including the Nicobar Duck and the Andaman Pond. Many crocodiles were bred here and are now in wild waters between the dense mangrove forests.

Mt. Harriet & Madhuban

Mt. Harriet & Madhuban – One can take a ferry service from Chatnam Wharf to Bamboo Flat. From there you can take a car to Mt Harriet which is 365 m. A natural path goes to the top and you can have a comfortable stay in the forest cottage.

Mt. Samudrika Naval Maritime Museum

Mt. Samudrika Naval Maritime Museum

Mt. Samudrika Naval Maritime Museum – This is an excellent primer when you go to the remote islands. It has a superlative shell collection and informative displays on various aspects of local marine biology. The exhibitions in the Anthropological Museum dedicated to the Andaman and Nicobar.

Port Blair

Other Excursions in Port Blair

CHIRIYA TAPU

CHIRIYA TAPU

CHIRIYA TAPU – A small fishing village with beaches and mangroves, Chiriya Tapu are 30 km. From Port Blair. From Chiriya Tapu there is a beach known for snorkeling. For more details on the India Holiday Packages promoted by Swan Tours visit www.swantour.com

सिक्किम गंगटोक की सोलो यात्रा

गंगटोक की सोलो यात्रा

गंगटोक की सोलो यात्रा

भारत में महिलाएं को अकेले घूमने या यात्रा पर जाने में बहुत ही सावधानी की जरूरत होती हैं, महिलाएं को बहुत तरह तरह की बातों का सामना करना पड़ता है। हालांकि लोगो की बातों का ज्यादा असर मुझ पर नहीं होता है। हाल ही में अपनी पांचवी सोलो यात्रा पर निकली। मै जब कोई ट्रिप प्लान करती हूं वह किसी ना किसी कारणवश हमेशा ही असफल हो जाती है। इस बार मैंने काफी सोच समझने और रिसर्च के बाद दस दिन की दार्जलिंग और सिक्किम की यात्रा करने का फैसला किया। मै अपनी इस नई और दस की यात्रा को लेकर बेहद ही उत्साहित थी। मैंने कोलकाता से दार्जलिंग जाने के लिए ट्रेन से जाना बेहतर समझा।मैंने शाम को कोलकाता से न्यू जलपाईगुड़ी जाने के लिए ट्रेन पकड़ी।

एक पूरी रात के सफर के बाद मै सुबह न्यू जलपाईगुड़ी पहुंची। न्यू जलपाईगुड़ी पहुँचने के बाद मुझे पता लगा कि, यहां दार्जलिंग के लिए सीधी बस नही है। कुछ ही दूरी पर मुझे एक सूमो नजर आयो जो प्रति सवारी 200 रुपये ले रहा था। मैंने भी पैसे देकर सूमो से ही जाने में भलाई समझी। तभी मुझे वहीं दो विदेशी नजर आयें, मैंने सूमो ड्राइवर से उन्हें भी गाड़ी में बैठाने को कहा।

इसी के साथ मुझे मेरी यात्रा में साथ देने के लिए दो नये साथी मिल गये। अकेले यात्रा करने में यही मजा है, आप इस दौरान नयी जगहों से मुखातिब होते है साथ ही नयी जगह पर नये लोगो से मिलते है। हम सूमो से पहाड़ो और चाय के बागानों से होते दार्जलिंग पहुंचे। दार्जलिंग पहुँचने के बाद पहले हमने एक होटल लेकर आराम करना उचित समझा। शाम को हल्का नाश्ता करने के बाद मै और मेरे नये दो विदेशी दोस्तों के साथ मै निकल पड़ी दार्जलिंग भ्रमण पर। मैंने और मेरे दोस्तों ने पहले दार्जलिंग चाय का कि चुस्कियां ली उसके बाद हमने हैप्पी वैली चाय बागन और टाइगर हिल्स घूमने का प्लान बनाया। दार्जलिंग में हम सभी शाम को चाय के बागानों ने घूमते रहे।  Himachal Pradesh Tours

दूसरा दिन दूसरे दिन हम सुबह तडके ही 3 बजे उठ गये क्योंकि हमे टाइगर हिल्स निकलना था। हमने एक गाड़ी किराये पर ,ली और निकल पड़े टाइगर हिल्स। रास्ते में हमसे कई महिलायों ने लिफ्ट मांगी ताकि वह भी ऊपर जाकर लोगो को कॉफ़ी और चाय बेचकर कुछ कमाई कर सके। लेकिन हमारी गाड़ी में जगह की कमी थी, इसलिए हम उन महिलायों की कोई मदद नहीं कर सके। हम टाइगर हिल्स सही समय पर पहुंच गये थे, लेकिन थोड़ी देर बाद पूरा टाइगर हिल्स सैलानियों से पट गया। सभी लोग उगते हुए सूरज को देख बेहद खुश हुए।हमने भी उगते हुए सूरज की कुछ तस्वीरें ली। यहां से उगते हुए सूरज को देखना इसलिए और अच्छा लगा रहा था क्यों कि जब सूरज की सुनहरी किरणे विश्व के तीसरे पर्वत पर पड़ रही थी, जिससे कंचनजंगा और भी खूबसूरत हो गया था। हम काफी लकी थे, क्यों कि उस दिन मौसम काफी साफ़ था, और हम सबसे उंचे शिखर को साफ़ साफ़ देख पा रहे थे।इस अद्भुत नजारे को देखने के बाद हैप्पी वैली चाय के बागानों को देखने के लिए निकल पड़े।

 

यूं तो दार्जलिंग में करीबन 86 चाय के बागन है लेकिन हमने हैप्पी वेली को ही चुना, क्यों की इस चाय के बागन में हम चाय बनने की प्रक्रिया को भी देख सकते थे। इस दौरान हमने टॉय ट्रेन का भी लुत्फ उठाया। हैप्पी वैली दार्जलिंग का छोटा सा चाय का बागन है। हमने हैप्पी वैली में चाय की पत्तियों से लेकर चाय बनने की पूरी प्रक्रिया को देखा। हालांकि दुःख की बात यह थी, यहां चाय के लिए अच्छी पत्तियां तोड़ने वाले मजदूर को महज एक दिन का मेहनताना महज 150 रूपया दिया जाता है। दार्जलिंग में ये दोनों जगहे घूमने के बाद मुझे अपने दोनों विदेशी दोस्तों को अलविदा कहना पड़ा क्योंकि अब मुझे दार्जलिंग स सिक्किम की यात्रा अकेले तय करनी थी। पहले मैंने दार्जिलिंग से गंगटोक की टैक्सी पकड़ी जोकि, दार्जलिंग से तीन घंटे की दूरी पर है।यहां के दृश्य इतने मनोरम होते है कि,आपको पता ही नहीं लगेगा की कब आप दार्जलिंग से सिक्किम पहुंच गये।अगर आपने पश्चिम बंगाल की टैक्सी ली है तो वह आपको सिक्किम बस स्टैंड पर छोड़ देगी।जिसके बाद आपको दूसरी सिक्किम जाने के लिए दूसरी टैक्सी लेनी होगी। Manali Volvo Packages

सिक्किम पहुँचने के बाद मै एमजी मार्ग पहुंची, जहां पहुँचने के बाद पहले मुझे लगा कि, मै मनाली के माल रोड आ गयी हूं। एमजी रोड बेहद खूबसूरत और साफ सुथरा था। वहां पहुंचकर मैंने एक कप कॉफ़ी पी और निकल पड़ी घूमने। यूं तो सिक्किम ज्यादा महंगा नहीं है लेकिन अकेले घूमने वालो के लिए यह थोड़ा सा महंगा है। पूरा सिक्किम बेहद ही ज्यादा खूबसूरत है, जिसकी तारीफ़ के लिए शब्द भी कम पड़ जाये। तो फिर आइये जानते है कि, सिक्किम में कहां-कहां घूमा जा सकता है।

सिक्किम की वादियां का सुहाना सफर

सिक्किम की वादियां का सुहाना सफर

सिक्किम की वादियां और हिमालय की गोद में बसे सिक्किम राज्य की वादियां का सुहाना सफर जो प्रकृति के अद्भुत सौंदर्य जो दिल झरोखो में रिमझिम और छनछनाती आवाजे और यह के मनमोहक फूलो की क्यारिया और जय लगता है दूर से कोई कायल की कुक सुनाये दे रही है और जैसे लगता है इसी तपोवन में साडी जिंदगी लगा दू | सिक्किम की भूमि या फूलों का प्रदेश कहना गलत नहीं होगा। वास्तव में यहां के नैसर्गिक सौंदर्य में जो आकर्षण है, वह अन्यत्र दुर्लभ है। नदियां, झीलें, बौद्ध मठ और स्तूप तथा हिमालय के बेहद लुभावने दृश्यों को देखने के अनेक स्थान, ये सभी हर प्रकृतिप्रेमी को बाहें फैलाए आमंत्रित करते हैं। विश्व की तीसरी सबसे ऊंची पर्वतचोटी कंचनजंगा (28156 फुट) यहां की सुंदरता में चार चांद लगाती है। सूर्य की सुनहली किरणों की आभा में नई-नवेली दुलहन की तरह दिखने वाली इस चोटी के हर क्षण बदलते मोहक दृश्य सुंदरता की नई-नई परिभाषाएं गढ़ते हुए से लगते हैं। मनुष्य की कल्पनाओं का सागर यहां हिलोरें मारने लगता है। Shimla Tour Packages

सिक्किम जीवंत वातावरण

सिक्किम जीवंत वातावरण

भारत के उत्तर-पूर्व और पूर्व में फैले इस राज्य का क्षेत्रफल 7096 वर्ग किलोमीटर है और जनसंख्या लगभग पांच लाख। चीन के अधीनस्थ तिब्बत से व्यापारिक संबंधों के समय व्यावसायिक महत्व का स्थान रहा गंगटोक आज के सिक्किम की राजधानी है। इस शहर की स्थापना 19वीं शताब्दी के मध्य में हुई थी। इससे पहले राज्य के पश्चिमी भाग में युकसम और इसके बाद राबडेंसे नामक स्थानों को सिक्किम की राजधानी होने का गौरव प्राप्त था। देश-विदेश से आने वाले पर्यटकों, हनीमून मनाने वाले जोड़ों तथा राज्य के सुदूर क्षेत्रों में ट्रेकिंग और साहसिक पर्यटन के शौकीन लोगों की आवाजाही गंगटोक के वातावरण को हमेशा जीवंत बनाए रखती है।

पर्यटन की दृष्टि से सुविधापूर्वक सिक्किम दर्शन के लिए राज्य को चार भागों में बांटा जा सकता है। सबसे पहले पूर्व में गंगटोक तथा इसके आसपास कई दर्शनीय स्थल हैं। समुद्रतल से 5800 फुट की ऊंचाई पर स्थित गंगटोक का प्रारंभ से ही समुचित विकास होता आया है। यहां अच्छे से अच्छे रहने के स्थान, यातायात के साधन तथा संचार माध्यम उपलब्ध हैं। राज्य की पारंपरिक हस्तशिल्प और हथकरघा की वस्तुओं का केंद्र भी पर्यटकों के लिए विशेष आकर्षण का स्थान है। Manali Tour Packages

यहां से केवल तीन किलोमीटर की दूरी पर 200 वर्ष पुराना महत्वपूर्ण बौद्ध मठ इंचे मॉनेस्ट्री है। ऐसा माना जाता है कि यहां आने वाले श्रद्धालुओं को लामा द्रुप्तोब कार्पो का आशीर्वाद मिलता है। लामा द्रुप्तोब यहां के लोकजीवन में आस्था के एक गहरे प्रतीक के रूप में रचे-बसे हैं। हर साल जनवरी के आसपास यहां छाम नृत्य का उत्सव आयोजित किया जाता है। यह उत्सव दो दिन तक धूमधाम से मनाया जाता है। व्हाइट हॉल के पास पूरे वर्ष फूलों की प्रदर्शनी भी लगाई जाती है। फूलों वाली विभिन्न जड़ी-बूटियों की एक प्रदर्शनी यहां वसंत ऋतु में भी आयोजित की जाती है, जो बेहद लोकप्रिय हो चुकी है।

बौद्ध अध्ययन का केंद्र

बौद्ध अध्ययन का केंद्र

गंगटोक में ही स्थित नामग्याल इंस्टीट्यूट ऑफ टिबेटोलॉजी (एनआईटी) नाम का बौद्ध संस्थान दुर्लभ लेपचा, तिब्बती व संस्कृत पांडुलिपियों, मूर्तियों, थंका, कर्मकांड और पूजन विधि में प्रयोग आने वाले कपड़ों (टेपेस्ट्रीज) आदि दो सौ से अधिक बहुमूल्य वस्तुओं तथा कलाकृतियों का खजाना है। धार्मिक और ऐतिहासिक दोनों ही दृष्टियों से महत्वपूर्ण यह संस्थान आज पूरे विश्व के लिए बौद्ध दर्शन तथा धर्म का अध्ययन केंद्र बना हुआ है।

छोग्याल पाल्डेन थोंडुप नामग्याल की स्मृति में यहां एक पार्क बना हुआ है। छोग्याल अर्थात राजा। नामग्याल वंश के 17वें तथा धार्मिक कार्यो के लिए पवित्रीकरण संस्कार प्राप्त 12वें राजा पाल्डेन थोंडुप की आर्थिक और सामाजिक सुधारों में शुरू से गहरी आस्था थी। राजा पाल्डेन आधुनिक शासन प्रणाली के समर्थक थे। इनके शासनकाल में ही सिक्किम में आधारभूत सुविधाओं की नींव रखी गई। सीमित संसाधनों के बावजूद उन्होंने स्कूल, सड़कें, चिकित्सालय आदि बनाने, पेयजल उपलब्ध कराने, यातायात हेतु सिक्किम राष्ट्रीयकृत ट्रांसपोर्ट, हाइड्रो-इलेक्टि्रक पॉवर स्कीम तथा ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के लिए अन्य योजनाएं चलाने के लिए भी लगातार सहायता दी। 1982 में इनका देहांत हुआ। अंत तक वह बौद्धिक सोसाइटी ऑफ इंडिया के अध्यक्ष रहे। Dalhousie Dharamshala Amritsar Tour

पवित्र छांगू झील

पवित्र छांगू झील

छांगू लेक, जिसे स्थानीय लोग छो गो लेक कहते हैं, गंगटोक से 40 किलोमीटर दूर है। समुद्रतल से 3780 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यह अंडाकार झील एक किलोमीटर लंबी और 15 मीटर गहरी है। स्थानीय लोगों की मान्यताओं के अनुसार यह एक पवित्र स्थान है। शीतकाल में यह जमी रहती है। मई से अगस्त के बीच इसके चारों ओर फैली पर्वतश्रृंखला व घाटियों में विभिन्न प्रकार के फूल खिले होते हैं। यहां खिलने वाले फूलों में रोडोडेंड्रोन, कई प्रकार के प्रिमुला, नीले और पीले पॉपीज, आइरिस आदि प्रमुख हैं। लाल पांडा तथा कई प्रजातियों के पक्षियों का यह पसंदीदा स्थान है।

इसी दिशा में गंगटोक से 56 किलोमीटर दूर समुद्रतल से 14200 फुट की ऊंचाई पर स्थित नाथू ला है। ला अर्था पास या एक पहाड़ को लांघकर दूसरी ओर जाने का रास्ता। नाथू ला भारत-चीन (तिब्बत का पठार) सीमा पर स्थित है। यहां जाने के लिए पंजीकृत ट्रेवल एजेंसी के माध्यम से सिक्किम पर्यटन विभाग से परमिट लेनी पड़ती है। नाथू ला की ओर जाने की परमिट केवल भारतीय नागरिक ही पा सकते हैं। पहाड़ी क्षेत्रों में पाई जाने वाली जड़ी-बूटियां और पेड़-पौधे देखने के शौकीन लोगों के लिए इसी क्षेत्र में स्थित सरमसा गार्डन और जवाहरलाल नेहरू बोटेनिकल गार्डन दर्शनीय हैं। जबकि वन्य जीवन में रुचि लेने वालों के लिए हिमालयन जूलोजिकल पार्क तथा फेम्बोंग लो वाइल्ड लाइफ सैंक्चुअरी दिलचस्प जगहें हो सकती हैं। इनके अलावा दो द्रुल छोरटेन, रुमटेक धर्म चक्र केंद्र, पाल जुरमांग कागयुद मॉनेस्ट्री, वाटर गार्डन, बाबा हरभजन सिंह मेमोरियल, ताशी व्यू प्वाइंट, गोन्जांग मॉनेस्ट्री, गणेश टोंक, हनुमान टोंक, नोर छो सुक तथा अरितार यहां के अन्य दर्शनीय स्थल हैं। Shimla Manali Tour Packages

पवित्र छांगू झील

सिक्किम में जहां मिट जाते हैं पाप

पश्चिमी सिक्किम में पेमायांगसे मॉनेस्ट्री सबसे प्राचीन बौद्ध मठों में से एक है। राज्य की पहली राजधानी युकसम यहीं है। तीन विद्वान लामाओं द्वारा सन् 1641 में सिक्किम राज्य के प्रथम छोग्याल (राजा) का पवित्रीकरण संस्कार यहीं किया गया था। इसका प्रमाण नोरबूगांग छोरटेन में आज भी मौजूद है, जहां पत्थरों के सिंहासन और एक पत्थर पर मुख्य लामा के पैर की छाप देखी जा सकती है। वस्तुत: इस राज्य का इतिहास यहीं से शुरू होता है। स्थानीय लोग इस क्षेत्र को अत्यंत पवित्र मानते हैं। जोंगरी-जेमाथांग तथा कंचनजंगा बेस कैंप के लिए ट्रेकिंग कार्यक्रम भी युकसम से ही शुरू होते हैं। युकसम के बाद कुछ ही दूरी पर स्थित राबडेंसे राज्य की दूसरी राजधानी बनी थी। यहां अब केवल खंडहर शेष हैं। सन् 1814 तक यहीं से राजा ने राज्य का संचालन किया।

ताशीडिंग मॉनेस्ट्री हृदय के आकार की पहाड़ी पर बनाई गई है, जिसके पीछे पवित्र कंचनजंगा पर्वत है। बौद्ध धर्मग्रंथों के अनुसार 8वीं शताब्दी में गुरु पद्मसंभाव, जिन्हें गुरु रिम्पूछे भी कहा जाता है, ने इस स्थान से ही सिक्किम की पवित्र भूमि को आशीर्वाद दिया था। ऐसा माना जाता है कि आज भी यहां आने वालों को गुरु रिम्पूछे का आशीर्वाद प्राप्त होता है। लेपचा समुदाय की बहुलता वाली इस घाटी में स्थित पवित्र गुरु इहेदू में गुरु रिम्पूछे के पैरों और हाथों के चिन्ह अभी भी सुरक्षित हैं। ताशीडिंग पवित्र छोरटेन (स्तूप) ‘थोंग वा रांग डोल’ के लिए भी प्रसिद्ध है। इसका अर्थ है देखने भर से जीवनरक्षा करने वाला। ऐसा विश्वास है कि इस स्तूप को देखने मात्र से श्रद्धालु के सभी पाप मिट जाते हैं। प्रतिवर्ष पवित्र जल उत्सव भी केवल यहीं होता है, जब यहां का जल दूर और पास से आए श्रद्धालुओं को दिया जाता है। यहां पेलिंग, सांगा-छोलिंग मोनास्ट्री, सिंगशोर ब्रिज उट्टारे, कंचनजंगा वाटर फॉल, खेद्दोपालरी लेक, दुबकी मोनास्ट्री, रंगित वाटर व‌र्ल्ड, कोगरी लाबडांग, बारसे, सोरेंग, रिनछेंगपोंग कालुक, ही बुरीमयोक तथा डेंटाम आदि भी दर्शनीय हैं। Himachal Travel Package

पवित्र छांगू झील

सिक्किम में यही आकर्षण का मुख्य केंद्र

संधि भाईचारे की उत्तरी सिक्किम में जेमू ग्लेशियर से निकलने वाली तीस्ता नदी राज्य का गौरव बढ़ाती है। व्हाइट वाटर राफ्टिंग और कयाकिंग आदि वाटर स्पो‌र्ट्स के शौकीन लोगों के लिए सिक्किम में यही आकर्षण का मुख्य केंद्र है। मई-जून में यहां साहसिक पर्यटन के शौकीन लोगों की खासी भीड़ जुटी होती है। भारत ही नहीं, दुनिया के अन्य देशों से भी लोग यहां रोमांचक खेलों का मजा लेने तथा प्रकृति की सुंदरता को निहारने के लिए आते हैं।

अगर आप वन्य प्राणियों के जीवन में रुचि लेते हैं तो उत्तरी सिक्किम में ही स्थित कंचनजंगा नेशनल पार्क बहुत मुफीद जगह है। 850 वर्ग किलोमीटर में फैले इस वन्य जीव अभ्यारण्य को बायोस्फीयर रिजर्व के नाम से भी जानते हैं। यहां तमाम दुर्लभ प्रजातियों के कई जीव स्वच्छंद विचरण करते हैं। इसके क्षेत्र में कई ग्लेशियर भी हैं, जिनमें जेमू ग्लेशियर सबसे लंबा और नयनाभिराम है। चिडि़यों की यहां कुल 550 प्रजातियां पाई जाती हैं। इनमें ब्लड फेजेंट, सेटायर ट्रैगोपन, ऑस्प्रे,

हिमालयन ग्रिफॉन, लैमर्जियर, बर्फीला कबूतर, इंपेयन फेजेंट, सन ब‌र्ड्स और गरुड़ शामिल हैं। जंगली पशुओं में यहां क्लाउडेड लेपर्ड, हिमालय क्षेत्र में पाया जाने वाला काला भालू, लाल पांडा, ब्लू शीप, कस्तूरी हिरन, हिमालयन थार, लेसर बिल्लियां, तिब्बती भेडि़ये और भेड़ आदि भारी मात्रा में देखे जा सकते हैं। कंचनजंगा का शाब्दिक अर्थ है देवताओं का ऐसा आवास जिसमें पांच घर हों। कंचनजंगा के पांच घरों के रूप में नरशिंग, पंदिम, सिम्वो, कब्रू और सिनिओल्चू नामक पर्वतशिखरों की गिनती की जाती है। इनमें पंदिम, नरशिंग और सिनिओल्चू इसी पार्क के क्षेत्र में ही हैं। दुनिया भर से तमाम प्रकृतिप्रेमी पर्यटक तो इन पर्वतशिखरों को ही देखने के लिए इस अभ्यारण्य में आते हैं।
उत्तरी सिक्किम में ही एक ऐतिहासिक स्थान है काबीलंगचोक। सिक्किम के इतिहास में यह जगह अत्यंत महत्वपूर्ण है, क्योंकि यहां लेपचा जाति के मुखिया ते कुंग तेक तथा भुटिया जाति के मुखिया खे बुम सा के बीच आपसी भाईचारे की संधि हुई थी। घने जंगल के बीच जिस स्थान पर यह संधि हुई थी वहां पत्थर के स्तंभ के रूप में एक स्मारक भी बनाया गया है। इसके अतिरिक्त यहां फेनसांग मॉनेस्ट्री, फोडोंग मॉनेस्ट्री, सिंघिक, छुंगथांग, लाछुंग, युमथांग, लाछेन मॉनेस्ट्री, थांगु एवं गुरु डोंगमार लेक भी दर्शनीय स्थल हैं। Manali Dharamshala Tour Package

आकाश जितना ऊंचा सिक्किम हमारा 

पर्यटन की दृष्टि से इन तीन क्षेत्रों के बाद बारी आती है दक्षिणी सिक्किम की। गंगटोक से 78 किलोमीटर दूर है नामची। इसका अर्थ है आकाश जितना ऊंचा। यहां से बर्फ से ढके पहाड़ तथा दूर तक फैली घाटी के दृश्य देखे जा सकते हैं। नामची दक्षिण सिक्किम का जिला मुख्यालय भी है। पर्यटन सुविधाओं के मामले में अब इसका तेजी से विकास हो रहा है। हर साल फरवरी में यहां फूलों का त्योहार मनाया जाता है। नामची से साढ़े तीन किलोमीटर की दूरी पर हाल ही में राज्य सरकार ने गुरु पद्मसंभाव की 135 फुट ऊंची मूर्ति स्थापित की है। यह मूर्ति मिश्रित धातु से बनाई गई है, जिसमें कीमती पत्थर जड़े गए हैं।

टेंडोंग हिल 8530 फुट की ऊंचाई पर स्थित एक छोटा सा स्थान है, जहां घना हरा प्राचीन जंगल है। यह स्थल बौद्ध लामाओं की तपोभूमि रही है जहां वे वर्षो तक शांत वातावरण में रहकर ध्यान लगाते आए हैं। कहा जाता है कि किसी युग में हुई प्रलयंकारी वर्षा के दौरान इसी स्थान पर लेपचा जाति के लोगों को संरक्षण मिला था। आज भी लेपचा लोग इस स्थान को पूजते हैं।

पवित्र छांगू झील

सिक्किम एक साहसिक पर्यटन का गढ़

समुद्रतट से 10300 फुट की ऊंचाई पर स्थित मीनम हिल से कंचनजंगा और अन्य पर्वत श्रृंखलाओं, दक्षिण बंगाल के कलिम्पोंग और दार्जिलिंग तथा उत्तर में भारत-चीन सीमा को देखा जा सकता है। नरसिंह तथा पाकिलु पर्वतों के आधार से आने वाली रंगित नदी दक्षिण सिक्किम से बहती हुई तीस्ता नदी में मिलती है। इन दोनों ही नदियों के तटों पर मौजूद मनोरम दृश्य बरबस ही सबका मन मोह लेते हैं। टेमी टी गार्डन, रावांगला, बोरोंग, सिंगछुथांग सिक्किम तथा फुर सा छू अन्य देखने योग्य स्थान हैं। Shimla to Manali via Kinnaur Tour Packages

साहसिक पर्यटन के शौकीन लोगों के बीच सिक्किम बेहद लोकप्रिय है। यहां ट्रेकिंग और राफ्टिंग के कई अड्डे हैं। कई पर्यटक स्थलों से एक-दो दिन के लिए ट्रेकिंग पर जाना आम बात है। इसके अलावा यहां सुनियोजित ढंग से लंबे ट्रेकिंग प्रोग्राम भी आयोजित किए जाते हैं। ट्रेकिंग रूटों में मोनास्टिक ट्रेक, रोडोडेंड्रन ट्रेक, कंचनजंगा ट्रेक, कोरोनेशन ट्रेक, खेडी ट्रेक, सिंगालीला ट्रेक, कस्तूरी ओरार ट्रेक, सामरट्रेक, रिनछेनपोंग या सोरेंग ट्रेक और हिमालय ट्रेक प्रमुख हैं। अधिकतर ट्रेकिंग कार्यक्रम अप्रैल से जून तथा अक्टूबर से दिसंबर के बीच किए जाते हैं। रिवर राफ्टिंग के लिए अक्टूबर से दिसंबर का समय सबसे उपयुक्त है। तीस्ता तथा रंगित दोनों नदियों में रिवर राफ्टिंग होती है। कयाकिंग केवल तीस्ता में ही होती है। सिक्किम में याक सफारी का भी आनंद लिया जा सकता है।

पवित्र छांगू झील

 

सिक्किम का खानपान तिब्बत जैसा

सिक्किम और तिब्बत के खान-पान में बड़ी समानता है। चिकन मोमो, पोर्क मोमो, शाकाहारी और पनीर मोमो, थुकपा (सूप या तरीदार सब्जी की तरह खाया जाने वाला), टी मोमो व शाभाले यहां के प्रमुख एवं विशेष व्यंजन हैं। वैसे तो गंगटोक के रेस्टोरेंट्स में तो भारत के हर प्रांत का भोजन मिल जाता है, लेकिन यहां आने के बाद स्थानीय व्यंजनों का स्वाद लेने का भी अपना अलग आनंद है। इनमें थुकपा वेज और नॉन वेज दोनों प्रकार का बनता है। टी मोमो स्टीम ब्रेड की तरह बनाई जाती है। मैदे में खमीर मिलाकर और गर्म पानी से गूंदकर इसे तैयार किया जाता है। शाभाले नामक रोटी में मीट भरा जाता है और पूरी की तरह तलकर इसे तैयार किया जाता है।

सिक्किम की यात्रा पर एक नजर

सिक्किम कैसे पहुंचें

पृथ्वी की भौगोलिक असमानताओं में बिखरे प्राकृतिक सौंदर्य का अद्वितीय पक्ष सिक्किम राज्य सड़क, रेल तथा हवाई मार्गो के जरिये देश के विभिन्न महानगरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। उत्तरी बंगाल में बागडोगरा हवाई अड्डा राजधानी गंगटोक के सबसे समीप है। हवाई अड्डे से 124 किलोमीटर की दूरी सड़क मार्ग से लगभग चार घंटों में तय हो जाती है। बागडोगरा विमान पत्तन कोलकाता, गुवाहाटी और नई दिल्ली से इंडियन एयरलाइंस और दूसरी एयरलाइनों की उड़ानों से जुड़ा हुआ है। सिक्किम पर्यटन विभाग का पांच सीटों वाला हेलीकॉप्टर बागडोगरा और गंगटोक के बीच प्रतिदिन हवाई सेवा प्रदान करता है। रेलमार्ग पर सबसे समीप दो स्टेशन सिलीगुड़ी तथा न्यू जलपाईगुड़ी हैं। गंगटोक से इनकी दूरी क्रमश: 114 व 125 किलोमीटर है।

सिक्किम की यात्रा करने के लिए परमिट की जरूरत

सीमांत प्रदेश होने के कारण विदेशी नागरिकों को यहां आने के लिए इनर लाइन परमिट (आईएलपी) लेना होता है। यह परमिट उन्हें भारत में प्रवेश हेतु मिले वीजा के आधार पर मिल जाता है। भारतीय दूतावासों तथा देश में पर्यटन कार्यालयों से या सिक्किम पहुंच कर भी यह परमिट प्राप्त किया जा सकता है, जिसकी अवधि 15 दिन होती है। यह अवधि बढ़वाई भी जा सकती है।

पवित्र छांगू झील

सिक्किम के होटल एवं लॉज

पूर्वी सिक्किम में अकेले गंगटोक और उसके आसपास ही सौ से अधिक होटल, चालीस से अधिक लॉज तथा पांच सरकारी होटल एवं लॉज हैं। निजी क्षेत्र में अनोला, ब्लू स्काई, सेंट्रल होटल, डोमा, ग्रीन, हिल व्यू, काबुर, ल्हाकपा, मेलोंग, नोरबू घांग, ओबेरॉय, रेड रूबी, पालीखल, सैंफेल, सोनम, त्रिशूल, वीनस बुडलैंड, युमथांग आदि अच्छे होटल तथा मानसारी, कामेलिया, सनशाइन, नाहन आदि सुंदर लॉज है। सरकारी क्षेत्र में ब्लू शीप रेस्टोरेंट, माउंट जोपुनो, माउंट पंडिम, सिनियोल्छु तथा टूरिस्ट सेंटर आदि प्रमुख होटल एवं लॉज हैं।
इसी तरह पश्चिमी सिक्किम में आंचल, बिनटाम, डेमाजोंग, ग्रीन वैली, सोरेंग, कंचनजंगा, नोरबूगांग रिजॉर्ट, ताशी गांग अच्छे होटल हैं। उत्तर में डाबला इन, कान्डेन, न्यू नॉथ वे, प्रिमुला लॉज, सोनम, टोगा व याक एंड यति तथा दक्षिण में बेबिला फ्लोरोडा, हॉली डे, माउंट नरसिंह, संजीवनी, जोंगरी आदि दक्षिण में अच्छे होटल एवं लॉज हैं।

सिक्किम मौसम एवं तापमान

ग्रीष्म ऋतु में गंगटोक का तापमान अधिकतम 21 डिग्री तथा न्यूनतम 13 डिग्री सेंटीग्रेड होता है तथा शरद ऋतु में अधिकतम 13 डिग्री तथा न्यूनतम 05.3 डिग्री सेंटीग्रेड। विश्व में सबसे अधिक वर्षा चेरापूंजी में होती है। यह स्थान सिक्किम से अधिक दूर नहीं है। अत: राज्य में भ्रमण के लिए सबसे उत्तम समय मार्च से जून तक तथा अक्टूबर से दिसंबर तक है। गंगटोक में प्रतिवर्ष औसतन वर्षा 3894 मिलीमीटर होती है। 15 साल के अंतराल के बाद गत फरवरी मास में यहां बर्फबारी हुई है।

गंगटोक का सफर एवं दर्शनीय स्थल

यहां देखने लायक कई स्थान हैं जैसे, गणेश टोक, हनुमान टोक तथा ताशि व्यू प्वांइट। अगर आप गंगटोक घूमने का पूरा लुफ्त उठाना चाहते हैं तो इस शहर को पैदल घूमें।…

यहां देखने लायक कई स्थान हैं जैसे, गणेश टोक, हनुमान टोक तथा ताशि व्यू प्वांइट। अगर आप गंगटोक घूमने का पूरा लुफ्त उठाना चाहते हैं तो इस शहर को पैदल घूमें। यहां से कंचनजंघा का नजारा बहुत ही आकर्षक प्रतीत होता है। इसे देखने पर ऐसा लगता है मानो यह पर्वत आकाश से सटा हुआ है तथा हर पल अपना रंग बदल रहा है।

अगर आपकी बौद्ध धर्म में रुचि है तो आपको इंस्टीट्यूट ऑफ तिब्बतोलॉजी जरुर घूमना चाहिए। यहां बौद्ध धर्म से संबंधित अमूल्य प्राचीन अवशेष तथा धर्मग्रन्थ रखे हुए हैं। यहां अलग से तिब्बती भाषा, संस्कृति, दर्शन तथा साहित्य की शिक्षा दी जाती है। इन सबके अलावा आप प्राचीन कलाकृतियों के लिए पुराने बाजार, लाल बाजार या नया बाजार भी घूम सकते हैं।

सोमगो झील

गंगटोक से 40 किलोमीटर की दूरी पर यह झील स्थित है। यह झील चारों ओर से बर्फीली पहाडियों से घिरा हुआ है। झील एक किलोमीटर लंबा तथा 50 फीट गहरा है। यह अप्रैल महीने में पूरी तरह बर्फ में तब्दील हो जाता है। सुरक्षा कारणों से इस झील को एक घंटे से अधिक देर तक नहीं घूमा जा सकता है। जाड़े के समय में इस झील में प्रवास के लिए बहुत से विदेशी पक्षी आते हैं। इस झील से आगे केवल एक सड़क जाती है। यही सड़क आगे नाथूला दर्रे तक जाती है। यह सड़क आम लोगों के लिए खुला नहीं है। लेकिन सेना की अनुमति लेकर यहां तक जाया जा सकता है। Best of Himachal Tour

रूमटेक मठ

रुमटेक घूमे बिना गंगटोक का सफर अधूरा माना जाता है। यह मठ गंगटोक से 24 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह मठ 300 वर्ष पुराना है। रुमटेक सिक्किम का सबसे पुराना मठ है। 1960 के दशक में इस मठ का पुननिर्माण किया गया था। इस मठ में एक विद्यालय तथा ध्यान साधना के लिए एक अलग खण्ड है। इस मठ में बहुमूल्य थंगा पेंटिग तथा बौद्ध धर्म के कग्यूपा संप्रदाय से संबंधित वस्तुएं सुरक्षित अवस्था में है। इस मठ में सुबह में बौद्ध भिक्षुओं द्वारा की जाने वाली प्रार्थना बहुत कर्णप्रिय होती है।

दो द्रूल चोर्टेन

दो द्रूल चोर्टेन

यह गंगटोक के प्रमुख आकर्षणों में एक है। इसे सिक्किम का सबसे महत्वपूर्ण स्तूप माना जाता है। इसकी स्थापना त्रुलुसी रिमपोचे ने 1945 ई. में की थी। त्रुलुसी तिब्बतियन बौद्ध धर्म के नियंगमा सम्प्रदाय के प्रमुख थे। इस मठ का शिखर सोने का बना हुआ है। इस मठ में 108 प्रार्थना चक्र है। इस मठ में गुरु रिमपोचे की दो प्रतिमाएं स्थापित है।

इनहेंची मठ

इनहेंची का शाब्दिक अर्थ होता है निर्जन। जिस समय इस मठ का निर्माण हो रहा था। उस समय इस पूरे क्षेत्र में सिर्फ यही एक भवन था। इस मठ का मुख्य आकर्षण जनवरी महीने में यहां होने वाला विशेष नृत्य है। इस नृत्य को चाम कहा जाता है। मूल रुप से इस मठ की स्थापना 200 वर्ष पहले हुई थी। वर्तमान में जो मठ है वह 1909 ई. में बना था। यह मठ द्रुपटोब कारपो को समर्पित है। कारपो को जादुई शक्ति के लिए याद किया जाता है।

ऑर्किड अभयारण्य

इस अभ्यारण्य में ऑर्किड का सुंदर संग्रह है। यहां सिक्किम में पाए जाने वाले 454 किस्म के ऑर्किडों को रखा गया है। प्राकृतिक सुंदरता को पसंद करने वाले व्यक्तियों को यह अवश्य देखना चाहिए।

ताशिलिंग

ताशिलिंग

ताशी लिंग मुख्य शहर से 6 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां से कंचनजंघा श्रेणी बहुत सुंदर दिखती है। यह मठ मुख्य रुप से एक पवित्र बर्तन बूमचू के लिए प्रसिद्ध है। कहा जाता है कि इस बर्तन में पवित्र जल रखा हुआ है। यह जल 300 वर्षों से इसमें रखा हुआ है और अभी तक नहीं सूखा है।

टिसुक ला खंग

यहां बौद्ध धर्म से संबंधित प्राचीन ग्रंथों का सुंदर संग्रह है। यहां का भवन भी काफी सुंदर है। इस भवन की दीवारों पर बुद्ध तथा संबंधित अन्य महत्वपूर्ण घटनाओं का प्रशंसनीय चित्र है। यह भवन आम लोगों और पर्यटकों के लिए लोसार पर्व के दौरान खोला जाता है। लोसार एक प्रमुख नृत्य त्योहार है।

आसपास दर्शनीय स्थान

पेलींग

पेलींग: यह स्थान गंगटोक के पश्चिम में 145 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां कुछ घर तथा अधिक संख्या में होटल हैं। यहां से कंचनजघां का अदभूत दृश्य दिखता है। यहां से पर्वत चोटी बहुत नजदीक लगती है। ऐसा लगता है मानो यह मेरे बगल में है और मैं इसे छू सकता हूं। यहां मौसम बहुत सुहावना होता है।

सांगो-चोलिंग

सांगो-चोलिंग: पिलींग से कुछ ही दूरी पर सिक्किम का दूसरा सबसे पुराना मठ सांगो-चोलिंग है। यह सिक्किम के महत्वपूर्ण मठों में से एक है। इस मठ में एक छोटा सा कब्रिस्तान भी है। इस मठ के दीवारों पर बहुत ही सुंदर चित्रकारी की गई है। पिलींग आने वाले को इस मठ को अवश्य घूमना चाहिए।

पेमायनस्ती मठ

पेमायनस्ती मठ: यह मठ पिलींग से थोड़ी देर की पैदल दूरी पर स्थित है। ग्यालसिंग से इसकी दूरी 6 किलोमीटर पड़ती है। यह सिक्किम का सबसे महत्वपूर्ण और प्रतिष्ठित मठ है। यहां बौद्ध धर्म की पढ़ाई भी होती है। यहां बौद्ध धर्म की प्राथमिक, सेकेण्डरी तथा उच्च शिक्षा प्रदान की जाती है। यहां 50 बिस्तरों का एक विश्राम गृह भी है। पर्यटक को भी यहां ठहरने की सुविधा प्रदान की जाती है। इस मठ में कई प्राचीन धर्मग्रन्थ तथा अमूल्य प्रतिमाएं सुरक्षित अवस्था में हैं। पेमायनस्ती मठ का विशेष आकर्षण यहां लगने वाला बौद्ध मेला है।

सुक-ला-खंग

सुक-ला-खंग: शाही पूजा स्थल, जो बौद्धों के लिए पूजा का मुख्य स्थान है। यह एक सुंदर और आकर्षक भवन है, यहां भगवान बुद्ध की प्रतिमाओं और लकड़ी पर नक्काशी के कार्य का बहुत बड़ा संग्रह है।

रमटेक मठ

रमटेक मठ: यह मठ गंगटोक से 24 किमी दूर है। यह ग्यालवा करमापा का स्थान है, जो तिब्बत में बौद्ध धर्म के कगयूपा अनुयायियों के प्रमुख हैं। यहां तिब्बती धर्म से संबंधित अनेक पेंटिंग्स प्रदर्शित हैं। धर्मालाप के सत्रों में यहां अनेक यात्री आते हैं। मंदिर के पीछे बौद्ध धर्म के अध्ययन केलिए स्थित संस्थान में मठवासी अध्ययन करते हैं।

एंचे गोम्पा: निगमापा शैली में बना यह मोहक गोम्पा शहर के मध्य से 3 किमी उत्तर पूर्व में स्थित है।

ऑर्किड गार्डन्स सेंचुरी

ऑर्किड गार्डन्स सेंचुरी: सिक्किम स्थित इस सेंचुरी में 450 दुर्लभ किस्म के ऑर्किड हैं। इनमें से कुछ सुंदर अन्य कहीं नहीं पाए जाते। यहां आने के लिए अप्रैल और मई का प्रारंभ और सितंबर से दिसंबर के बीच का समय सर्वश्रेष्ठ है। आप गंगटोक से 12 किमी दक्षिण में स्थित एक और उत्कृष्ट ऑर्किड सेंचुरी ऑर्किडेरियम भी देख सकते हैं।

गंगटोक कब जाएं

पुष्प प्रदर्शनी केंद्र:

पुष्प प्रदर्शनी केंद्र: सुंदर कलियों और फू लों को यहां खिलते-महकते देखा जा सकता है। पुष्प प्रदर्शनी केंद्र में आप प्रकृति के विविध रंगों के खूबसूरत नज़ारे का आनंद ले सकते हैं, यहां ऑर्किड और फूलों की अन्य प्रजातियों की किस्में देखी जा सकती हैं।

डुड्रल चोर्टन एवं गोम्पा

डुड्रल चोर्टन एवं गोम्पा: यह विशाल सफेद चोर्टन 108 प्रेयर-व्हील्स (जिन्हें दक्षिणावर्त दिशा में घुमाना चाहिए) से घिरा हुआ है।

डीयर पार्क

डीयर पार्क: बच्चे इस स्थान को अवश्य पसंद करेंगे। आप प्राकृतिकवातावरण में विभिन्न प्रकार के हिरणों को देख सकते हैं। यदि आप प्रात: 7.30 बजे से 8.00 बजे के आसपास पार्क में आएं तो आपको हिरण चरते हुए मिल जाएंगे।

गंगटोक कब जाएं

इस जगह पर घूमने के लिये पूरे साल तक वातावरण अच्छा रहता है।

गंगटोक कैसे पहुँचें

आप गंगटोक वायु, रेल या सड़क मार्ग के माध्यम से गंतव्य तक पहुंच सकते हैं।

For more information about visit: http://www.swantour.com/

15 Differences about Traveler and Tourist

 

We all want to travel ... Serious who is not !!!

We all want to travel … Serious who is not !!!

How fun it is to get out of our comfort zone, to get from one city to another, to experience new things, to experience the shocked culture, to see strange traditions and to taste tasting or yuki food, but there Is a thin line, no no one that distinguishes a traveler from a tourist who does not make better than the other, it’s just a matter of traveling style and the fact that a traveler learns and saves so much more. So let me say that: a tourist is a person who travels to visit a place of pleasure, detached from the hustle and bustle of her daily life, someone who goes to a travel agency, asking them to make all the necessary arrangements without To get too much details or to go the extra mile, but a traveler is someone who regards his / her journey as a trip, which he wants to make the most of, learning as much as possible, embracing adventures and Misadventures, like to work with the local people To experience their culture and taste their local cuisine. So here are 15 steps to be a traveler who is not a tourist.  Holiday Packages in India

Make a Saving box

A real traveler does not leave his / her travel plans in anticipation of circumstances or about what he has been able to save for a certain period because they store a box where they store a monthly amount to ensure that they have money when there is a chance Comes.

Do not save what is left after spending, but spend what’s left after saving. ~ Warren Buffet

Do Extensive Research Before You Travel

Do Extensive Research Before You Travel

How on earth can you see if the destination you’re aiming for is money and worth visiting or not, if you do not do decent research? The answer is research, research and research! Spend hours of research, reading blogs, books, articles, talking with friends who have already been in your chosen destination, asking questions on online forums. The worst feeling in the world is saving your savings on a bad trip, or a place that does not fit your personal preferences.

Don’t over-plan

It’s good to know, read, investigate and plan everything about your destination, but you have to leave some space for innovation, a chance to lose, thinking of the box, always remember it’s randomly cool , And if there is no risk there is no fun.

Bonus tip: I usually choose a few things that I really want to visit at my chosen destination, things I can not leave without experiencing or seeing, then leave room for arbitrary plans that get my way.  Luxury Tours in India

Not all the people who are lost are lost. ~ J. R. R. Tolkien

luxury tours

Make your own bookings online

It does not require internet savvy to make online bookings, the internet has left nothing that can not be bought online; Flights, hotels, car rental, travel packages are no exception. Not only do you save time, but also money and effort. If you are skeptical about how to book your flights online, here’s how.

Dare to be Different

Try to tell your friends: “Hey guys this year I plan to travel differently, I’m going to Mt. Kilimanjaro, walking the Amazon, and doing Gorilla trekking in Uganda” be ready for sarcasm, mentally called, attacked and To be judged by everyone but who cares? Let go, it’s your life, nobody else, dare to be different and to travel differently.
Please be a tourist who is not a tourist. Try new things, meet new people and look beyond what’s right for you. These are the keys to understanding this amazing world in which we live. ~ Andrew Zimmern

Go off the Beaten Path

Avoid tourist falls, places where tourists only go, but this does not mean you do not have to go to the Eiffel Tower in Paris or Big Ben in London, it’s just that they should not be the highlight of your trip, get a good map , Put on good hiking shoes, choose a random place, and go explore.

Do not go to where the path can lead, place instead of a path and leave a trail. ~ Ralph Waldo Emerson
Choose your travel companion carefully

You are a traveler, no tourist, you know what the purpose of your trip is, so you have to make the effort to choose the right travel companion. This selection is even more important than the trip itself, your travel companion can make or ruin the whole trip. Choose someone with common interests, so if you want to go hiking, do not choose a tapestry, if you want to see, please do not choose shopaholic, if you are more in the morning activities, do not choose a nightlife guru. Make a smart choice not to regret it later, you might miss your friend, hate the city / travel companions, and hate yourself to waste your money on an unpleasant trip.  Latest Holiday Offers

luxury tours

Choose your Travel Companion Carefully

You are a traveler, no tourist, you know what the purpose of your trip is, so you have to make the effort to choose the right travel companion. This selection is even more important than the trip itself, your travel companion can make or ruin the whole trip. Choose someone with common interests, so if you want to go hiking, do not choose a tapestry, if you want to see, please do not choose shopaholic, if you are more in the morning activities, do not choose a nightlife guru. Make a smart choice not to regret it later, you might miss your friend, hate the city / travel companions, and hate yourself to waste your money on an unpleasant trip.

Stop Earning Money if you’re Excuse Not to Travel

Travelers travel with what money they have, they know they can adjust with what amount they have, but tourists are waiting for too long because they want to stay in a at least 3 star hotel, in the city center and eat in town Most famous and Expensive restaurants. If you travel abroad, you do not have to pay a fortune. Who said traveling to another country or another continent? You can still travel locally to many destinations, especially we are lucky to stay in a country that has a wide selection of beaches, adrenaline pumps and fun activities.

Travel is never a matter of money but courage. ~ Paulo Coelho

luxury tours

Travel Out of Season

Only tourists travel during high season because they are unaware of how much they can save when they travel out of season, unnecessary to say the less busy it is, so a greater chance to enjoy.

Eat street food

Avoid fancy restaurants, big food chains, go locally instead, eat out of food stalls, try to try out foods you are not familiar with, whether it’s crocodile and zebra meat from Africa, snails and frog legs from France, insects in Asia Be original, you may have stomach ache, but you will not die that I promise. Not only do you have the full experience of local cuisine, but you also save a lot of money.

Go to local Places and Mix with Locals

There is no better way to experience a strange country than to go to local places, to relax with the locals and get acquainted with their traditions. Nobody else can give you better insight, or on the ground recommendations like them, they will also help you become a skilled traveler, so learn, grow, enjoy and save a lot more.

If you reject the food, the customs ignore, fear the religion and avoid the people, you could stay better at home. ~ James A. Michener

Learn few Words from the Local Language

Learn few Words from the Local Language

Speaks the language of a strange country! It has a “magnetic effect”. We are all excited when we come to a foreigner who is hard trying to speak our language, right? We see how much this person has tried to learn our language to communicate with locals of all levels of education, so we get the most help.  Luxury Train Tour in India

Use Public Transport

No limousines, no taxis, stay locally and use public transport, no matter what it is-metro, trams, buses, microbuses, ferries, bicycles, tuktuks, even on the back of an elephant. Not only is it cheaper, but much more exciting, and especially your perfect opportunity to meet the locals and come to their daily routine.

Pack Light

You do not really have to wear 3 coats, 2 dresses, 4 pair of jeans, 2 high heels, 3 ballerinas and 2 flip-flops. One of the main differences between tourists and travelers is that the latter make a checklist and carry only items that they need and will actually use. When it comes to packages minimalist, it’s not hard to find laundry services.

luxury tours

Avoid Luxury at All Times

Yes, it’s delicious, yes, it’s great to be pampered, unless it’s your honeymoon, a vacation where accommodation is the main highlight, or you do not want to travel several times a year, do not stay in hotels Or luxurious alternatives for multiple reasons; 1. You just sleep, 2. You can save a lot if you choose cheap alternatives, and 3. This is the part where things get exciting, adventures and misadventures happen-not always :).

Travel – it makes you speechless, then you turn into a storyteller. ~ Ibn Battuta. Now, do you see yourself as a tourist or a traveler? And if you are a tourist, do you want to convert to a traveler?

Travel Agents in India

Arts and Culture, Destinations, Lifestyles, Budget, Local Destinations, Local Food, Local Tourism, Local Travel, Untreated Road, Untreated Track, Online Booking, Tavel Savings Box, Good Budget, Tourist Traveler

For more information about India Tours visit: http://www.swantour.com/

Find Five Famous Toy Trains in India

Famous Toy Trains in India

Five Famous Toy Trains from India

There are five popular tourist trains (Toy trains) in India. All of these five tourist trains run on a narrow line that connects the hill station with a flat area. The main purpose of these trains is to carry tourists and not to the needs of the local people’s transport. Usually these trains take more time than usual driveway, so not much by the locals. The demand for these trains will take place during the tourist season or during the holiday season. Some of these trains do not have online booking facilities. Some are still taken by steam locomotives, which is the main attraction for more tourists. Click here find more details about Luxury Tours in India.

In addition to these five toy trains, there are only few trains going through beautiful places, but we cannot count them as tourist trains because they are used by everyone and they pass just a few tourist spots. Luxury Train Tours in India

These Trains have recorded in Many Indian Movies.

It’s very hard to tell which of these the best train is, but all these trains have their own attraction.
Kalka Shimla toy train.

Between Kalka (Code: KLK) Shimla (Code: SML)
Duration: 5 hours
Distance: 96 KM
Online booking: Yes (irctc )

This train runs between Kalka Station in Punjab and Shimla, the capital of Himachal. The train begins to climb uphill from the Kalka station and eventually reaches Shimla at an altitude of 2076 meters above sea level. This train passes 102 tunnels and 87 bridges. The longest tunnel of them is near Barog station. here find Shimla Manali Tour Packages

Darjeeling toy trains

Darjeeling Himalayan Railway

From NEW JALPAIGURI (Code: NJP) to Darjeeling (Code: DJ) in West Bengal State
Distance 88 KM
Duration: 7 hours
Online booking: Yes (irctc.)

The famous song Mere Sapno Ki Rani of the 1969 classic Aradhana film with Rajesh Khanna and Sharmila Tagore was shot with this toy train and its track on the side of the road. This train passes through the Ghum station, India’s highest station at an altitude of 7407 feet. The Darjeeling terminal is at an altitude of 6812 feet. Steam locomotives are used for the short-span Joy ride between Ghum and Darjeeling stations. get here and find Darjeeling Tour Packages, While crossing the road several times, you also cross the track and the train.

Matheran Toy Train

Matheran Toy Train

Runs between: Neral (Code: NRL) & Matheran (Code: MAE)
Distance 21 KM
Duration: 2 hours
Online booking: Yes (irctc)

This is the best weekend trip for Mumbai travelers and other tourists. This service is not available during rainy seasons. It connects Neral station (local station between Mumbai and Pune) to Matheran hill station at an altitude of 803 meters. The frequency of trains increases during the weekends.

 Niligiri Mountain Railway

Niligiri Mountain Railway

Between: METTUPALAYAM (Code MTP) & UDAGAMANDALAM (Code: UAM)
Distance: 46Km
Duration: 5 hours
Online booking: Yes (irctc)

Udagamandalam is known as Ooty and this train is also known as Ooty toy train. With 16 tunnels and 250 bridges, this train passes through Coonoor city famous for tea gardens. From a train station Mettupalayam to Coonoor, a steam engine pushes the train from behind. The first class compartment is connected to the front of the train, giving you a spectacular view of the track and the valley.

Kangra Valley Train

Kangra Valley Train

Runs between: Pathankot (Code: PTK) & Joginder Nagar (Code: JDNX)
Distance: 164 KM
Duration: 9 hours
Online booking: Yes (irctc)

This train passes through the Kangra Valley through tall bridges and tunnels. It takes more time to reach Joginder Nagar than the usual road trip. By the end of the trip you can see snow-covered mountains and rivers along the side of the train track. The trip was pleasant after Kangra Station.

Take a first-rate ticket from the counter (no online booking) at Pathankot and go to the opposite side of the platform. There will be a first class compartment in this train and you can easily find it. Take a right to enjoy the valleys and rivers along the side of the track. here find Kashmir Tour Packages at swantour.com its a leading travel agents in India.

Rich Packaging Tips for the India Monsoon Season

monsoon

Monsoons can be the best time to travel in many parts of India. In India, monsoons usually last from June to September ending in most parts of the country. This is when landscapes on their greenest and freshest roads are at their cleanest and when the weather is at its most pleasant temperature. With the end of the summer vacation in Indian schools, tourist attractions are less crowded and good bargains can be found while traveling

However, it may be very annoying if you do not have the right things when you travel during the moesson. Here is a list of things to be packed during the monsoon: Also Visit: Kerala Tour Packages

monsoon

Bag: Wear a lightweight waterproof bag to keep your things dry. It is also wise to purchase a plastic case for your phone, wallet and passport and ensure that the electronic goods are safely stored in your bag.

Clothes: Wear light cotton clothes or comfortable, partially synthetic clothing that can dry quickly when you get wet. Shorts or three-quarters pants are always better than full-length clothes, which are usually reduced in plasma or by splash. Avoid light colors that are sensitive to being colored. A jacket is a must-have item, especially if you plan to walk outside or walk a lot. A windscreen is useful for keeping you warm during the rain, one without lining is better than one because most parts of India are quite hot when it stops raining. If you plan to go to a hill station which is cooler and where it rains heavily, a warm lining jacket would also be useful. Also Visit: Kerala Holiday Package

monsoon

Umbrella: In general, to walk only around towns, an umbrella just works well to keep you relatively dry. Convenient folding umbrellas are easy to carry and do not take up much space. Umbrellas are quite cheap in India and it is best to buy one when you get there.

Shoes: Closed waterproof shoes are essential to keep your feet clean. High boots or even gum boots are good, but it can wear it warm. Avoid wearing open rubber slippers or sandals that only make your feet dirty. Wearing sneakers or canvas shoes is also a bad idea because they take a long time when they get wet.

Mosquito Repellant or Nets: The moesson draws a lot of mosquitoes and it’s best to prevent you being bitten, so you do not get sick. Mosquito-borne diseases such as malaria and dengue fever are very dangerous, especially during the monsoon. It is therefore important to protect mosquitoes using tropical antipyretic agents. If you can easily prepare, mosquitoes are also worth while sleeping.

kerala tour packages

Food and water: Food tends to rinse easily or get wet in the monsons, so it is worth to wear small, air tight containers for packing food. Water may also be infected this season, and it is safest to buy packaged water available throughout India. Also Visit: Holiday Packages in India

Mats or newspapers: If you plan to picnic during the road, it is useful to wear dry mats or plastic sheets to spread on wet surfaces. These can also be useful if you wait long for waiting or bus stations.

Sunblock: You can still make sunburn, so make sure you use sunscreen, even when it’s raining.

This is a list of things that are useful for traveling during the monsoon, but of course you can also have a wide range of other basic requirements that you need to handle. More tips on what you can pack on this package for the Indian Monsoon Season thread during the monsoon.

monsoon

For more information about India tour packages visit: http://www.swantour.com/

Bharatpur – Deeg – Dholpur To Rajasthan

Bharatpur In Rajasthan

Travel Information About Bharatpur In Rajasthan

Bharatpur is a city in the Indian state of Rajasthan. It was founded by Maharaja Suraj Mal in 1733. Located in the Brij region, Bharatpur was once an impregnable, well-planned and well-fortified city, and the capital of the Jats Kingdom ruled by Sinsinwar Maharajas. The royal house of Bharatpur has a history From the 11th century and claims their descent from the Yadavs. The trio of Bharatpur, Deeg and Dholpur played an important role in the history of Rajasthan. It is located 55 km west of the city of Agra (the city of Taj Mahal) and 35 km from Mathura. It is also the administrative headquarters of the Bharatpur district and the seat of the Bharatpur division of Rajasthan. The royal house of Bharatpur traces their history in the eleventh century AD. From this region are the most respected royal status in Rajasthan.

Bharatpur is also known as Lohagarh. Bharatpur is famous for its sweets that are well prepared here and there are a lot of shops here. There are more than 50 oil mills in Bharatpur because of the mustard grown in large quantities in the surrounding areas.

Bharatpur, with Deeg and Dholpur, occupies an important place in the history of Rajasthan. Being close to Uttar National Park keoladeo Pradesh, his lifestyle was heavily influenced by it. Another interesting aspect of this region is the dominance of the Jats as a dominant power. The Jats were active at the end of the 17th century and leaders such as Churaman and Badan Singh brought together the Jats to transform them into a formidable force. Suraj Mal, the son of Badan Singh and perhaps the greatest leader of this region, began working on the fort of Bharatpur in 1732. This fort, known as Lohagarh, or the Iron Fort, lasted Sixty years to build and is still the focal point of the city. This formidable fort shaped the history of Bharatpur – the British sat it, but after four months and great losses, they had to withdraw. This gave the rule an advantage against the British and Bharatpur became the first state to sign a treaty of “Permanent Equal Frindship” with the East India Company. This gave Bharatpur a chance to live in peace throughout the British period.

Baratpur is close to Delhi Jaipur and well connected to other major cities. Visited mainly for Keoladeo Ghana National Park, Bharatpur is a small but busy town. The fort is different from other Rajasthani forts. At one point, he was surrounded by a trench with very thick mud walls. Today, most of the fort is occupied by government offices and a museum. An interesting fact here is the lack of ostentation, it seems very discreet and functional, with no intricate sculptures, painted embellishments and other decorations. The fort museum has interesting sculptures, collected from various ancient sites and early Middle Ages in neighboring areas.

North and Mallah are two villages near Bharatpur where some rare archaeological finds dating from the 1st century were found. Click here find more information about Agra Bharatpur Tour Package

History of Bharatpur

 

History of Bharatpur

The history of Bharatpur has immediate correlations with the history of Rajasthan. The town was called Bharatpur after Bharata, a brother of Lord Rama, whose other brother Laxman is the family deity of the royal family of Bharatpur. The city and fort of Bharatpur were created by Maharaja Surajmal in the early 17th century. He established a state in the Braj region south of Delhi, with its capital at Deeg. Leaders such as Gokula, Raja Ram, Churaman and Badan Singh gathered all the Jats and cast them into a force to be taken into account. Maharaja Suraj Mal was the greatest rule of the state; It has made the state a formidable force in the region. During the British Raj, the state covered an area of ​​5,123 square kilometers and its leaders benefited from a salute of 17 firearms. The state joined the Dominion of India in 1947. It was merged with three neighboring princely states to form the “Matsya” Union, which in turn was merged with other adjacent territories to create the state Of Rajasthan.

Keoladeo National Park

 

Keoladeo National Park

Now declared World Heritage by UNESCO, the Maharajas duck hunting reserve is one of the main wintering areas for a large number of waterfowl in Afghanistan, Turkmenistan, China and Siberia . Some 364 species of birds, including the rare Siberian crane, have been recorded in the park. The name “Keoladeo” is derived from the name of an ancient Hindu temple dedicated to Lord Shiva in the central area of ​​the sanctuary, while the term “Ghana” of Hindi implies dense and thick areas of forest cover. He is best known for the Siberian crane. It was the only habitat of the Siberian crane in the world, other than Siberia. Now, over time, this threatened species has stopped reaching the park. Udaipur Mount Abu Package from Delhi

Places to see Ganga Mandir Bharatpur:Places to see Ganga Mandir Bharatpur:

Places to see Ganga Mandir Bharatpur:

Keoladeo National Park or Keoladeo Ghana National Park, formerly known as Bharatpur Bird Sanctuary in Rajasthan, India, is a famous avifauna sanctuary that sees (or has seen) thousands of rare birds and Highly threatened such as the Siberian crane, here during the winter season. It is known that over 230 species of birds have made the National Park their home. It is also a major tourist center with dozens of ornithologists arriving here in the winter season. It was declared a protected shrine in 1971.

Lohagarh Fort (Iron Fort) is located in Bharatpur in Rajasthan, India. It was built by the leaders of Bharatpur Jat. Maharaja Suraj Mal used all his power and wealth for a good cause, and built many forts and palaces throughout his kingdom, one of them being the Lohagarh Fort (iron fort), which was One of the strongest ever built in the history of India. The inaccessible Lohagarh fort could withstand the repeated attacks of the British forces led by Lord Lake in 1805, when they besieged for more than six weeks. After losing more than 3,000 soldiers, the British forces had to back down and compromise the Sovereign Bharatpur. On the two gates of the fort, one to the north is known as the Ashtdhaatu Gate (eight metal), while the one to the south is called the Chowburja Gate (four pillars).

It is very different from other forts in the state of Rajasthan, there is no flamboyance associated with the fort, but it generates an aura of strength and magnificence. The fort is surrounded by ditches that were previously filled with water to ward off enemy attacks. The sand walls were reinforced by sand battlements, so enemy weapons proved useless.

Some interesting monuments in the fort are Kishori Mahal, Mahal Khas and Kothi Khas. Moti Mahal and commute towers Rajasthan Tour Packages.

 

Explore Deeg in Bharatpur

Deeg Palace Located 34 km north of Bharatpur, Deegs is known for its palaces and gardens. The care and planning that went into Mughal Gardens was followed by the rules here. It is a small town where agriculture is the main object, but the tourist would like to visit condoms well maintained and landscaped.

Gopal Bhawan overlooking the Gopal Sagar, Nand Bhawan, Krishna Bhanwan and the ingeniously designed hydraulic facilities of the Keshav Bhawan are interesting here. Most of these palaces are rich in history and one can find strong reminders of the influence of Mughal.

 Dholpur In Rajasthan

Rich to Dholpur In Rajasthan

A fairly recent state that arrived around 1805, Dholpur is known throughout the country for its locally extracted sandstone. It is a stone of resistance that has been widely used in palaces but also in the buildings of New Delhi. Being closer to Agra, Dholpur has witnessed many important battles. Jhor, a village 16 km from Dholpur, was the site of the oldest Mughal garden in the subcontinent. Begun in 1527 by Babar, it was discovered in the late 1970s and there are still signs of complex planning that has entered these famous gardens.

Mach Kund, a lake surrounded by more than a hundred temples, is a kilometer away and only once a year lives for a pilgrimage. and Jodhpur Jaisalmer Tour Package at swan tours its a leading travel agents in India, since 1995.

The surrounding areas such as Bari, Damoh waterfull near Sarmathura. Talab-e-Shahi Lake and Kanpur Mahal, the Van Vihar Wildlife Sanctuary and the Ram Sagar Sanctuary offer interesting excursions. What appears as insignificant villages now, have a fascinating history. The proximity of the Mogul capital has left its place in all these areas – Mughal influence is very strong here.

Useful Travel Tips To Empower First-Time Travellers

India is all these things, and more. How can you arrange yourself? Start with our advice to start the eventual voyage: Travel to India for the first time!

Useful Travel Tips To Empower First-Time Travellers

1. Pick the Perfect Route in India

India packs a lot in a huge space, and you will never have time to see everything on one voyage. Think about what interests you, what you like to do and how much time you have, and adjust your trip accordingly. Be realistic about how much you can fit. Instead of trying the whole country, you can get more out of your trip if you concentrate on the south of the country or in the north. However, internal flights are plentiful and cheap so you can jump from north to south if you want a taste of both worlds. The travel section at the front of the travel guides from Swantour.com , its a leading travel agents in India. since 1995, to India can be a good help, but here are some possible routes to roll the ball.

The Classics India

The Classical Tours India

The Classics: The most popular India tour is the all-time classic Golden Triangle tours, When time is short, this is a great introduction to three of the best destinations in India, Delhi, Agra and Jaipur, and you can squeeze it in a week if you do not mind moving every few days. Begin in Delhi, with sights like Humayun’s Tomb and the Red Fort before striking Agra and taking the Taj Mahal, Agra Fort and Fatehpur Sikri. Then it’s up to Jaipur to explore the Pink City and Fort at Amber before returning to Delhi’s beautiful bazaars for a last shop before flying home. Same Day Agra Tour By Car here and more option about Golden triangle tours in India.

Mughal Magic in India

Religious Places in India

Religious Places in India

Religious Places: If the temples are where you are, you will find them everywhere, but in the north and in central India, you will be spoiled for choice. There is the Golden Temple in Amritsar, the erotic cut edifice of Khajuraho, Konark’s Rock-Carved Sun Temple, and cohorts of beautifully drawn Melk-White-Marble Jain temples in Rajasthan tours and Gujarat tours. Temples in the south are still again, with tower-high statue-covered gopuram towers; There are beautiful examples in Hampi, Madurai, Tiruchirappalli and Tiruvannamalai, and beautifully decorated temple caves in Ajanta and Ellora, and Elephanta Island near Mumbai.

Mughal Magic in India

Mughal Magic in India

Mughal Magic: Fans of Islamic Architecture will find some spectacular monuments in Delhi, home to the Red Fort, the mosques and minarets of the Qutb Minar complex and the tomb of Humuyan. In the neighborhood you can enjoy more gracious Mughal splendor in Fatehpur Sikri and Agra, home of the Taj Mahal, before discovering the fascinating collection of Mughal forts, including Jaisalmer, the vision on a desert fortress of the Arab Night. Click Here Find best option  Delhi Sightseeing Tour by Car.

Beaches and waterways

Beaches and Waterways in India

Beaches and waterways: Go south to enjoy the most beautiful beaches of India. Munch bhelpuri (puffed rice, noodles, green mango and a tasty sauce) on Mumbai’s Girgaum Chowpatty beach before heading south to the sand and the sun in Goa. Choose from the Goan beaches – Arambol, Vagator and Palolem are the best places – or try the black sandy beaches of Kovalam and Varkala in Kerala, as well as lesser-known golden sands in the north of the state. Kerala is also famous for its winding backwaters, where you can rent a houseboat or canoe and gently glide the world. Just as serene is the beautiful Dalmeer in Srinagar in Kashmir, where – depending on the security situation – you can watch the mountains from the walnut window mist of a traditional wooden houseboat. Best of Kerala Tour

Meeting Wildlife in India

Meeting Wildlife in India

Meeting Wildlife: Your best chance to spot a tiger are in Madhya Pradesh or Rajasthan National Parks, but there are national reserves throughout India where you can see wildlife as exotic as lions (Sasan Gir, Gujarat), wild Donkey Rann, Gujarat), unicornal rhinos (Assam) and wild elephants (Wayanad, Kerala), as well as abundant bird lovers (Bharatpur, Rajasthan). Not wild, but wild, are kitties through the desert of Jaisalmer, Rajasthan Wildlife Tour or Bikaner in Rajasthan.

Trekking & Mountains tours in India

Trekking & Mountains Tours in India

Trekking & Mountains: The north is a playground for adrenaline seekers, with virtually any outdoor activity imaginable in the Kullu Valley and the high reaches of Uttarkhand and Himachal Pradesh tours, from trekking to skiing and white water rafting. Shimla, the classic hill station, is a great place to start, as well as Manali, further north. Ideal hike is in September / October, after the monsoon. To take an adventure, turn off Manali for the epic two-day trip (possibly between mid-June and mid-September) to Leh Ladakh tours, whose tower-high mountain peaks cross through epic hiking trails. Rishikesh is another top spot for rafting and trekking, with a famous pilgrimage to four sacred mountain temples, and more treks await in mountainous Sikkim.

Spiritual tours in India

Spiritual Tours in India

Spiritual India: For religious joy, Varanasi rules the highest, with its ancient funeral habits where the Hindus pay their final reverence to the dead next to the sacred river Ganges. But you will encounter the spiritual side of India all over the country, especially in pilgrimages, such as Ajmer and Pushkar in Rajasthan, or the Sikh holy city of Amritsar in Punjab. If you want to become more involved, you will almost everywhere classes in meditation and yoga, from the suburbs of Delhi to the ashrams of Rishikesh. For Buddhist encounters, you focus on Tibetan-Buddhist centers such as Leh in Ladakh and McLeod Ganj (Dharamsala), the home of the Dalai Lama and the Tibetan government in captivity.

travel to India at Slow down

2. Slow Down in India

Many people try to pack too much when visiting India or holiday vacation in India. To get the most out of your trip, focus on a few places instead of trying as much as possible. Seeing a place slowly can be rewarding more than seeing many places, but not having time to appreciate one of them. Spend a few days in one place and you will less emphasize, get a better understanding of where you are, and more time to get to know the people you meet.

Escape the hustle and bustle in India

3. Escape The Hustle And Bustle In India

With over one billion inhabitants, many parts of India are definitely busy. The hustle and bustle can be fun, especially if there is a festival in the city, but it is easy to reach the saturation point. Fortunately, India has many peaceful retreats, so make a relaxing flight in your trip. To charge your batteries, spend a few days or weeks in a city followed by a few days or weeks in the countryside or in a small city. For inner (and outer) peace, head south to Kerala’s backwaters and beaches, or to India’s fascinating hill stations or the Tibetan influenced Himalayan valleys in Ladakh, Sikkim tours and Himachal Pradesh.

Stay healthy in India

4. Stay Healthy Vacation in India

Nobody wants to get sick, especially if you’re on a shorter trip, so you pay steps to avoid a dodgy inch. Never drink tap water, and turn off the food that may have washed it. Precaution, avoid ice cream, ice cream, and salads and fruit that you have not peeled. Have your stomach acclimatized for a couple of days to launch in a street party, and when you buy street food, do a mental assessment of the standards of cleanliness. Are the owners prepared fresh or have they been there for a while? Is the stool busy with many customers or just attracting flies?

Many travelers go vegetarian while in India, and it’s not a bad idea, as a dodgy piece of meat will hurt you much more than undergone vegetables. Plus, many Indians are vegetarian, so the country is perhaps the world’s most amazing choice of vegetarian food. If you eat meat, make sure it is well cooked and stay at the stalls and restaurants that are full of locals (the best barometer for hygienic standards).

If you’re on the road, you may find that you need less than sanitary toilets, but they do not have to have health risks. Toilet paper is rarely provided, but the left and right pitcher method chosen by many locals can be good if you wear soap so you can wash your hands afterwards. Anti-bacterial wipes and anti-bacterial gel are also handy to clean in your daybag for a last minute before eating with your fingers.

Keep cool in India

5. Keep Cool  Holiday in India

In addition to its beauty and wonder, India has a frequently earned reputation for touts, scams and other fuss. There are ways to reduce the chances of overload or fraud, but you will have a few meetings with scammers on your journey. So keep your mind on yourself and remember that offers that seem too good to be true are usually. Be especially careful with taxi drivers and riders driving insistence that you go to specific hotels, shops or travel agencies – the costs of their commission will be added to your account.

The only important advice for every India first timer is to stay calm no matter what. Frustrations are easy to cook in India, and being able to control them, take a deep breath and go further, it’s important to enjoy your time here. If you get stress about losing some money or scam, take a moment to consider how much you’ve really lost and whether it’s worth focusing on.

Go out now and claim your piece of the subcontinent!

Rich to the Wagah Border, Amritsar

Travel to the Wagah Border, Amritsar at Beautiful  Way

It was a hot sunny afternoon in Amritsar But that was not terrifying for the hundreds of people who were aiming at the Wagah Border to lower the flagship ceremony. And I was one of them. The ceremony is a daily military exercise, followed by the Border Security Force (BSF) and Pakistan Rangers, since 1959.

 

The rush was wicked, to say the least. It was almost as if the government decided to give away a daily visa to visit Pakistan. Two violent young ladies trying to force their way into one of the gates were removed by security personnel. They later got another lord, who was a retired army officer. “They are bloody rude!”, Muttered one of the girls. Then the lord said, almost defending the actions of the security personnel; “Do not talk like that. That’s their duty. “Fifteen minutes later, the same officer was expelled by security officials in exactly the same way, but one cannot really blame them. It’s not easy to manage crowds in such large numbers.

The crowd included elderly, foreign nationals, toddlers in tow and photography lovers, including myself who transported large cameras and did not cause them to drag them with the crowd. There was pushing, blunting the feet, pushing the gates open and what not! But in all this crazy, I did not even walk back a person or give up the hope to see the ceremony. As I walked with the crowd to the border, I wondered how so many people pulled to Wagah. Love for the country, patriotism, curiosity or sensation? I really do not know what it is or maybe it’s all these reasons. But for me the reason was fascination. Fascination to see exactly what is going on at the border, fascination to see how it is across the border, to see “those” people, to see the other side of us.

 

Benazir Bhutto once said, “There is a little India in every Pakistani and a little Pakistan in every Indian.” And this is exactly why I call Pakistan on the other side of us. What are India and Paksitan? One country was separated years ago on paper and by geographical boundaries, but perhaps not in the mind. And so much in common between the two sides: culture, language, food, music, cricket and the passion that they love and hate Each other it’s almost impossible to solve them. Almost like the current, unlikely possibility that the two countries reach agreement on peaceful living together.

From Bollywood songs like ‘Chak de India’ and ‘Suno gaur’s duniya walon’ play on the background of shouts of ‘Bharat Mata ki Jai’ and ‘Hindustan Zindabad’; Seeing people who are on the other side and wondering what’s going to happen in their minds and hearts, to the powerful show that is being set up by the BSF and Pakistan Rangers. The experience in Wagah is undoubtedly engaging. But for me, the cherry on the cake was the moment that the flags of both India and Pakistan were reduced to diagonal unison. It’s a beautiful face indeed, a face that generates the hope. So after our very short and conscious visit to Amritsar, it was back to Delhi on the overnight train.

If you want to Golden triangle Tour packages, Delhi Agra Jai Pur with Amritsar Wagah Border Tour Packages to connect with swantour.com it’s a leading tour agent in India, Since 1995.

खूबसूरत ताजमहल की दिलचस्प सच्‍चाई

ताजमहल

खूबसूरत ताजमहल की दिलचस्प सच्‍चाई

वाकई में ताजमहल; जो हमारे दिलो ही नहीं दुनिया के कोने कोनो पर प्‍यार की मिसाल माना जाने वाला दुनिया का अजूबा है और हम भारत वाशियो का गौरव भी है। इस अद्धुत स्‍मारक को सफेद संगमरमर से शाहजहां द्वारा उनकी बेगम मुमताज की याद में बनवाया गया था।

हर कोई ताजमहल देखने की इच्‍छा रखता है क्‍योंकि इसे मोहब्‍बत का मंदिर माना जाता है। यमुना नदी के तट पर स्थित यह स्‍मारक एक विस्‍मरणीय स्‍थल है।

Same Day Agra Tour By Car

ताजमहल के बारे में आपको कई कहानियां और बातें सुनने को मिल जाएगी। ताजमहल के बारे में ऐसी ही कुछ निराली बातों को अब हम बताएंगे:

Taj Mahal, Agra

शाहजहां ने अपनी तीसरी बेगम मुमताज की याद में ताजमहल को बनवाने का निर्णय 1631 में लिया। मुमताज, बच्‍चे को जन्‍म देने के दौरान चल बसी थी। कहा जाता है कि शाहजहां कुछ ऐसा करना चाहते थे जो कभी किसी ने अपनी प्रियतमा के लिए न किया हों।

ताजमहल को बनाने की शुरूआत 1632 में हुई और इसे बनाने में 22 साल का समय लग गया। कुल 22000 कलाकारों और चित्रकारों ने काम किया और 1653 में इसे बनाकर तैयार कर दिया। उस समय ताजमहल को बनाने में 32 मिलियन का खर्च आया था।

Agra

ताजमहल के आर्किटेक्‍ट का नाम अहमद लाहौरी था। इसे बनाने में 1000 हाथियों को इस्‍तेमाल में लाया गया, जो पत्‍थर ढोने का काम करते थे

शाहजहां चाहते थे कि उनकी बेगम की याद में जो स्‍मारक बना है उसकी नकल कभी कोई न कर पाएं। इसलिए उन्‍होने कलाकारों के अंगूठों को कटवा दिया। लेकिन इसके बदले उन्‍होने भारी कीमत अदा की थी।

Agra - Jaipur

इस स्‍मारक में एक मुख्‍य हॉलनुमा स्‍थल है जिसके चारों चार गुम्‍बदें हैं। पूरा ताजमहल संगमरमर से ही निर्मित है। 17 हेक्‍टेयर में बना यह स्‍मारक, बेहद सुंदर है जिसकी संरचना मुस्लिम धर्म के वास्‍तु के हिसाब बनाई गई है। कहते हैं कि इसमें लगा हुआ संगमरमर, राजस्‍थान, चीन, अफगानिस्‍तान और तिब्‍बत से आया था। 28 तरह के बेशकीमती पत्‍थर इसमें जड़े हुए हैं।

ताजमहल में कई आयतों को लिखा गया है, जो कि अरबी भाषा में हैं। कैलीग्राफ का इस्‍तेमाल भी ताजमहल में देखने को मिलता है। अल्‍लाह के 99 विभिन्‍न नामों को ताजमहल में गुम्‍बद की ओर पत्‍थर पर उकेरा गया है।

जिस तरह सफेद संगमरमर का ताजमहल शाहजहां ने अपनी बेगम के लिए बनवाया था, वैसा ही ताजमहल वह अपने लिए काले संगमरमर का बनवाना चाहते थे, वो भी नदी के उस पार। लेकिन उनके बेटे ने उन्‍हे ऐसा करने से रोक दिया और न मानने पर उन्‍हे बंदी बना लिया।

ताजमहल का रंग, प्रदूषण और अन्‍य कारकों के चलते बदल सा गया है। सफेद से हल्‍का गुलाबी हो गया है। लेकिन ताजमहल के रंग पर चंद्रमा की रोशनी का प्रभाव भी पड़ता है, चंद्रमा की स्थिति के हिसाब से ताजमहल की रंगत बदलती रहती है। पूर्णिमा के दिन यह हल्‍का सुनहरा चमकता है।

ताजमहल को 1857 में एक हमले में थोड़ा नुकसान झेलना पड़ा। लेकिन लॉर्ड कर्जन ने इसे 1908 में दुबारा सही करवा दिया, क्‍योंकि तब तक इसे विश्‍व भर में ख्‍याति मिल चुकी थी।

कहा जाता है कि ताजमहल, भगवान शिव के मंदिर के स्‍थान पर बनवाया गया है, जिसे राजा परमार देव ने बनवाया था और इसका नाम तेजो महालया था। इस मंदिर पर मुगल शासकों ने कब्‍जा कर लिया था और उन्‍होने अपने ढंग से इसे बनवाया। यह बात अभी तक रहस्‍य ही बनी हुई है लेकिन ताजमहल, अब दुनिया के अजूबों में से एक है और यहां साल लाखों पर्यटक सैर करने आते हैं।

Top 10 Places To Visit In The World Before You Die - Taj Mahal: Timeless Wonder

ताजमहल के बारे में कुछ ऐसी रहस्यमयी बातें, जिनसे शायद आप जानते नहीं है |…

मुग़ल बादशाह शाहजहां एक ऐसा नाम, जिसने आने वाली कई पीढ़ियों को मोहब्बत करना सिखाया, लेकिन कुछ प्रेमियों ने उन्हें मोहब्बत का मज़ाक उड़ाने वाला भी कहा। शाहजहां स्वयं मुसलमान थे और उनकी प्रजा हिन्दू। उनकी प्रजा ने ऐसा साम्राज्य बनाया, जो लगभग पूरे भारत में फैला हुआ है। आईये जानें शाहजहां के ताजमहल से जुड़ी कुछ ऐसी दिलचस्प और रहस्यमयी बातें, जिन्हें बहुत ही कम लोग जानते हैं।

बात सन् 1631 की है, मुग़ल बादशाह शाहजहां हिन्दुस्तान की सरज़मीं पर अपनी बेग़म मुमताज़ महल की मृत्यु का मातम मना रहे थे और उस मातम में एक धड़कन उनकी पीछे छूटी मोहब्बत की भी थी, जिसे आने वाली पीढ़ियों के सामने वे मिसाल के रूप में देना चाहते थे। मोहब्बत के बाद यदि उनका दिल किसी चीज़ में लगता था, तो वो था आर्किटेक्चर। मुगल बादशाह होने के साथ-साथ वे आर्किटेक्चर की दुनिया के भी बादशाह थे। इमारतों के लिए उनका परफेक्शनिस्ट जुनून आजीवन बरकरार रहा।

मुगल बादशाह शाहजहां ने अपनी तमाम दौलत अपने उस ख़्वाब के नाम कर दी थी, जिसे हम ताजमहल के नाम से जानते हैं। शांत यमुना नदी के एकांत तट पर इस शानदार मकबरे की नींव डाली गयी थी। जिन हिन्दू कारीगरों पर शाहजहां राज करते थे, वे अपने पत्थर तराशने के हुनर के लिए बेहद मशहूर थे। उन कारीगरों ने कभी सोचा भी नहीं होगा, कि जिन पत्थरों को वे तराश रहे हैं, उन पत्थरों से निर्मित इमारत दुनिया भर के चुनिन्दा अजूबों में शामिल होगी। वे कारीगर जिस विश्वप्रसिद्ध इमारत का निर्माण करने में दिन-रात लगे हुए थे, उनकी मिसालें सिर्फ बीत चुकी और मौजूदा पीढ़ियों ने ही नहीं दी, बल्कि आने वाली पीढ़ियां भी देंगी। ताजमहल को बनाने का पैमाना इतना विशाल था, कि आगरा शहर की ज़मीन पर पूरा शहर उभर आया था। उस अनोखी इमारत के निर्माण में बीस साल तक बीस हज़ार मजदूर लगे रहते थे। एक बेग़म की कब्र के नाम से प्रसिद्ध इस इमारत के निर्माण में आज के समय के बीस करोड़ डॉलर से कहीं अधिक रुपये खर्च हुए थे (जैसा कि माना जाता है)। ताजमहल जैसी खूबसूरत इमारत को किसने किसके लिए बनाया, क्यों बनवाया, कैसे बनवाया और कहां बनवाया, ये बातें सभी लोग जानते हैं और इसे लेकर कई तरह के मत भी प्रचलित है, लेकिन कुछ बातें ऐसी हैं जिन्हें अधिकतर लोग नहीं जानते। हालांकि इंटरनेट के ज़माने में सबकुछ जान जाना आसान है, फिर भी जो नहीं जानते उनके लिए ताजमहल के इन रहस्यमयी तथ्यों पर नज़र डालना बेहद ज़रूरी है, जो इस खूबसूरत इमारत की चकाचौंध में दिखाई नहीं पड़ते।

सबसे पहली बात, जिसका रहस्य आज तक उजागर नहीं हुआ, वह ये कि ताजमहल के मकबरे की छत पर एक छेद है। मकबरे की छत के इस छेद से टपकती बूंद के पीछे कई रहस्य प्रचलित हैं, जिसमें सबसे प्रचलित रहस्य यह है, कि ताजमहल के बनने के बाद शाहजहां ने जब सभी मज़दूरों के हाथ काटने की घोषणा की, तो मजदूरों ने ताजमहल को पूरा करने के बावजूद इसमें एक ऐसी कमी छोड़ दी, जिससे शाहजहां का एक कंपलीट इमारत बनाने का सपना पूरा नहीं हो सके।

शाहजहां ने जब पहली बार ताजमहल का दीदार किया तो कहा, कि ‘ये इमारत सिर्फ प्यार की कहानी बयां नहीं करेगी, बल्कि उन सभी लोगों को दोषमुक्त करेगी जो मनुष्य का जनम लेकर हिन्दुस्तान की इस पाक ज़मीन पर अपने कदम रखेंगे और इसकी गवाही चांद-सितारे देंगे।’

कहा जाता है, कि जिन मजदूरों ने ताजमहल को बनाया था, शाहजहां ने उनके हाथ कटवा दिये थे। लेकिन इतिहास में वापिस लौटा जाये, तो ताजमहल के बाद भी कई इमारतों को बनवाने में उन लोगों ने अपना योगदान दिया जिन्होंने ताजमहल बनाया था। उस्ताद अहमद लाहौरी उस दल का हिस्सा थे, जिन्होंने ताजमहल जैसी भव्य इमारत का निर्माण किया था और उस्ताद अहमद की देखरेख में ही लाल किले के निर्माण का कार्य शुरू हुआ था।

यदि ताजमहल की मीनारों पर गौर किया जाये, तो आप देंखेंगे की चारों मीनारें सीधी खड़ी न होकर एक दूसरे की ओर झुकी हुई हैं। इमारतों का ये झुका हुआ निर्माण बिजली और भूकंप के दौरान मुख्य गुंबद पर न गिरने के लिए किया गया था। कुछ लोग तो कहते हैं, कि चारों मीनारें गुंबद को झुक कर सलाम कर रही हैं, इसीलिए झुकी हुई हैं।

क्या आपको मालूम है, कि एक बार ताजमहल को बेचा भी जा चुका है? बिहार के सुप्रसिद्ध ठग नटवरला के बारे में यह कहानी प्रचलित है, कि एक बार उसने ताजमहल को मंदिर बता कर बेच दिया था।

कहा जाता है, कि जिन मजदूरों ने ताजमहल को बनाया था, शाहजहां ने उनके हाथ कटवा दिये थे। लेकिन इतिहास में वापिस लौटा जाये, तो ताजमहल के बाद भी कई इमारतों को बनवाने में उन लोगों ने अपना योगदान दिया जिन्होंने ताजमहल बनाया था। उस्ताद अहमद लाहौरी उस दल का हिस्सा थे, जिन्होंने ताजमहल जैसी भव्य इमारत का निर्माण किया था और उस्ताद अहमद की देखरेख में ही लाल किले के निर्माण का कार्य शुरू हुआ था।

जब ताजमहल बना था, तो उसकी कलाकृति में 28 तरह के कीमती पत्थरों को लगाया गया था। उन पत्थरों को शाहजहां ने चीन, तिब्बत और श्रीलंका से मंगवाया था। ब्रिटिश काल के समय इन बेशकीमती पत्थरों को अग्रेजों ने निकाल लिया था, जिसके बारे में यह कहा जाता है, कि वे बेशकीमती पत्थर किसी की भी आंखें चौंधियाने की काबिलियत रखते थे।

किसी भी इमारत के बनने के पहले और बाद में, जो बात सबसे पहले हमारे मन में आती है, वो ये है, कि इस इमारत के निर्माण में खर्च कितना आया था? तो हम बता देते हैं, कि ताजमहल के बनने में 32 मिलियन खर्च हुए थे, जिसकी आज की कीमत 106.28 से भी अधिक है।

और सबसे मज़ेदार बात तो यह है, कि कुतुब मीनार नाम की जिस इमारत को हम सबसे ऊंची इमारत कहते हैं, ताजमहल उससे भी ऊंचा है। कुतुबमीनार को देश की सबसे ऊंची इमारत के तौर पर नापा जाता है, लेकिन इसकी ऊंचाई ताजमहल के सामने छोटी पड़ जाती है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार ताजमहल कुतुब मीनार से 5 फीट ज्यादा ऊंचा है।

ताजमह के प्रांगण में लगे सारे फव्वारे एक ही समय पर काम करते हैं, और सबसे अश्चर्य में डाल देने वाली बात ये है, कि ताजमहल में लगा हुआ कोई भी फव्वारा किसी पाईप से जुड़ा हुआ नहीं है, बल्कि हर फव्वारे के नीचे तांबे का टैंक बना हुआ है, जो एक ही समय पर भरता है और दबाव बनने पर एकसाथ काम करता है।

इस इमारत को देखने के लिए एक दिन में सबसे ज्यादा भीड़ इकट्ठी होती है। पूरी दुनिया में कोई ऐसी दूसरी इमारत नहीं है, जहां एक दिन में इतने सैलानी इकट्ठे होते हों। ताजमहल को देखने के लिए पूरी दुनिया से 12,000 के आसपास सैलानी हर रोज़ आगरा की ओर रवाना होते हैं।

शाहजहां के उस सपने के बारे में आपको मालूम है, जो उन्होंने अपनी बेग़म मुमताज महल के लिए नहीं, बल्कि अपने लिए देखा था। काले ताजमहल का सपना। शाहजहां चाहते थे, कि मुमताज के लिए बने सफेद तामहल के बाद वे अपने लिए काला ताजमहल बनवायें, लेकिन जब उन्हें उनके बेटे औरंगज़ेब ने कैद कर लिया तो ये सपना हमेशा-हमेशा के लिए सपना बनकर ही रह गया।

एक बात जो हैरान करती है वो ये है, कि ताजमहल का रंग बदलता है। ताजमहल अलग-अलग पहर में अलग अलग रंगों में दिखाई देता है और इस हैरानी की वजह है ताजमहल का संगमरमरीय सफेद रंग का होना। सफेद रंग हर रंग में मिल कर उसी का रंग ले लेता है। सुबह देखने पर ताजमह गुलाबी दिखता है, शाम को दूधिया सफेद, शाम होते-होते तक नारंगी और रात की चांदनी में सुनहरा दिखता है।

कहा जाता है, कि ताजमहल शाहजहां ने नही बल्कि समुद्रगुप्त ने छठवीं शताब्दी में बनवाया था। जिस जगह पर हम आज की तारीख में ताजमहल जैसी भव्य इमारत देख पा रहे हैं, वहां पहले शिव मंदिर था, जिसे तेजोमहालय के नाम से जाना जाता था और उसकी छत से टपकने वाले पानी शिव जी के शिवलिंग पर बूंद-बूंद करके टपकता था।

(किसी भी बात के पीछ कई तरह के रहस्य और मान्यताएं छुपी होती हैं। हमारी यह स्टोरी किसी भी तरह के सच के होने न होने का दावा नहीं करती। इस कॉलम के द्वारा हम सिर्फ उन चीज़ों के बारे में बात करेंगे, जो रहस्यमयी हैं और लोगों के कहे सुने पर आधारित हैं, इसलिए रहस्य अब भी बरकरार है।)

taj juma mubarka

फ्राइडे या शुक्रवार (जुम्मे) ताजमहल में हिन्दुओ को एंट्री नहीं मिलती, इस दिन मुस्लिमो का प्रवेश मुफ्त मिलती है !

दुनिया की सबसे खूबसूरत इमारतों में शुमार और दुनिया के आठ अजूबो में शामिल रहे ताजमहल के बारे में क्या आप ये सच्चाई जानते है, के इसमें हिन्दू और दूसरे धर्मो के लोगो को प्रवेश की अनुमति नही है. अगर आप इस दिन आगरा जाने और ताजमहल देखने का कार्यक्रम बना रहे है तो रद्द कर दीजिये.

हालाँकि ये जानकारी ताजमहल की वेबसाइट पर भी उपलब्ध है लेकिन इसमें इसका कोई कारन नही बताया गया है, और वो ये है ई शुक्रवार( जुम्मे के दिन) हिन्दू या दुनिया के और किसी भी धर्मावलम्बी को ताजमहल में जाने की इजाजत नही मिलती है. ऐसा क्यों है इसका कारन भी धार्मिक है और पता नही ये कब से शुरू किया गया है.

दरअसल शुक्रवार के दिन वंहा के मुस्लिम धर्म के लोग जुम्मे की नमाज ताजमहल में ही अदा करते है, और इस कारन किसी और धर्म के लोगों को इस दिन प्रवेश की इजाजत नही है. हालाँकि आप इस दिन बाकि हेरिटेज देख सकते है लेकिन ताजमहल में प्रवेश वर्जित होगा.

ये कब से शुरू हुआ है इसके बारे में कोई आधिकारिक जानकारी नही मिल गई है लेकिन अगर आप शुक्रवार के दिन ताजमहल देखने पहुँच गए तो आपको काफी फ़्रस्ट्रेटेड फील हो सकता है.

 

ताजमहल के बारें में फैलाई जा रही है ये झूठी बातें, जबकि ये है सच्चाई

दुनिया के सात अजूबों में से ताजमहल भी आता है, इसको बनाने वाले मुग़ल शासक शाहजहाँ ने अपनी बेगम मुमताजमहल की याद में बनवाया था। दुनियाभर में ताजमहल को एक प्रेम के प्रतीक के रूप में भी देखा जाता है। दुनियाभर के लोग इस अजूबे को देखने के लिए आते है, क्योंकि भारत में ऐसी कई प्राचीन इमारते है जिन्हें विदेशी पर्यटक देखना चाहते है और उनमें से सबसे पहले ताजमहल का ही नंबर आता है। ताजमहल का निर्माण उत्तर प्रदेश के आगरा में है और यह ताजमहल यमुना नदी के किनारे पर बना हुआ है जिसकी वजह से इसकी सुंदरता पर चार चाँद लग जाते है।

इस ताजमहल को बिलकुल सफ़ेद संगमरमर से बनाया गया है और इसे बनाने के लिए बीस हजार मजदूरों ने काम किया था और इसको बनाने में तकरीबन बीस साल का समय भी खर्च हुआ था। हमारे देश में ताजमहल को लेकर कई अफवाहे है और लोग उन्हें सच भी मानते है। जैसे कि, सबसे ज्यादा लोगों में यह भ्रम फैलाया गया है कि, ताजमहल को बनाने के बाद उन सभी मजदूरों के हाथ बादशाह ने कटवा दिए थे, लेकिन इस बात में ज़रा भी सच्चाई नहीं है और इसी तरह की हकीक़त बताने के लिए आज हम आपको ताजमहल के बारें में बताने जा रहे है।

अफवाह No1: ये अफवाह संघियों द्वारा फैलाई गई है कि, ताजमहल एक शिव मंदिर है।

ताजमहल एक शिव मंदिर है

ताजमहल एक शिव मंदिर है

हकीक़त: एएसआई ने आगरा के कोर्ट में जवाब देकर कहा कि, ताजमहल का निर्माण शाहजहाँ ने ही करवाया था और इसके हिन्दू मंदिर होने का कोई सबूत ही मौजूद नहीं है।

अफवाह No. 2 : ताज महल के बारें में यह अफवाह भी फैलाई जाती है कि, ‘ताज महल को भूत और जिन्न इसको बनने नहीं दे रहे थे।

ताज महल को भूत और जिन्न इसको बनने नहीं दे रहे थे

ताज महल को भूत और जिन्न इसको बनने नहीं दे रहे थे

ताज महल को भूत और जिन्न इसको बनने नहीं दे रहे थे

सच्चाई: एएसआई के एक ऑफिसर के अनुसार, भूतों और जिन्नों के जरिये से ताजमहल की नींव को क्षतिग्रस्त करने के कोई सबूत ही मौजूद नहीं है इसलिए यह सिर्फ एक अफवाह ही है।

अफवाह No3: ताजमहल के बारें में यह अफवाह भी फैलाई जाती है कि, ‘ताजमहल रंग बदलता है पूरे दिन भर में।

ताजमहल रंग बदलता है पूरे दिन भर में

 ताजमहल की हकीक़त

हकीक़त: लेकिन दरअसल हकीक़त ये है कि, ताजमहल सफ़ेद संगमरमर से बना हुआ है इसलिए सूरज की किरणें ताजमहल पर पड़ती है और दिन के हिसाब से सूरज में भी बदलाव होता है तो इसलिए ऐसा प्रतीत होता है कि, ताजमहल रंग बदल रहा है। वक़्त के हिसाब से भी ताजमहल सुबह-सवेरे के वक़्त सुनहरें रंग में नजर आता है और जब शाम की लाली छा जाती है तो इसका रंग कुछ गुलाबी नजर आता है।

अफवाह No 4: शाहजहाँ की बेगम मुमताज के बारें में यह अफवाह फैलाई जाती है कि, ताजमहल में शाहजहाँ की बेगम मुमताज की ममी दफन की हुई है।

ताजमहल में शाहजहाँ की बेगम मुमताज की ममी दफन की हुई है।

 ताजमहल की हकीक़त

हकीक़त: एएसआई के पास भी मुमताज की ममी के कोई सबूत नहीं है, दरअसल जब शाहजहाँ की बेगम मुमताज का इन्तेकाल हुआ था तब उनकी लाश को बुहारनपुर, इसके बाद फिर निर्माणाधीन ताजमहल के परिसर में दफन किया गया था, उसके 22 साल बाद शाहजहाँ की बेगम मुमताज को ताजमहल के मुख्य स्मारक में दफ़न किया गया।

अफवाह No 5: एक अफवाह ये भी फैलाई जाती है कि, ताजमहल को ख्वाब में देखकर इसका नक्शा तैयार किया गया था।

ताजमहल को ख्वाब में देखकर इसका नक्शा तैयार किया गया था।

 ताजमहल की हकीक़त

हकीक़त: जबकि सच्चाई ये है कि, ताजमहल को बनाने के लिए दुनियाभर के आर्किटेक्ट से मदद ली गई थी। लेकिन इस बात की पुख्ता जानकारी नहीं है कि, इसका डिजाईन किस आर्किटेक्ट ने तैयार किया था।

अफवाह No 6: शाहजहाँ के बारें में ताजमहल को लेकर यह अफवाह भी फैलाई जाती है कि, बादशाह काला ताजमहल का भी निर्माण करना चाहते थे।

शाहजहाँ काला ताजमहल का भी निर्माण करना चाहते थे।

 ताजमहल की हकीक़त

हकीक़त: एएसआई के अनुसार, काला ताजमहल को लेकर कोई पुख्ता सबूत नहीं है और यह कभी अस्तित्व में था ही नहीं और न ही इसके निर्माण को लेकर इसके कोई सबूत सामने आये है। बल्कि, यह कहानी तो वर्ष 1910 में गाइडों ने ही अपने आप गढ़ ली थी।

अफवाह No 7 : चांदनी रात को ताजमहल चमकने लगता है।

चांदनी रात को ताजमहल चमकने लगता है।

 ताजमहल की हकीक़त

हकीक़त: चांदनी रात में ताजमहल चमकने की हकीक़त ये है कि, इस इमारत को बनाने के लिए दुनियाभर के 28 तरह के पत्थरों से इसका निर्माण किया गया है। इन पत्थरों की ही ये खासियत है कि, जब शरद पूर्णिमा होती है तो उन पत्थरों की वजह से ताजमहल चमकता हुआ दिखाई देता है और बहुत ही खूबसूरत नजर आता है।

अफवाह No 8: बादशाह शाहजहाँ और उनकी बेगम मुमताज की कब्र पर पानी टपकता है।

मुमताज की कब्र पर पानी टपकता है।

 ताजमहल की हकीक़त

हकीक़त: उर्स के दौरान जब ताजमहल में भीड़ होती है तो इस दौरान नमी बढ़ जाती है और दीवार पर पानी की बूंदे आने लगती है। लेकिन जैसे ही भीड़ ख़त्म होती है तो वह बूंदे गायब हो जाती हैं।

अफवाह No 9: सबसे बड़ी अफवाह ये फैलाई जाती है कि, शाहजहाँ ने ताजमहल को बनाने के बाद 20 हजार कारीगरों के हाथों को कटवा दिया था।

ताजमहल को बनाने के बाद 20 हजार कारीगरों के हाथों को कटवा दिया था।

 ताजमहल की हकीक़त

हकीक़त: इतिहासकार राज किशोर के अनुसार, शाहजहाँ ने उनके हाथ नहीं काटे थे बल्कि, शाहजहाँ ने कारीगरों को आजीवन काम न करने का वडा लिया था और बदले में उन्हें पूरी जिंदगी वेतन देने का भी वादा किया। इसके अलावा एक बात यह भी सामने आती है कि, शाहजहाँ ने अपनी और कई इमारतें उन मजदूरों से ही बनवाई थी जिन्होंने ताजमहल का निर्माण किया था।

अफवाह No 10: शाहजहाँ की मृत्यु को लेकर भी यह अफवाह फैलाई जाती है कि, बादशाह की मौत उनकी बेगम की मौत के सदमे की वजह से हो गई थी।

शाहजहाँ की मृत्यु बेगम की मौत के सदमे की वजह से हो गई थी।

 ताजमहल की हकीक़त

हकीक़त: जबकि, सच्चाई ये है कि, शाहजहाँ की मौत की अफवाह के बाद उनके बेटों में युद्ध हो गया। इस लड़ाई में औरंगजेब की जीत हुई और उन्होंने शाहजहाँ को बंधी बना लिया और फिर उन्हें बीमारी लग गई जिसके कारण उनकी मृत्यु भी हो गई।

if you need more information about Honeymoon Holiday packages in India. Swan tours its best travel agents in Delhi From India. Delhi Sightseeing Tour by Car